Ek Achambha Prem

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ek Achambha Prem

Ek Achambha Prem

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुसुम खेमानी की ये कहानियाँ एकबारगी हमें उस संसार में ले जाती हैं, जिससे अब तक हमारा सामना प्राय: नहीं हुआ था। यहाँ आदिम और चिर-परिचित प्रेम अपने अचम्भेपन के साथ मौजूद है। ये कहानियाँ निर्वासितों के निर्वासन का प्रश्न उठाती हैं और प्रतिशोध को भी हिंसक के बजाय ‘सुन्दर’ रूप में प्रस्तुत करती हैं। दरअसल, यह कथाकार का निज अन्तस है, जो करुणा, प्रेम और सौन्दर्य से आपूरित है, और ‘उड़ान पिंजरे के परिन्दे की‘ की ‘मिसेज बाजोरिया’ जैसे चरित्रों में जब-तब प्रकट होता रहता है। वे सहसा 'घोंघा’ का प्रतीक उठाती हैं और दलितों-वंचितों के पक्ष में ‘घोंघा प्रसाद’ जैसी कहानियाँ लिखकर हमें चकित और हमारे चिर-परिचित कथा-आस्वाद में हस्तक्षेप कर देती हैं।
कुसुम खेमानी यथार्थ का तिरस्कार नहीं करतीं, पर उनकी कहानियाँ रचनात्मक अतिक्रम करती हुईं हमें आदर्श लोक में ले जाती हैं, जो शुरू में तो असम्भव लगता है, पर जल्द ही यह तथ्य दरवाज़े की तरह खुलने लगता है कि यह एक तरह की उस महाख्यान को जगाने की ज़िद है, जिसके बारे में कहा जाता है कि उसका अन्त हो चुका है, पर साहित्य का काम ही यह है कि वह उसे कल्पना में बचाए रखे, क्योंकि मानव जीवन के आदर्श और उच्चतर मूल्य यदि साहित्य में नहीं रचे-सहेजे जाएँगे, तो इनके लिए कौन सी जगह बची रहेगी। जो लोग साहित्य को विविध विधाओं में देखने के आदी हैं, उनके लिए कुसुम खेमानी की ये कहानियाँ एक बड़ी चुनौती की तरह हैं। इनकी प्रत्येक कहानी का अपना एक व्यक्तित्व है। यह एक बहुत ही महीन मिक्सर है, जो अनुभव, कल्पना, इतिहास, वर्तमान, श्रेष्ठता, नीचता आदि मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं को फेंटकर अनूठी चीज़ें पैदा कर देता है।
कुसुम जी का रचना क्षेत्र बहुआयामी है; और यही वजह है कि यहाँ वेद-पुराण के लिए भी जगह है और आधुनिक से आधुनिक विचार के लिए भी। यह एक नई आस्तिकता है, जो मनुष्य को ईश्वर से नहीं, मनुष्यता से जोड़ती है। भाषा संवाद का माध्यम है और संवाद जितना सीधा, सरल, पारदर्शी और आत्मीय हो उतना ही अच्छा है। यही कारण है कि कुसुम खेमानी की कहानियों में राजस्थानी, हरियाणवी, बांग्ला, अंग्रेज़ी, उर्दू, भोजपुरी और संस्कृत आदि भाषाओं के शब्द हिन्दी को बोलचाल की एक नई अर्थवत्ता और भंगिमा प्रदान करते हुए नदी की रवानगी की तरह बहते रहते हैं। इस भाषा में बतरस के बताशे-सी मिठास है, जो निस्सन्देह कथाकार की एक बड़ी उपलब्धि है। Kusum khemani ki ye kahaniyan ekbargi hamein us sansar mein le jati hain, jisse ab tak hamara samna pray: nahin hua tha. Yahan aadim aur chir-parichit prem apne achambhepan ke saath maujud hai. Ye kahaniyan nirvasiton ke nirvasan ka prashn uthati hain aur pratishodh ko bhi hinsak ke bajay ‘sundar’ rup mein prastut karti hain. Darasal, ye kathakar ka nij antas hai, jo karuna, prem aur saundarya se aapurit hai, aur ‘udan pinjre ke parinde ki‘ ki ‘misej bajoriya’ jaise charitron mein jab-tab prkat hota rahta hai. Ve sahsa ghongha’ ka prtik uthati hain aur daliton-vanchiton ke paksh mein ‘ghongha prsad’ jaisi kahaniyan likhkar hamein chakit aur hamare chir-parichit katha-asvad mein hastakshep kar deti hain. Kusum khemani yatharth ka tiraskar nahin kartin, par unki kahaniyan rachnatmak atikram karti huin hamein aadarsh lok mein le jati hain, jo shuru mein to asambhav lagta hai, par jald hi ye tathya darvaze ki tarah khulne lagta hai ki ye ek tarah ki us mahakhyan ko jagane ki zid hai, jiske bare mein kaha jata hai ki uska ant ho chuka hai, par sahitya ka kaam hi ye hai ki vah use kalpna mein bachaye rakhe, kyonki manav jivan ke aadarsh aur uchchtar mulya yadi sahitya mein nahin rache-saheje jayenge, to inke liye kaun si jagah bachi rahegi. Jo log sahitya ko vividh vidhaon mein dekhne ke aadi hain, unke liye kusum khemani ki ye kahaniyan ek badi chunauti ki tarah hain. Inki pratyek kahani ka apna ek vyaktitv hai. Ye ek bahut hi mahin miksar hai, jo anubhav, kalpna, itihas, vartman, shreshthta, nichta aadi manav jivan ke vibhinn pahaluon ko phentkar anuthi chizen paida kar deta hai.
Kusum ji ka rachna kshetr bahuayami hai; aur yahi vajah hai ki yahan ved-puran ke liye bhi jagah hai aur aadhunik se aadhunik vichar ke liye bhi. Ye ek nai aastikta hai, jo manushya ko iishvar se nahin, manushyta se jodti hai. Bhasha sanvad ka madhyam hai aur sanvad jitna sidha, saral, pardarshi aur aatmiy ho utna hi achchha hai. Yahi karan hai ki kusum khemani ki kahaniyon mein rajasthani, hariyanvi, bangla, angrezi, urdu, bhojapuri aur sanskrit aadi bhashaon ke shabd hindi ko bolchal ki ek nai arthvatta aur bhangima prdan karte hue nadi ki ravangi ki tarah bahte rahte hain. Is bhasha mein batras ke batashe-si mithas hai, jo nissandeh kathakar ki ek badi uplabdhi hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products