Look Inside
Eent Ke Upar Eent
Eent Ke Upar Eent

Eent Ke Upar Eent

Regular price Rs. 161
Sale price Rs. 161 Regular price Rs. 174
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Eent Ke Upar Eent

Eent Ke Upar Eent

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कलकत्ता और उसके आसपास के इलाक़ों में ईंट के भट्ठों पर आदिवासी बँधुआ मज़दूरों के क्रूर शोषण को इस कहानी-संग्रह में महाश्वेता देवी ने अपनी तीक्ष्ण दृष्टि और बेबाक क़लम से नंगा किया है। आदिवासी क्षेत्रों में सक्रिय ठेकेदारों, सरकारी नौकरशाहों और पुलिस की संगीन-बूटों की मार से लाचार भूखे-नंगे आदिवासी स्त्री-पुरुष, लड़के-लड़कियाँ अपने मूल निवासों से खदेड़े जाकर कैसे भट्ठों की जलती आग का ईंधन बनते हैं; भट्ठों के मालिकों के गुंडे, दलाल, कुटनियाँ और रेल-स्टेशनों के पिट्ठू किस तरह मिलकर उन्हें ईंट-भट्ठों तक लाते हैं; जंगल में छिपी नंगी आदिवासी लड़कियों को अच्छे भोजन, वस्त्र और अच्छी मज़दूरी का लालच किन अमानवीय स्थितियों तक घसीट लाता है; वहाँ कैसे उनके शरीर और मन का शोषण किया जाता है—इन सबका इन कहानियों में बेबाक चित्रण है। प्रताड़ितों में भी प्रताड़ित आदिवासी नारी के तन और मन की व्यथा को इस संकलन में विशेष रूप से उकेरा गया है। साथ ही उन आदिवासी क्रान्तिकारियों का आह्वान और उनके आह्वान से उद्वेलित मन का चित्रण भी बख़ूबी हुआ है।
आदिवासियों के शोषण के प्रति महाश्वेता जी का गहरा सरोकार इन कहानियों में और तीखा होकर उभरा है। क्रान्तिकारी दिशा-संकेत इन कहानियों को विशिष्ट दस्तावेज़ बनाते हैं। Kalkatta aur uske aaspas ke ilaqon mein iint ke bhatthon par aadivasi bandhua mazduron ke krur shoshan ko is kahani-sangrah mein mahashveta devi ne apni tikshn drishti aur bebak qalam se nanga kiya hai. Aadivasi kshetron mein sakriy thekedaron, sarkari naukarshahon aur pulis ki sangin-buton ki maar se lachar bhukhe-nange aadivasi stri-purush, ladke-ladakiyan apne mul nivason se khadede jakar kaise bhatthon ki jalti aag ka iindhan bante hain; bhatthon ke malikon ke gunde, dalal, kutaniyan aur rel-steshnon ke pitthu kis tarah milkar unhen iint-bhatthon tak late hain; jangal mein chhipi nangi aadivasi ladakiyon ko achchhe bhojan, vastra aur achchhi mazduri ka lalach kin amanviy sthitiyon tak ghasit lata hai; vahan kaise unke sharir aur man ka shoshan kiya jata hai—in sabka in kahaniyon mein bebak chitran hai. Prtaditon mein bhi prtadit aadivasi nari ke tan aur man ki vytha ko is sanklan mein vishesh rup se ukera gaya hai. Saath hi un aadivasi krantikariyon ka aahvan aur unke aahvan se udvelit man ka chitran bhi bakhubi hua hai. Aadivasiyon ke shoshan ke prati mahashveta ji ka gahra sarokar in kahaniyon mein aur tikha hokar ubhra hai. Krantikari disha-sanket in kahaniyon ko vishisht dastavez banate hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products