Dwabha

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Dwabha

Dwabha

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नामवर सिंह जीते-जी विशिष्ट शख़्सियत की देहरी लाँघकर एक लिविंग ‘लीजेंड' हो चुके थे। तमाम तरह के विवादों, आरोपों और विरोध के साथ असंख्य लोगों की प्रसंशा से लेकर ‘भक्ति-भाव तक को समान दूरी से स्वीकारने वाले नामवर जी ने पिछले दशकों में मंच से इतना बोला कि शोधकर्ता लगातार उनके व्याख्यानों को एकत्रित कर रहे हैं और पुस्तकों के रूप में पाठकों के सामने ला रहे हैं। यह पुस्तक भी इसी तरह का एक प्रयास है लेकिन इसे किसी शोधार्थी ने नहीं उनके पुत्र विजय प्रकाश ने संकलित किया है।
इस संकलन में मुख्यत: उनके व्याख्यान हैं और साथ ही विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लिखे-छपे उनके कुछ आलेख भी हैं। नामवर जी ने अपने जीवन-काल में कितने विषयों को अपने विचार और मनन विषय बनाया होगा, कहना मुश्किल है। अपने अपार और सतत अध्ययन तथा विस्मयकारी स्मृति के चलते साहित्य और समाज से लेकर दर्शन और राजनीति तक पर उन्होंने समान अधिकार से सोचा और बोला। इस पुस्तक में संकलित आलेख और व्याख्यान पुन: उनके सरोकारों की व्यापकता का प्रमाण देते हैं। इनमें हमें सांस्कृतिक बहुलतावाद, आधुनिकता, प्रगतिशील आन्दोलन, भारत की जातीय विविधता जैसे सामाजिक महत्त्व के विषयों के अलावा अनुवाद, कहानी का इतिहास, कविता और सौन्दर्यशास्त्र, पाठक और आलोचक के आपसी सम्बन्ध जैसे साहित्यिक विषयों पर भी आलेख और व्याख्यान पढ़ने को मिलेंगे।
पुस्तक में हिन्दी और उर्दू के लेखकों-रचनाकारों पर केन्द्रित आलेखों के लिए एक अलग खंड रखा गया है जिसमेँ पाठक मीरा, रहीम, संत तुकाराम, प्रेमचन्द, राहुल सांकृत्यायन, त्रिलोचन, हजारीप्रसाद द्विवेदी, महादेवी वर्मा, परसाई, श्रीलाल शुक्ल, ग़ालिब और सज्जाद ज़हीर जैसे व्यक्तित्वों पर कहीं संस्मरण के रूप में तो कहीं उन पर आलोचकीय निगाह से लिखा हुआ गद्य पढ़ेंगे।
बानगी के रूप में देश की सांस्कृतिक विविधता पर मँडरा रहे संकट पर नामवर जी का कहना है : ‘संस्कृति एकवचन शब्द नहीं है, संस्कृतियाँ होती हैं...सभ्यताएँ दो-चार होंगी लेकिन संस्कृतियाँ सैकड़ों होती हैँ...सांस्कृतिक बहुलता का नष्ट होते हुए देखकर चिन्ता होती है और फिर विचार के लिए आवश्यक स्रोत ढूँढ़ने पड़ते हैं।’ यह पुस्तक ऐसे ही विचार-स्रोतों का पुंज है। Namvar sinh jite-ji vishisht shakhsiyat ki dehri langhakar ek living ‘lijend ho chuke the. Tamam tarah ke vivadon, aaropon aur virodh ke saath asankhya logon ki prsansha se lekar ‘bhakti-bhav tak ko saman duri se svikarne vale namvar ji ne pichhle dashkon mein manch se itna bola ki shodhkarta lagatar unke vyakhyanon ko ekatrit kar rahe hain aur pustkon ke rup mein pathkon ke samne la rahe hain. Ye pustak bhi isi tarah ka ek pryas hai lekin ise kisi shodharthi ne nahin unke putr vijay prkash ne sanklit kiya hai. Is sanklan mein mukhyat: unke vyakhyan hain aur saath hi vibhinn patr-patrikaon mein likhe-chhape unke kuchh aalekh bhi hain. Namvar ji ne apne jivan-kal mein kitne vishyon ko apne vichar aur manan vishay banaya hoga, kahna mushkil hai. Apne apar aur satat adhyyan tatha vismaykari smriti ke chalte sahitya aur samaj se lekar darshan aur rajniti tak par unhonne saman adhikar se socha aur bola. Is pustak mein sanklit aalekh aur vyakhyan pun: unke sarokaron ki vyapakta ka prman dete hain. Inmen hamein sanskritik bahultavad, aadhunikta, pragatishil aandolan, bharat ki jatiy vividhta jaise samajik mahattv ke vishyon ke alava anuvad, kahani ka itihas, kavita aur saundaryshastr, pathak aur aalochak ke aapsi sambandh jaise sahityik vishyon par bhi aalekh aur vyakhyan padhne ko milenge.
Pustak mein hindi aur urdu ke lekhkon-rachnakaron par kendrit aalekhon ke liye ek alag khand rakha gaya hai jismen pathak mira, rahim, sant tukaram, premchand, rahul sankrityayan, trilochan, hajariprsad dvivedi, mahadevi varma, parsai, shrilal shukl, galib aur sajjad zahir jaise vyaktitvon par kahin sansmran ke rup mein to kahin un par aalochkiy nigah se likha hua gadya padhenge.
Bangi ke rup mein desh ki sanskritik vividhta par mandara rahe sankat par namvar ji ka kahna hai : ‘sanskriti ekavchan shabd nahin hai, sanskritiyan hoti hain. . . Sabhytayen do-char hongi lekin sanskritiyan saikdon hoti hain. . . Sanskritik bahulta ka nasht hote hue dekhkar chinta hoti hai aur phir vichar ke liye aavashyak srot dhundhane padte hain. ’ ye pustak aise hi vichar-sroton ka punj hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products