Dosti Ki Chhah

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Dosti Ki Chhah

Dosti Ki Chhah

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

दोस्ती की चाह अनेक देशों के नागरिकों की मातृभूमि बना हुआ सूरीनाम देश एक बहुजातीय, बहुसांस्कृतिक और बहुभासी देश है। सूरीनाम देश की राजषाभा डच है लेकिन अंग्रेज़ी, स्रानांग तोंगो, स्पेनिश, जावानीज़ और सरनामी इस देश के लोक व्यवहार और रोज़मर्रा की जीवन्त बोली-भाषाएँ हैं। इसीलिए कई देशों के निवासियों का संग्रहालय होने के कारण यह उनकी मातृभाषाओं का भी संग्रहालय
है।
सरनामी हिन्दी के प्रथम कवि जीत नाराइन ने कोलम्बिया में सन् 2001 ई. में हॉलैंड के रॉत्तर्दाम में आयोजित हुए पोयट्री इंटरनेशनल में सरनामी कवि के रूप में हिस्सा लिया। सन् 2002 ई. में कोलम्बिया में विश्व कविता सम्मेलन में सरनामी हिन्दी भाषा की कविता का प्रतिनिधित्व किया। सन् 2002 ई. में सूरीनाम देश के राष्ट्रपति श्री आर.आर. फ़ेनेत्शियान की ओर से सरनामी भाषा और साहित्य के लिए राष्ट्रपति सम्मान से अलंकृत हुए। 5 जून, 2003 ई. में सूरीनाम के आप्रवासी भारतवंशियों के एक सौ तीस वर्ष पूर्ण होने की स्मृति में आयोजित सातवें विश्व हिन्दी सम्मेलन के सम्मान-समारोह में अन्य देशों के साहित्य-सेवियों के साथ सरनामी हिन्दी भाषा और कवि के रूप में सम्मानित किए गए। इनका मानना है कि “सरनामी हिन्दी और हिन्दी की आधार शब्दावली एक-सी ही है, सिर्फ़ व्याकरण में अन्तर है...जो स्वाभाविक है। दो दिखनेवाली भाषाएँ मूलतः एक हैं, इनका स्रोत और प्राण एक ही है।” Dosti ki chah anek deshon ke nagarikon ki matribhumi bana hua surinam desh ek bahujatiy, bahusanskritik aur bahubhasi desh hai. Surinam desh ki rajshabha dach hai lekin angrezi, sranang tongo, spenish, javaniz aur sarnami is desh ke lok vyavhar aur rozmarra ki jivant boli-bhashayen hain. Isiliye kai deshon ke nivasiyon ka sangrhalay hone ke karan ye unki matribhashaon ka bhi sangrhalayHai.
Sarnami hindi ke prtham kavi jit narain ne kolambiya mein san 2001 ii. Mein haulaind ke rauttardam mein aayojit hue poyatri intarneshnal mein sarnami kavi ke rup mein hissa liya. San 2002 ii. Mein kolambiya mein vishv kavita sammelan mein sarnami hindi bhasha ki kavita ka pratinidhitv kiya. San 2002 ii. Mein surinam desh ke rashtrapati shri aar. Aar. Fenetshiyan ki or se sarnami bhasha aur sahitya ke liye rashtrapati samman se alankrit hue. 5 jun, 2003 ii. Mein surinam ke aaprvasi bharatvanshiyon ke ek sau tis varsh purn hone ki smriti mein aayojit satven vishv hindi sammelan ke samman-samaroh mein anya deshon ke sahitya-seviyon ke saath sarnami hindi bhasha aur kavi ke rup mein sammanit kiye ge. Inka manna hai ki “sarnami hindi aur hindi ki aadhar shabdavli ek-si hi hai, sirf vyakran mein antar hai. . . Jo svabhavik hai. Do dikhnevali bhashayen mulatः ek hain, inka srot aur pran ek hi hai. ”

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products