BackBack
-11%

Doosari Kahani

Rs. 495 Rs. 441

कलि-कथा: वाया बाइपास (1998) उपन्यास के लिए विशेष रूप से चर्चित तथा साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित युवा कथाकार अलका सरावगी की कहानियों का दूसरा संग्रह दूसरी कहानी समकालीन कहानी के प्रचलित ढर्रे से अलग जाकर कहानी के लिए एक नई संभावना का संकेत है। जिस तरह कहानी की तलाश... Read More

BlackBlack
Description

कलि-कथा: वाया बाइपास (1998) उपन्यास के लिए विशेष रूप से चर्चित तथा साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित युवा कथाकार अलका सरावगी की कहानियों का दूसरा संग्रह दूसरी कहानी समकालीन कहानी के प्रचलित ढर्रे से अलग जाकर कहानी के लिए एक नई संभावना का संकेत है। जिस तरह कहानी की तलाश में (1996) शीर्षक से प्रकाशित पहले कहानी-संग्रह में शामिल इसी नाम की कहानी कहानी को तलाश भी बनाती थी और इकहरे से अधिक गहरे गुमनाम प्रसंगों में जाने की हिकमतों का आभास कराती थी, उसी तरह दूसरी कहानी संग्रह की इसी नाम की कहानी कहानी को एक और तरह की कहानी बनाने की कोशिश है।
दूसरी कहानी संग्रह की कहानियाँ यथार्थ को तथ्य-सीमित करने की रूढ़ि को ध्वस्त करती हैं। घटनाओं का बोझिल आडंबर छोड़कर वे कहानी विधा की नई मुक्ति का ऐसा संकेत देती हैं कि हम कहानी को गद्य-कथा या कथा-निबंध की तरह पढ़ सकें। वे तथाकथित यथार्थवादी कहानी के ढाँचे को विचलित कर मानव- व्यवहार और प्रकृति के आधे-अधूरे प्रारूप या पाठ की तरह दिख सकती हैं। इसी अधूरेपन, इसी अनहोनी में अलका सरावगी की कहानियों का अर्थ छिपा है।
दूसरी कहानी संग्रह की कहानियाँ (‘पार्टनर’, ‘एक पेड़ की मौत’, ‘दूसरे किष्ले में औरत’, ‘यह रहगुज़र न होती’, ‘रिपन स्ट्रीटेर परवीन अख्तर’, ‘कनफ़ेशन’) संकेत हैं कि शायद जीवन-पूर्णता या सार्थकता की संभावना इसी अपूर्णता या अधूरेपन में है। देखने की चीज़ यह है कि इस कथा-कल्पना में क्रीड़ा-वृत्ति या विनोद-वृत्ति स्थगित नहीं है, पर वह प्रायः एक तरह के जीवन विषाद या अवसाद का ही मार्मिक प्रत्यक्ष है। इस अवसाद को महान बनाने की भावुकता से मुक्त अलका सरावगी का कथा-मार्ग साधारण या मामूली पर भरोसा टिकाता है जो फिर इस ओर इशारा है कि साधारण में ही छिपा है ग़ैर-साधारण या असाधारण का मर्म।
–परमानंद श्रीवास्तव Kali-katha: vaya baipas (1998) upanyas ke liye vishesh rup se charchit tatha sahitya akadmi puraskar se sammanit yuva kathakar alka saravgi ki kahaniyon ka dusra sangrah dusri kahani samkalin kahani ke prachlit dharre se alag jakar kahani ke liye ek nai sambhavna ka sanket hai. Jis tarah kahani ki talash mein (1996) shirshak se prkashit pahle kahani-sangrah mein shamil isi naam ki kahani kahani ko talash bhi banati thi aur ikahre se adhik gahre gumnam prsangon mein jane ki hikamton ka aabhas karati thi, usi tarah dusri kahani sangrah ki isi naam ki kahani kahani ko ek aur tarah ki kahani banane ki koshish hai. Dusri kahani sangrah ki kahaniyan yatharth ko tathya-simit karne ki rudhi ko dhvast karti hain. Ghatnaon ka bojhil aadambar chhodkar ve kahani vidha ki nai mukti ka aisa sanket deti hain ki hum kahani ko gadya-katha ya katha-nibandh ki tarah padh saken. Ve tathakthit yatharthvadi kahani ke dhanche ko vichlit kar manav- vyavhar aur prkriti ke aadhe-adhure prarup ya path ki tarah dikh sakti hain. Isi adhurepan, isi anhoni mein alka saravgi ki kahaniyon ka arth chhipa hai.
Dusri kahani sangrah ki kahaniyan (‘partnar’, ‘ek ped ki maut’, ‘dusre kishle mein aurat’, ‘yah rahaguzar na hoti’, ‘ripan striter parvin akhtar’, ‘kanfeshan’) sanket hain ki shayad jivan-purnta ya sarthakta ki sambhavna isi apurnta ya adhurepan mein hai. Dekhne ki chiz ye hai ki is katha-kalpna mein krida-vritti ya vinod-vritti sthgit nahin hai, par vah prayः ek tarah ke jivan vishad ya avsad ka hi marmik pratyaksh hai. Is avsad ko mahan banane ki bhavukta se mukt alka saravgi ka katha-marg sadharan ya mamuli par bharosa tikata hai jo phir is or ishara hai ki sadharan mein hi chhipa hai gair-sadharan ya asadharan ka marm.
–parmanand shrivastav