Look Inside
Door Se Dekha Hua
Door Se Dekha Hua
Door Se Dekha Hua
Door Se Dekha Hua

Door Se Dekha Hua

Regular price Rs. 605
Sale price Rs. 605 Regular price Rs. 650
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Door Se Dekha Hua

Door Se Dekha Hua

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सामाजिक विडम्बनाओं, विसंगतियों, आर्थिक विषमताओं से उपजी भयावह स्थितियों का संवेदनशील अवलोकन करती कहानियाँ।
अन्याय, शोषण और ग़रीबी के साथ हो रहे ज़ुल्मों को रेखांकित कर ये कहानियाँ यह भी सोचने पर विवश करती हैं कि आज़ाद मुल्क में अन्तिम आदमी के लिए संविधान द्वारा किए गए वादों को कितना पूरा किया गया है? समतामूलक समाज का सपना आज किस दशा में है और ग़रीबी उन्मूलन की कल्पना कहाँ धराशायी हो गई है?
सदियों से नारी पूजनीय तो है पर उसे पुरुष समाज ने अपेक्षित आदर नहीं दिया, बल्कि अपनी जिस्मानी आग में उसकी आहुति देता रहा। ग़रीब समाज की लड़कियों के पेट की भूख तो तन ही बेच कर बुझती है! ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण नारकीय जीवन स्थितियों के मार्मिक दस्तावेज़ भी इन कहानियों में मिलेंगे।
लेखक ने अपनी इन कहानियों के माध्यम से समाज के साथ उस संस्कृति का भी परिचय कराया है जो आज विलुप्त होने की स्थिति में है, अतीत का हिस्सा बनती जा रही है।
संग्रह की कुछ कहानियों में देशज और लोक-प्रचलित शब्दों का प्रयोग विशेष ध्यान खींचता है।
बहुरंगी और विविध भावना-संसार की सर्जना करनेवाली पठनीय कहानियों का एक सम्पूर्ण और संग्रहणीय संकलन। Samajik vidambnaon, visangatiyon, aarthik vishamtaon se upji bhayavah sthitiyon ka sanvedanshil avlokan karti kahaniyan. Anyay, shoshan aur garibi ke saath ho rahe zulmon ko rekhankit kar ye kahaniyan ye bhi sochne par vivash karti hain ki aazad mulk mein antim aadmi ke liye sanvidhan dvara kiye ge vadon ko kitna pura kiya gaya hai? samtamulak samaj ka sapna aaj kis dasha mein hai aur garibi unmulan ki kalpna kahan dharashayi ho gai hai?
Sadiyon se nari pujniy to hai par use purush samaj ne apekshit aadar nahin diya, balki apni jismani aag mein uski aahuti deta raha. Garib samaj ki ladakiyon ke pet ki bhukh to tan hi bech kar bujhti hai! aisi durbhagypurn narkiy jivan sthitiyon ke marmik dastavez bhi in kahaniyon mein milenge.
Lekhak ne apni in kahaniyon ke madhyam se samaj ke saath us sanskriti ka bhi parichay karaya hai jo aaj vilupt hone ki sthiti mein hai, atit ka hissa banti ja rahi hai.
Sangrah ki kuchh kahaniyon mein deshaj aur lok-prachlit shabdon ka pryog vishesh dhyan khinchta hai.
Bahurangi aur vividh bhavna-sansar ki sarjna karnevali pathniy kahaniyon ka ek sampurn aur sangrahniy sanklan.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products