BackBack

Doobte Mastool

Shrinaresh Mehta

Rs. 95 – Rs. 300

परिस्थितियों के संघात से टूटती-बनती एक अप्रतिम सुन्दर नारी की विवश-गाथा का प्रतीक नाम है—‘डूबते मस्तूल’। वस्तुत: नारी की यह विवशता किसी भी युग में कम नहीं हुई है। उसका विन्यास परिवेश के बदलने के साथ कुछ परिवर्तित भले ही लगे, पर पुरुष कभी उसे वही स्थान और मान्यता नहीं... Read More

PaperbackPaperback
HardboundHardbound
Rs. 95
readsample_tab

परिस्थितियों के संघात से टूटती-बनती एक अप्रतिम सुन्दर नारी की विवश-गाथा का प्रतीक नाम है—‘डूबते मस्तूल’। वस्तुत: नारी की यह विवशता किसी भी युग में कम नहीं हुई है। उसका विन्यास परिवेश के बदलने के साथ कुछ परिवर्तित भले ही लगे, पर पुरुष कभी उसे वही स्थान और मान्यता नहीं देता जो वह किसी अन्य पुरुष को देता है। स्वयं नारी को अपने इस भोग्या स्वरूप से कितना विद्रोह है पर प्रकृति के विधान का उल्लंघन कर पाना एक सनातन समस्या है। अपने इस प्रथम उपन्यास ‘डूबते मस्तूल’ में नरेश जी ने नारी के एक प्रखर स्वरूप को भावनाओं और घटनाओं, के माध्यम से जब प्रस्तुत किया था सन् 1954 में, तभी से इसकी नायिका रंजना हिन्दी-उपन्यास के पाठकों की स्मृति बन गई। Paristhitiyon ke sanghat se tutti-banti ek aprtim sundar nari ki vivash-gatha ka prtik naam hai—‘dubte mastul’. Vastut: nari ki ye vivashta kisi bhi yug mein kam nahin hui hai. Uska vinyas parivesh ke badalne ke saath kuchh parivartit bhale hi lage, par purush kabhi use vahi sthan aur manyta nahin deta jo vah kisi anya purush ko deta hai. Svayan nari ko apne is bhogya svrup se kitna vidroh hai par prkriti ke vidhan ka ullanghan kar pana ek sanatan samasya hai. Apne is prtham upanyas ‘dubte mastul’ mein naresh ji ne nari ke ek prkhar svrup ko bhavnaon aur ghatnaon, ke madhyam se jab prastut kiya tha san 1954 mein, tabhi se iski nayika ranjna hindi-upanyas ke pathkon ki smriti ban gai.

Description

परिस्थितियों के संघात से टूटती-बनती एक अप्रतिम सुन्दर नारी की विवश-गाथा का प्रतीक नाम है—‘डूबते मस्तूल’। वस्तुत: नारी की यह विवशता किसी भी युग में कम नहीं हुई है। उसका विन्यास परिवेश के बदलने के साथ कुछ परिवर्तित भले ही लगे, पर पुरुष कभी उसे वही स्थान और मान्यता नहीं देता जो वह किसी अन्य पुरुष को देता है। स्वयं नारी को अपने इस भोग्या स्वरूप से कितना विद्रोह है पर प्रकृति के विधान का उल्लंघन कर पाना एक सनातन समस्या है। अपने इस प्रथम उपन्यास ‘डूबते मस्तूल’ में नरेश जी ने नारी के एक प्रखर स्वरूप को भावनाओं और घटनाओं, के माध्यम से जब प्रस्तुत किया था सन् 1954 में, तभी से इसकी नायिका रंजना हिन्दी-उपन्यास के पाठकों की स्मृति बन गई। Paristhitiyon ke sanghat se tutti-banti ek aprtim sundar nari ki vivash-gatha ka prtik naam hai—‘dubte mastul’. Vastut: nari ki ye vivashta kisi bhi yug mein kam nahin hui hai. Uska vinyas parivesh ke badalne ke saath kuchh parivartit bhale hi lage, par purush kabhi use vahi sthan aur manyta nahin deta jo vah kisi anya purush ko deta hai. Svayan nari ko apne is bhogya svrup se kitna vidroh hai par prkriti ke vidhan ka ullanghan kar pana ek sanatan samasya hai. Apne is prtham upanyas ‘dubte mastul’ mein naresh ji ne nari ke ek prkhar svrup ko bhavnaon aur ghatnaon, ke madhyam se jab prastut kiya tha san 1954 mein, tabhi se iski nayika ranjna hindi-upanyas ke pathkon ki smriti ban gai.

Additional Information
Book Type

Paperback, Hardbound

Publisher Lokbharti Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8180317224
Pages 159p
Publishing Year

Doobte Mastool

परिस्थितियों के संघात से टूटती-बनती एक अप्रतिम सुन्दर नारी की विवश-गाथा का प्रतीक नाम है—‘डूबते मस्तूल’। वस्तुत: नारी की यह विवशता किसी भी युग में कम नहीं हुई है। उसका विन्यास परिवेश के बदलने के साथ कुछ परिवर्तित भले ही लगे, पर पुरुष कभी उसे वही स्थान और मान्यता नहीं देता जो वह किसी अन्य पुरुष को देता है। स्वयं नारी को अपने इस भोग्या स्वरूप से कितना विद्रोह है पर प्रकृति के विधान का उल्लंघन कर पाना एक सनातन समस्या है। अपने इस प्रथम उपन्यास ‘डूबते मस्तूल’ में नरेश जी ने नारी के एक प्रखर स्वरूप को भावनाओं और घटनाओं, के माध्यम से जब प्रस्तुत किया था सन् 1954 में, तभी से इसकी नायिका रंजना हिन्दी-उपन्यास के पाठकों की स्मृति बन गई। Paristhitiyon ke sanghat se tutti-banti ek aprtim sundar nari ki vivash-gatha ka prtik naam hai—‘dubte mastul’. Vastut: nari ki ye vivashta kisi bhi yug mein kam nahin hui hai. Uska vinyas parivesh ke badalne ke saath kuchh parivartit bhale hi lage, par purush kabhi use vahi sthan aur manyta nahin deta jo vah kisi anya purush ko deta hai. Svayan nari ko apne is bhogya svrup se kitna vidroh hai par prkriti ke vidhan ka ullanghan kar pana ek sanatan samasya hai. Apne is prtham upanyas ‘dubte mastul’ mein naresh ji ne nari ke ek prkhar svrup ko bhavnaon aur ghatnaon, ke madhyam se jab prastut kiya tha san 1954 mein, tabhi se iski nayika ranjna hindi-upanyas ke pathkon ki smriti ban gai.