Look Inside
Divya Kaidkhane Mein
Divya Kaidkhane Mein
Divya Kaidkhane Mein
Divya Kaidkhane Mein

Divya Kaidkhane Mein

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Divya Kaidkhane Mein

Divya Kaidkhane Mein

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पिछले लगभग एक दशक से राकेश रंजन की कविताएँ पढ़ता रहा हूँ। इधर जो युवा हस्ताक्षर उभरकर आए हैं, उनमें वे कई दृष्टियों से मुझे अत्यन्त महत्त्वपूर्ण लगते रहे हैं। उनके पिछले दो संग्रहों की कविताएँ भी मैंने चाव से पढ़ी थीं और अब यह संग्रह 'दिव्य क़ैदख़ाने में' सामने है। सबसे पहले तो इस शीर्षक ने ही मेरा ध्यान आकर्षित किया, जिसमें एक गहरी व्यंजना छिपी हुई है और आज की राजनीतिक स्थिति को देखते हुए इसकी व्यंजकता और बढ़ जाती है।
राकेश रंजन में कुछ बातें ऐसी हैं, जो उन्हें अपनी पीढ़ी से एकदम पृथक् व्यक्तित्व प्रदान करती हैं। यह बात विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि इस कवि ने हिन्दी कविता की परम्परा के सकारात्मक तत्त्वों को एक गहरे काव्य-विवेक के साथ न केवल आत्मसात् किया है, बल्कि उसे एक नया आयाम देने का भी प्रयास किया है। इस संग्रह के पाठकों से यह बात अलक्षित नहीं रह जाएगी कि इस कवि का मुख्य स्वर व्यंग्य और विडम्बना से भरा है और शायद यह इस गड्डमड्ड समय को व्यक्त करने का सबसे भरोसेमन्द हथियार भी है। इस ज़मीन पर राकेश रंजन अकेले खड़े हैं और मुझे लगता है कि इस बिन्दु पर वे नागार्जुन की परम्परा के अन्यतम उत्तराधिकारी कहे जा सकते हैं। उन्हीं की भाँति इस कवि ने छन्द और बेछन्द दोनों का पूरी सामर्थ्य के साथ इस्तेमाल किया है। इस संग्रह में मुझे यह देखकर विशेष रूप से प्रसन्नता हुई कि इस युवा कवि ने शायद पहली बार कवित्त-जैसे लगभग छोड़ दिए गए छन्द को एक नई भंगिमा के साथ अपनी कविता में अवतरित किया है। एक और अन्य वैशिष्ट्य भी अलग से रेखांकित किया जा सकता है कि राकेश रंजन गहरे अर्थ में एक राजनीतिक-चेतना-सम्पन्न कवि हैं और यहाँ भी वे नागार्जुन की परम्परा के ही वाहक दिखाई पड़ते हैं।
मुझे विश्वास है कि 'दिव्य क़ैदख़ाने में' की कविताएँ समकालीन हिन्दी कविता के पाठक को एक नई काव्यात्मक उत्तेजना प्रदान करेंगी और किसी हद तक आज की कविता को एक नई दिशा की ओर ले जाती हुई प्रतीत होंगी।
—केदारनाथ सिंह Pichhle lagbhag ek dashak se rakesh ranjan ki kavitayen padhta raha hun. Idhar jo yuva hastakshar ubharkar aae hain, unmen ve kai drishtiyon se mujhe atyant mahattvpurn lagte rahe hain. Unke pichhle do sangrhon ki kavitayen bhi mainne chav se padhi thin aur ab ye sangrah divya qaidkhane men samne hai. Sabse pahle to is shirshak ne hi mera dhyan aakarshit kiya, jismen ek gahri vyanjna chhipi hui hai aur aaj ki rajnitik sthiti ko dekhte hue iski vyanjakta aur badh jati hai. Rakesh ranjan mein kuchh baten aisi hain, jo unhen apni pidhi se ekdam prithak vyaktitv prdan karti hain. Ye baat vishesh rup se ullekhniy hai ki is kavi ne hindi kavita ki parampra ke sakaratmak tattvon ko ek gahre kavya-vivek ke saath na keval aatmsat kiya hai, balki use ek naya aayam dene ka bhi pryas kiya hai. Is sangrah ke pathkon se ye baat alakshit nahin rah jayegi ki is kavi ka mukhya svar vyangya aur vidambna se bhara hai aur shayad ye is gaddmadd samay ko vyakt karne ka sabse bharosemand hathiyar bhi hai. Is zamin par rakesh ranjan akele khade hain aur mujhe lagta hai ki is bindu par ve nagarjun ki parampra ke anytam uttradhikari kahe ja sakte hain. Unhin ki bhanti is kavi ne chhand aur bechhand donon ka puri samarthya ke saath istemal kiya hai. Is sangrah mein mujhe ye dekhkar vishesh rup se prsannta hui ki is yuva kavi ne shayad pahli baar kavitt-jaise lagbhag chhod diye ge chhand ko ek nai bhangima ke saath apni kavita mein avatrit kiya hai. Ek aur anya vaishishtya bhi alag se rekhankit kiya ja sakta hai ki rakesh ranjan gahre arth mein ek rajnitik-chetna-sampann kavi hain aur yahan bhi ve nagarjun ki parampra ke hi vahak dikhai padte hain.
Mujhe vishvas hai ki divya qaidkhane men ki kavitayen samkalin hindi kavita ke pathak ko ek nai kavyatmak uttejna prdan karengi aur kisi had tak aaj ki kavita ko ek nai disha ki or le jati hui prtit hongi.
—kedarnath sinh

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products