Divya

Yashpal

Rs. 695

मार्क्सवादी चिन्तक और वैचारिक प्रतिबद्धता को बुद्धि का सर्वश्रेष्ठ अनुशासन माननेवाले कथाकार यशपाल के सरोकारों में भारतीय सामाजिक संरचना में स्त्री की यातना और व्यक्तित्व का प्रश्न हमेशा प्रमुख रहा है। ‘दिव्या’ (1945) में यशपाल ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में स्त्री की पीड़ा के सामाजिक कारणों की तलाश करते हैं। उनका मानना... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

मार्क्सवादी चिन्तक और वैचारिक प्रतिबद्धता को बुद्धि का सर्वश्रेष्ठ अनुशासन माननेवाले कथाकार यशपाल के सरोकारों में भारतीय सामाजिक संरचना में स्त्री की यातना और व्यक्तित्व का प्रश्न हमेशा प्रमुख रहा है।
‘दिव्या’ (1945) में यशपाल ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में स्त्री की पीड़ा के सामाजिक कारणों की तलाश करते हैं। उनका मानना है कि ‘इतिहास विश्वास की नहीं, विश्लेषण की वस्तु है।...अतीत में अपनी रचनात्मक सामर्थ्य और परिस्थितियों के सुलझाव और रचना के लिए निर्देश पाती हैं।’ ‘दिव्या’ में लेखक सागल के गणसमाज को केन्द्र में रखकर पृथुसेन, मारिश और दिव्या के माध्यम से तत्कालीन सामाजिक अन्तर्विरोधों की गहन पड़ताल करता है। न तो वर्णाश्रम व्यवस्था पर आधारित सामन्ती समाज ही स्त्री को सम्मान और सुरक्षा दे सकता है और न बौद्ध धर्म जो स्त्री के स्वतंत्र व्यक्तित्व को ही शंका की निगाह से देखता है।
अपनी प्रदत्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में ‘दिव्या’ सामाजिक संरचना के मूल अन्तर्विरोधों को रेखांकित करते हुए अपनी तेजस्विता से परिवर्तन के लिए निर्णायक संघर्ष भी करती है। अपनी सन्तुलित सोच के साथ वह हमारे समकालीन नारी-विमर्श के लिहाज़ से भी एक विचारणीय प्रस्ताव लेकर आती है। Marksvadi chintak aur vaicharik pratibaddhta ko buddhi ka sarvashreshth anushasan mannevale kathakar yashpal ke sarokaron mein bhartiy samajik sanrachna mein stri ki yatna aur vyaktitv ka prashn hamesha prmukh raha hai. ‘divya’ (1945) mein yashpal aitihasik prishthbhumi mein stri ki pida ke samajik karnon ki talash karte hain. Unka manna hai ki ‘itihas vishvas ki nahin, vishleshan ki vastu hai. . . . Atit mein apni rachnatmak samarthya aur paristhitiyon ke suljhav aur rachna ke liye nirdesh pati hain. ’ ‘divya’ mein lekhak sagal ke ganasmaj ko kendr mein rakhkar prithusen, marish aur divya ke madhyam se tatkalin samajik antarvirodhon ki gahan padtal karta hai. Na to varnashram vyvastha par aadharit samanti samaj hi stri ko samman aur suraksha de sakta hai aur na bauddh dharm jo stri ke svtantr vyaktitv ko hi shanka ki nigah se dekhta hai.
Apni prdatt aitihasik prishthbhumi mein ‘divya’ samajik sanrachna ke mul antarvirodhon ko rekhankit karte hue apni tejasvita se parivartan ke liye nirnayak sangharsh bhi karti hai. Apni santulit soch ke saath vah hamare samkalin nari-vimarsh ke lihaz se bhi ek vicharniy prastav lekar aati hai.

Description

मार्क्सवादी चिन्तक और वैचारिक प्रतिबद्धता को बुद्धि का सर्वश्रेष्ठ अनुशासन माननेवाले कथाकार यशपाल के सरोकारों में भारतीय सामाजिक संरचना में स्त्री की यातना और व्यक्तित्व का प्रश्न हमेशा प्रमुख रहा है।
‘दिव्या’ (1945) में यशपाल ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में स्त्री की पीड़ा के सामाजिक कारणों की तलाश करते हैं। उनका मानना है कि ‘इतिहास विश्वास की नहीं, विश्लेषण की वस्तु है।...अतीत में अपनी रचनात्मक सामर्थ्य और परिस्थितियों के सुलझाव और रचना के लिए निर्देश पाती हैं।’ ‘दिव्या’ में लेखक सागल के गणसमाज को केन्द्र में रखकर पृथुसेन, मारिश और दिव्या के माध्यम से तत्कालीन सामाजिक अन्तर्विरोधों की गहन पड़ताल करता है। न तो वर्णाश्रम व्यवस्था पर आधारित सामन्ती समाज ही स्त्री को सम्मान और सुरक्षा दे सकता है और न बौद्ध धर्म जो स्त्री के स्वतंत्र व्यक्तित्व को ही शंका की निगाह से देखता है।
अपनी प्रदत्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में ‘दिव्या’ सामाजिक संरचना के मूल अन्तर्विरोधों को रेखांकित करते हुए अपनी तेजस्विता से परिवर्तन के लिए निर्णायक संघर्ष भी करती है। अपनी सन्तुलित सोच के साथ वह हमारे समकालीन नारी-विमर्श के लिहाज़ से भी एक विचारणीय प्रस्ताव लेकर आती है। Marksvadi chintak aur vaicharik pratibaddhta ko buddhi ka sarvashreshth anushasan mannevale kathakar yashpal ke sarokaron mein bhartiy samajik sanrachna mein stri ki yatna aur vyaktitv ka prashn hamesha prmukh raha hai. ‘divya’ (1945) mein yashpal aitihasik prishthbhumi mein stri ki pida ke samajik karnon ki talash karte hain. Unka manna hai ki ‘itihas vishvas ki nahin, vishleshan ki vastu hai. . . . Atit mein apni rachnatmak samarthya aur paristhitiyon ke suljhav aur rachna ke liye nirdesh pati hain. ’ ‘divya’ mein lekhak sagal ke ganasmaj ko kendr mein rakhkar prithusen, marish aur divya ke madhyam se tatkalin samajik antarvirodhon ki gahan padtal karta hai. Na to varnashram vyvastha par aadharit samanti samaj hi stri ko samman aur suraksha de sakta hai aur na bauddh dharm jo stri ke svtantr vyaktitv ko hi shanka ki nigah se dekhta hai.
Apni prdatt aitihasik prishthbhumi mein ‘divya’ samajik sanrachna ke mul antarvirodhon ko rekhankit karte hue apni tejasvita se parivartan ke liye nirnayak sangharsh bhi karti hai. Apni santulit soch ke saath vah hamare samkalin nari-vimarsh ke lihaz se bhi ek vicharniy prastav lekar aati hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Divya

मार्क्सवादी चिन्तक और वैचारिक प्रतिबद्धता को बुद्धि का सर्वश्रेष्ठ अनुशासन माननेवाले कथाकार यशपाल के सरोकारों में भारतीय सामाजिक संरचना में स्त्री की यातना और व्यक्तित्व का प्रश्न हमेशा प्रमुख रहा है।
‘दिव्या’ (1945) में यशपाल ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में स्त्री की पीड़ा के सामाजिक कारणों की तलाश करते हैं। उनका मानना है कि ‘इतिहास विश्वास की नहीं, विश्लेषण की वस्तु है।...अतीत में अपनी रचनात्मक सामर्थ्य और परिस्थितियों के सुलझाव और रचना के लिए निर्देश पाती हैं।’ ‘दिव्या’ में लेखक सागल के गणसमाज को केन्द्र में रखकर पृथुसेन, मारिश और दिव्या के माध्यम से तत्कालीन सामाजिक अन्तर्विरोधों की गहन पड़ताल करता है। न तो वर्णाश्रम व्यवस्था पर आधारित सामन्ती समाज ही स्त्री को सम्मान और सुरक्षा दे सकता है और न बौद्ध धर्म जो स्त्री के स्वतंत्र व्यक्तित्व को ही शंका की निगाह से देखता है।
अपनी प्रदत्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में ‘दिव्या’ सामाजिक संरचना के मूल अन्तर्विरोधों को रेखांकित करते हुए अपनी तेजस्विता से परिवर्तन के लिए निर्णायक संघर्ष भी करती है। अपनी सन्तुलित सोच के साथ वह हमारे समकालीन नारी-विमर्श के लिहाज़ से भी एक विचारणीय प्रस्ताव लेकर आती है। Marksvadi chintak aur vaicharik pratibaddhta ko buddhi ka sarvashreshth anushasan mannevale kathakar yashpal ke sarokaron mein bhartiy samajik sanrachna mein stri ki yatna aur vyaktitv ka prashn hamesha prmukh raha hai. ‘divya’ (1945) mein yashpal aitihasik prishthbhumi mein stri ki pida ke samajik karnon ki talash karte hain. Unka manna hai ki ‘itihas vishvas ki nahin, vishleshan ki vastu hai. . . . Atit mein apni rachnatmak samarthya aur paristhitiyon ke suljhav aur rachna ke liye nirdesh pati hain. ’ ‘divya’ mein lekhak sagal ke ganasmaj ko kendr mein rakhkar prithusen, marish aur divya ke madhyam se tatkalin samajik antarvirodhon ki gahan padtal karta hai. Na to varnashram vyvastha par aadharit samanti samaj hi stri ko samman aur suraksha de sakta hai aur na bauddh dharm jo stri ke svtantr vyaktitv ko hi shanka ki nigah se dekhta hai.
Apni prdatt aitihasik prishthbhumi mein ‘divya’ samajik sanrachna ke mul antarvirodhon ko rekhankit karte hue apni tejasvita se parivartan ke liye nirnayak sangharsh bhi karti hai. Apni santulit soch ke saath vah hamare samkalin nari-vimarsh ke lihaz se bhi ek vicharniy prastav lekar aati hai.