BackBack
-11%

Dinkar Ardhnarishwar Kavi

Rs. 350 Rs. 312

दिनकर आधुनिक हिन्दी कविता के उत्तर–छायावादी व नवस्वच्छन्दतावादी दौर के सर्वश्रेष्ठ कवि थे। कवि–रूप में उनकी दो विशेषताएँ थीं। एक तो यह कि उनकी कविता के अनेक आयाम हैं और दूसरी यह कि उनमें अन्त–अन्त तक विकास होता रहा। ‘प्रण–भंग’ से लेकर ‘हारे को हरिनाम’ तक की काव्य–यात्रा जितनी ही... Read More

Description

दिनकर आधुनिक हिन्दी कविता के उत्तर–छायावादी व नवस्वच्छन्दतावादी दौर के सर्वश्रेष्ठ कवि थे। कवि–रूप में उनकी दो विशेषताएँ थीं। एक तो यह कि उनकी कविता के अनेक आयाम हैं और दूसरी यह कि उनमें अन्त–अन्त तक विकास होता रहा। ‘प्रण–भंग’ से लेकर ‘हारे को हरिनाम’ तक की काव्य–यात्रा जितनी ही विविधवर्णी है, उतनी ही गतिशील भी। दिनकर रचनावली के अवलोकन के बाद डॉ. नामवर सिंह ने उचित ही यह टिप्पणी की कि कुल मिलाकर दिनकर जी का रचनात्मक व्यक्तित्व बहुत कुछ निराला की तरह है।
दिनकर की कविता के उल्लेखनीय आयाम हैं राष्ट्रीयता, सामाजिकता, प्रेम और शृंगार तथा आत्मपरकता एवं आध्यात्मिकता। इन आयामों का अतिक्रमण करते हुए उन्होंने अच्छी संख्या में ऐसी कविताएँ लिखी हैं, जिन्हें किसी खाने में नहीं रखा जा सकता। वस्तुत: ऐसी कविताएँ ही उन्हें महान कवि बनाती हैं। सबसे ऊपर उनकी विशेषता है उनके व्यक्तित्व की ओजस्विता, जो उनकी प्रत्येक प्रकार की कविताओं में अभिव्यंजित होती है। स्वभावत: उनकी प्रेम–शृंगार और आध्यात्मिक कविताओं में जो लावण्य है, उसे एक आलोचक के शब्द लेकर ‘ओजस्वी लावण्य’ कहा जा सकता है।
‘नई कविता’ के दौर में दिनकर जी को वह सम्मान न मिला, जिसके वे अधिकारी थे। उन्हें वक्तृतामूलक और प्रचारवादी कवि कहा गया, जबकि सच्चाई यह है कि ये दोनों बातें स्वतंत्रता–आन्दोलन के प्रवक्ता कवि के लिए स्वाभाविक थीं, लेकिन ज्ञातव्य यह है कि उन्होंने श्रेष्ठ कविता का दामन कभी नहीं छोड़ा। दूसरे, समय के साथ उनकी कविता का तर्ज बदलता गया और वे भी ‘महीन’ कविताएँ लिखने लगे, जिनमें एक नई आभा है। निश्चय ही उनकी कविता हिन्दी की कालजयी कविता है, उसे नया विस्तार और तनाव देनेवाली। Dinkar aadhunik hindi kavita ke uttar–chhayavadi va navasvachchhandtavadi daur ke sarvashreshth kavi the. Kavi–rup mein unki do visheshtayen thin. Ek to ye ki unki kavita ke anek aayam hain aur dusri ye ki unmen ant–ant tak vikas hota raha. ‘pran–bhang’ se lekar ‘hare ko harinam’ tak ki kavya–yatra jitni hi vividhvarni hai, utni hi gatishil bhi. Dinkar rachnavli ke avlokan ke baad dau. Namvar sinh ne uchit hi ye tippni ki ki kul milakar dinkar ji ka rachnatmak vyaktitv bahut kuchh nirala ki tarah hai. Dinkar ki kavita ke ullekhniy aayam hain rashtriyta, samajikta, prem aur shringar tatha aatmaparakta evan aadhyatmikta. In aayamon ka atikrman karte hue unhonne achchhi sankhya mein aisi kavitayen likhi hain, jinhen kisi khane mein nahin rakha ja sakta. Vastut: aisi kavitayen hi unhen mahan kavi banati hain. Sabse uupar unki visheshta hai unke vyaktitv ki ojasvita, jo unki pratyek prkar ki kavitaon mein abhivyanjit hoti hai. Svbhavat: unki prem–shringar aur aadhyatmik kavitaon mein jo lavanya hai, use ek aalochak ke shabd lekar ‘ojasvi lavanya’ kaha ja sakta hai.
‘nai kavita’ ke daur mein dinkar ji ko vah samman na mila, jiske ve adhikari the. Unhen vaktritamulak aur prcharvadi kavi kaha gaya, jabaki sachchai ye hai ki ye donon baten svtantrta–andolan ke prvakta kavi ke liye svabhavik thin, lekin gyatavya ye hai ki unhonne shreshth kavita ka daman kabhi nahin chhoda. Dusre, samay ke saath unki kavita ka tarj badalta gaya aur ve bhi ‘mahin’ kavitayen likhne lage, jinmen ek nai aabha hai. Nishchay hi unki kavita hindi ki kalajyi kavita hai, use naya vistar aur tanav denevali.