Look Inside
Dinkar
Dinkar
Dinkar
Dinkar

Dinkar

Regular price Rs. 145
Sale price Rs. 145 Regular price Rs. 156
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dinkar

Dinkar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

दिनकर जी जब काव्य के क्षेत्र में आए, उस समय हिन्दी में कविता की दो धाराएँ बहुत ही स्पष्ट थीं। एक धारा छायावादी काव्य की थी, जिस पर आक्षेप यह था कि वास्तविकता से ईषद् दूर है। दूसरी धारा राष्ट्रीय कविताओं की थी जो वास्तविकता की अत्यधिक आराधना करने के कारण कला की सूक्ष्म भंगिमाओं को अपनाने में असमर्थ थी।
दिनकर जी ने काव्य-पाठकों का ध्यान विशेष रूप से इसलिए आकृष्ट किया कि उन्होंने कला को वास्तविकता के समीप ला दिया, अथवा यों कहें कि राष्ट्रीय धारा की कविताओं में उन्होंने कला की सूक्ष्मातिसूक्ष्म भंगिमाएँ उत्पन्न कर दीं। दिनकर जी में शक्ति और सौन्दर्य का जो मणिकांचन-संयोग दिखाई पड़ा, वही उनकी कीर्ति का आधार बना।
प्रस्तुत कृति दिनकर जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विशद् रूप में प्रकाश डालनेवाली हिन्दी में अपने ढंग की पहली पुस्तक है। इस पुस्तक में हिन्दी के अधिकारी लेखकों ने दिनकर जी की कृतियों पर अपने महत्त्वपूर्ण विचार प्रस्तुत किए हैं—दिनकर-साहित्य के जिज्ञासु पाठकों तथा छात्रों के लिए सर्वथा संग्रहणीय। Dinkar ji jab kavya ke kshetr mein aae, us samay hindi mein kavita ki do dharayen bahut hi spasht thin. Ek dhara chhayavadi kavya ki thi, jis par aakshep ye tha ki vastavikta se iishad dur hai. Dusri dhara rashtriy kavitaon ki thi jo vastavikta ki atydhik aaradhna karne ke karan kala ki sukshm bhangimaon ko apnane mein asmarth thi. Dinkar ji ne kavya-pathkon ka dhyan vishesh rup se isaliye aakrisht kiya ki unhonne kala ko vastavikta ke samip la diya, athva yon kahen ki rashtriy dhara ki kavitaon mein unhonne kala ki sukshmatisukshm bhangimayen utpann kar din. Dinkar ji mein shakti aur saundarya ka jo manikanchan-sanyog dikhai pada, vahi unki kirti ka aadhar bana.
Prastut kriti dinkar ji ke vyaktitv evan krititv par vishad rup mein prkash dalnevali hindi mein apne dhang ki pahli pustak hai. Is pustak mein hindi ke adhikari lekhkon ne dinkar ji ki kritiyon par apne mahattvpurn vichar prastut kiye hain—dinkar-sahitya ke jigyasu pathkon tatha chhatron ke liye sarvtha sangrahniy.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products