Dilli Mein Neend

Regular price Rs. 149
Sale price Rs. 149 Regular price Rs. 160
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Dilli Mein Neend

Dilli Mein Neend

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उमा शंकर चौधरी लम्बी कहानियों के सिद्धहस्त लेखक हैं। उनकी कहानियाँ आपको मदमस्त नहीं करतीं, बल्कि परेशान करती हैं। आप उनसे भागना भी चाहते हैं लेकिन एक तत्त्व है लेखक में कि वह जीवन की सही सच्चाइयाँ पकड़ लेता है। लेखक के पास छोटी-छोटी चीज़ों के लम्बे-लम्बे वृत्तान्त हैं। इतने कि कई बार आपको ऊब होने लगती है। लेकिन यही लेखक की सूक्ष्म निरीक्षण-क्षमता है। ‘दिल्ली में नींद’ संग्रह की तमाम कहानियाँ इस बात का प्रमाण हैं। चाहे वह राजेश्वर सिंह की कहानी हो या फुच्चु मास्साब की या सुनानी की; एक गहरी पीड़ा इन सब में है। उनकी कहानियाँ सपाट नहीं हैं। वे यथार्थ के भीतर जाती हैं और कई बार उसका अतिक्रमण करती हैं। इसके लिए कई बार वे जादुई यथार्थवाद का भी इस्तेमाल करते हैं। उनके सरोकार स्पष्ट हैं और उसमें कोई फाँक नहीं है। इस संग्रह की कहानियाँ सामन्ती समाज के अन्तर्विरोधों की कहानियाँ हैं तो इनमें उदारीकरण के बाद के शहरी समाज की निम्नमध्यवर्गीय पीड़ा भी है। आम आदमी के दु:ख-दर्द उमा शंकर की कहानियों की ख़ास विशेषता है और यही उन्हें अपनी पीढ़ी में सबसे अलग करती है।
—शशिभूषण द्विवेदी Uma shankar chaudhri lambi kahaniyon ke siddhhast lekhak hain. Unki kahaniyan aapko madmast nahin kartin, balki pareshan karti hain. Aap unse bhagna bhi chahte hain lekin ek tattv hai lekhak mein ki vah jivan ki sahi sachchaiyan pakad leta hai. Lekhak ke paas chhoti-chhoti chizon ke lambe-lambe vrittant hain. Itne ki kai baar aapko uub hone lagti hai. Lekin yahi lekhak ki sukshm nirikshan-kshamta hai. ‘dilli mein nind’ sangrah ki tamam kahaniyan is baat ka prman hain. Chahe vah rajeshvar sinh ki kahani ho ya phuchchu massab ki ya sunani ki; ek gahri pida in sab mein hai. Unki kahaniyan sapat nahin hain. Ve yatharth ke bhitar jati hain aur kai baar uska atikrman karti hain. Iske liye kai baar ve jadui yatharthvad ka bhi istemal karte hain. Unke sarokar spasht hain aur usmen koi phank nahin hai. Is sangrah ki kahaniyan samanti samaj ke antarvirodhon ki kahaniyan hain to inmen udarikran ke baad ke shahri samaj ki nimnmadhyvargiy pida bhi hai. Aam aadmi ke du:kha-dard uma shankar ki kahaniyon ki khas visheshta hai aur yahi unhen apni pidhi mein sabse alag karti hai. —shashibhushan dvivedi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products