Dhuno Ki Yatra

Regular price Rs. 2,320
Sale price Rs. 2,320 Regular price Rs. 2,495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Dhuno Ki Yatra

Dhuno Ki Yatra

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘धुनों की यात्रा’ हिन्दी फ़िल्म के संगीतकारों पर केन्द्रित ऐसी पहली मुकम्मिल और प्रामाणिक पुस्तक है, जिसमें सन् 1931 से लेकर 2005 तक के सभी संगीतकारों का श्लाघनीय समावेश किया गया है। संगीतकारों के विवरण और विश्लेषण के साथ उनकी सृजनात्मकता को सन्दर्भ सहित संगीत, समाज और जनाकांक्षाओं की प्रवृत्तियों से गुज़रते पहली बार इस पुस्तक के माध्यम से रेखांकित किया गया है। ‘धुनों की यात्रा’ में मात्र संगीत की सांख्यिकी को ही नहीं देखा गया है, वरन् संगीत रचनाओं के तत्कालीन जैविक और भौतिक अनुभूतियों के साथ ही संगीत के राग, ताल, प्रभाव, बारीकी और उसकी विशिष्टताओं के साथ सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परिवेश, चेतना और उसके पुराने एवं नए ढहते और बनते रूपाकारों को उसके उल्लास, आवेश-आवेग, संघर्षों एवं संयोजनों को भी सूक्ष्मता के साथ विवेचित किया गया है।
आम तौर पर फ़िल्मी संगीत के बारे में धारणा और प्रारम्भिक आकर्षण रोमान का ही होता है। ‘धुनों की यात्रा’ इस मिथकीय भ्रम को तोड़ती है। स्वातंत्र्य चेतना के प्रादुर्भाव, स्वतंत्रता आन्दोलन, रूढ़ सामाजिक विसंगतियों के प्रति अलगाव, विभिन्नता, बहुलता और बहुमत के प्रति लगाव, जनाकांक्षा की तीव्र अभिव्यक्ति, धर्म और बाज़ार के खंड-खंड पाखंड, युवा और युवतर चेतना की सशक्त वैश्विक दृष्टि, उनकी शैलियों और उनके समय की पड़ताल के सन्दर्भ में यह पुस्तक फ़िल्मी संगीत पर सर्वथा नए दृष्टि पथ का निर्माण करती है।
स्वतंत्रता के पूर्व की चेतना से लेकर आज के भूमंडलीकरण के दौर तक, संगीत की सन्दर्भों के साथ बदलती प्रवृत्तियों की यह यात्रा आम पाठकों और संगीत रसिकों के लिए तो उपयोगी है ही; साथ ही भारतीय फ़िल्म संगीत के इतिहास, सांगीतिक धुनों की छवि और छाप, शैलियों की विविधता और विशिष्टता, राग और तालों के विवरण और विस्तार तथा फ़िल्म संगीत के क्रमिक विस्तार के तत्त्वों और सन्दर्भों के कारण फ़िल्म संगीत के विद्यार्थियों के लिए भी यह अनिवार्य सन्दर्भ पुस्तक के रूप में महत्त्वपूर्ण और उपयोगी होगी। ‘dhunon ki yatra’ hindi film ke sangitkaron par kendrit aisi pahli mukammil aur pramanik pustak hai, jismen san 1931 se lekar 2005 tak ke sabhi sangitkaron ka shlaghniy samavesh kiya gaya hai. Sangitkaron ke vivran aur vishleshan ke saath unki srijnatmakta ko sandarbh sahit sangit, samaj aur janakankshaon ki prvrittiyon se guzarte pahli baar is pustak ke madhyam se rekhankit kiya gaya hai. ‘dhunon ki yatra’ mein matr sangit ki sankhyiki ko hi nahin dekha gaya hai, varan sangit rachnaon ke tatkalin jaivik aur bhautik anubhutiyon ke saath hi sangit ke raag, taal, prbhav, bariki aur uski vishishttaon ke saath samajik, aarthik aur rajnitik parivesh, chetna aur uske purane evan ne dhahte aur bante rupakaron ko uske ullas, aavesh-aveg, sangharshon evan sanyojnon ko bhi sukshmta ke saath vivechit kiya gaya hai. Aam taur par filmi sangit ke bare mein dharna aur prarambhik aakarshan roman ka hi hota hai. ‘dhunon ki yatra’ is mithkiy bhram ko todti hai. Svatantrya chetna ke pradurbhav, svtantrta aandolan, rudh samajik visangatiyon ke prati algav, vibhinnta, bahulta aur bahumat ke prati lagav, janakanksha ki tivr abhivyakti, dharm aur bazar ke khand-khand pakhand, yuva aur yuvtar chetna ki sashakt vaishvik drishti, unki shailiyon aur unke samay ki padtal ke sandarbh mein ye pustak filmi sangit par sarvtha ne drishti path ka nirman karti hai.
Svtantrta ke purv ki chetna se lekar aaj ke bhumandlikran ke daur tak, sangit ki sandarbhon ke saath badalti prvrittiyon ki ye yatra aam pathkon aur sangit rasikon ke liye to upyogi hai hi; saath hi bhartiy film sangit ke itihas, sangitik dhunon ki chhavi aur chhap, shailiyon ki vividhta aur vishishtta, raag aur talon ke vivran aur vistar tatha film sangit ke krmik vistar ke tattvon aur sandarbhon ke karan film sangit ke vidyarthiyon ke liye bhi ye anivarya sandarbh pustak ke rup mein mahattvpurn aur upyogi hogi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products