BackBack
-11%

Dhoop Aur Dhuan : Dinkar Granthmala

Ramdhari Singh 'Dinkar'

Rs. 295 Rs. 263

Lokbharti Prakashan

‘धूप और धुआँ' आज़ादी के बाद लिखी गई राष्ट्रीय कविताओं का एक महत्त्वपूर्ण संग्रह है। इसमें संगृहीत कविताएँ समकालीन अवस्थाओं के विरुद्ध भावात्मक प्रतिक्रिया के रूप में प्रकट हुई हैं। स्वराज्य से फूटनेवाली आशा की धूप और उसके विरुद्ध जन्मे असन्तोष का धुआँ, ये दोनों ही इन रचनाओं में यथास्थान... Read More

Description

‘धूप और धुआँ' आज़ादी के बाद लिखी गई राष्ट्रीय कविताओं का एक महत्त्वपूर्ण संग्रह है। इसमें संगृहीत कविताएँ समकालीन अवस्थाओं के विरुद्ध भावात्मक प्रतिक्रिया के रूप में प्रकट हुई हैं। स्वराज्य से फूटनेवाली आशा की धूप और उसके विरुद्ध जन्मे असन्तोष का धुआँ, ये दोनों ही इन रचनाओं में यथास्थान प्रतिबिम्बित हैं। अतएव, जिनकी आँखें धूप और धुआँ, दोनों को एक ख़ास परिप्रेक्ष्य में देख सकती हैं, उनके लिए यह नाम निरर्थक नहीं लगेगा।
इस संग्रह में कविताएँ रचना के कालक्रम के अनुसार नहीं रखी गई हैं। इसके बारे में दिनकर जी का ख़ुद कहना है कि, '...मैंने कई ऐसी कविताओं को आरम्भ में ही रख दिया है, जिनकी रचना हाल में हुई है। यह इसलिए कि मैं देखता हूँ कि इधर मेरे लिखने की तर्ज मेरी वर्तमान मनोदशा के मुआफिक भी आ रही है। यह प्रयोग है या प्रगति, मैं नहीं बता सकता। निश्चयपूर्वक इतना ही कह सकता हूँ कि आजकल इसी लहजे में बोलने में कुछ सन्तोष का अनुभव करता हूँ।'
'धूप और धुआँ' दिनकर जी की कविताओं का एक अनूठा संग्रह है। इनमें जहाँ नवीनता है, ताजगी है, विचारों में उत्तेजना है, वहीं मन में स्फुरण जगाने की शक्ति भी है। ‘dhup aur dhuan aazadi ke baad likhi gai rashtriy kavitaon ka ek mahattvpurn sangrah hai. Ismen sangrihit kavitayen samkalin avasthaon ke viruddh bhavatmak prtikriya ke rup mein prkat hui hain. Svrajya se phutnevali aasha ki dhup aur uske viruddh janme asantosh ka dhuan, ye donon hi in rachnaon mein yathasthan pratibimbit hain. Atev, jinki aankhen dhup aur dhuan, donon ko ek khas pariprekshya mein dekh sakti hain, unke liye ye naam nirarthak nahin lagega. Is sangrah mein kavitayen rachna ke kalakram ke anusar nahin rakhi gai hain. Iske bare mein dinkar ji ka khud kahna hai ki,. . . Mainne kai aisi kavitaon ko aarambh mein hi rakh diya hai, jinki rachna haal mein hui hai. Ye isaliye ki main dekhta hun ki idhar mere likhne ki tarj meri vartman manodsha ke muaphik bhi aa rahi hai. Ye pryog hai ya pragati, main nahin bata sakta. Nishchaypurvak itna hi kah sakta hun ki aajkal isi lahje mein bolne mein kuchh santosh ka anubhav karta hun.
Dhup aur dhuan dinkar ji ki kavitaon ka ek anutha sangrah hai. Inmen jahan navinta hai, tajgi hai, vicharon mein uttejna hai, vahin man mein sphuran jagane ki shakti bhi hai.