Look Inside
Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita
Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita
Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita
Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita

Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita

Dhoomketu Dhoomil Aur Sathottari Kavita

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कविता जीवन की अभिव्यक्ति है, परन्तु उसकी सार्थकता जीवन से जुड़े रहने पर ही निर्भर है। यदि उसमें जीवन की सौन्दर्यमूलक और संवेदनशील अभिव्यक्ति नहीं है, मात्र काल्पनिकता है तो उसकी सार्थकता सन्दिग्ध हो जाती है। काव्य के माध्यम से सहृदय साहित्यकार अपनी अनुभूतियों को कुशलतापूर्वक अभिव्यक्त करते रहे हैं और पाठकों ने भी ऐसी अभिव्यक्तियों को सहर्ष स्वीकार किया है। साहित्य की विविध विधाओं में काव्य ही एक ऐसी विधा है, जो आदिकाल से लेकर आज तक सहज और स्वाभाविक रूप में निरन्तर प्रवहमान है। कम-से-कम शब्दों में अधिक-से-अधिक अभिव्यक्ति की क्षमता काव्य में होती है। इसीलिए महाकवि कालरिज ने कहा था—कविता श्रेष्ठतम शब्दों का श्रेष्ठतम क्रम में संयोजन है। दोहा, छन्द इसका सशक्त प्रमाण हैं। समय के साथ-साथ काव्य के भाव-बोध, वस्तु और शिल्प में भी परिवर्तन हुए हैं। आधुनिक हिन्दी काव्य में यह परिवर्तन छायावाद से ही परिलक्षित होने लगा था। छायावादी कवियों ने अनुभूतियों की गहराई के साथ ही अभिव्यक्ति को भी प्रांजलता प्रदान की। तदनन्तर प्रगतिवाद, प्रयोगवाद और नई कविता का दौर आया। स्वाधीनता के बाद हिन्दी कविता विभिन्न आन्दोलनों के दौर से गुज़रती रही। इन सब आन्दोलनों में साठोत्तरी काव्य के नाम से अभिहित कविता अपने बेबाक चित्रण के कारण आधुनिक हिन्दी काव्य में अपनी एक अलग पहचान बनाने में पूर्णतः सफल हुई है।
साठोत्तरी कविता में धूमिल की रचनाधर्मिता एक अहम् भूमिका रखती है। इनकी कविताओं में कथ्य का ही ठोस धरातल नहीं है, अपितु शिल्प की भी एक नई भंगिमा है। कथ्य, भाषा एवं संरचना की दृष्टि से उन्होंने परम्परागत प्रतिमानों को तोड़कर नए प्रतिमानों की रचना की। उनकी कविताएँ संसद से लेकर सड़क तक बिखरी हैं। भ्रष्ट राजनीति और सामाजिक दिशाहीनता को उन्होंने व्यंग्य और वक्तव्य के माध्यम से अत्यन्त सपाट लहज़े में व्यक्त किया है। Kavita jivan ki abhivyakti hai, parantu uski sarthakta jivan se jude rahne par hi nirbhar hai. Yadi usmen jivan ki saundarymulak aur sanvedanshil abhivyakti nahin hai, matr kalpanikta hai to uski sarthakta sandigdh ho jati hai. Kavya ke madhyam se sahriday sahitykar apni anubhutiyon ko kushaltapurvak abhivyakt karte rahe hain aur pathkon ne bhi aisi abhivyaktiyon ko saharsh svikar kiya hai. Sahitya ki vividh vidhaon mein kavya hi ek aisi vidha hai, jo aadikal se lekar aaj tak sahaj aur svabhavik rup mein nirantar pravahman hai. Kam-se-kam shabdon mein adhik-se-adhik abhivyakti ki kshamta kavya mein hoti hai. Isiliye mahakavi kalrij ne kaha tha—kavita shreshthtam shabdon ka shreshthtam kram mein sanyojan hai. Doha, chhand iska sashakt prman hain. Samay ke sath-sath kavya ke bhav-bodh, vastu aur shilp mein bhi parivartan hue hain. Aadhunik hindi kavya mein ye parivartan chhayavad se hi parilakshit hone laga tha. Chhayavadi kaviyon ne anubhutiyon ki gahrai ke saath hi abhivyakti ko bhi pranjalta prdan ki. Tadnantar pragativad, pryogvad aur nai kavita ka daur aaya. Svadhinta ke baad hindi kavita vibhinn aandolnon ke daur se guzarti rahi. In sab aandolnon mein sathottri kavya ke naam se abhihit kavita apne bebak chitran ke karan aadhunik hindi kavya mein apni ek alag pahchan banane mein purnatः saphal hui hai. Sathottri kavita mein dhumil ki rachnadharmita ek aham bhumika rakhti hai. Inki kavitaon mein kathya ka hi thos dharatal nahin hai, apitu shilp ki bhi ek nai bhangima hai. Kathya, bhasha evan sanrachna ki drishti se unhonne parampragat pratimanon ko todkar ne pratimanon ki rachna ki. Unki kavitayen sansad se lekar sadak tak bikhri hain. Bhrasht rajniti aur samajik dishahinta ko unhonne vyangya aur vaktavya ke madhyam se atyant sapat lahze mein vyakt kiya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products