BackBack
-11%

Dhool Ki Jagah

Rs. 299 Rs. 266

“महेश वर्मा महत्त्वपूर्ण युवा कवि हैं जो एक अपेक्षाकृत पिछड़े इलाके में रहकर भी अपनी कहानी-करनी में अग्रगामी हैं। उनके यहाँ निजी और सामाजिक के बीच इधर बढ़ती दूरी से अलग छिटककर उन्हें निरन्तरता में देखने की कोशिश है। वे भाषा और जीवन में बार-बार अपनी कविता गढ़ते हैं जो... Read More

Description

“महेश वर्मा महत्त्वपूर्ण युवा कवि हैं जो एक अपेक्षाकृत पिछड़े इलाके में रहकर भी अपनी कहानी-करनी में अग्रगामी हैं। उनके यहाँ निजी और सामाजिक के बीच इधर बढ़ती दूरी से अलग छिटककर उन्हें निरन्तरता में देखने की कोशिश है। वे भाषा और जीवन में बार-बार अपनी कविता गढ़ते हैं जो उनकी कविता में मानवीयता का इज़ाफ़ा करती है और उसकी प्रासंगिकता बनाए रखती है।”
—अशोक वाजपेयी “mahesh varma mahattvpurn yuva kavi hain jo ek apekshakrit pichhde ilake mein rahkar bhi apni kahani-karni mein agrgami hain. Unke yahan niji aur samajik ke bich idhar badhti duri se alag chhitakkar unhen nirantarta mein dekhne ki koshish hai. Ve bhasha aur jivan mein bar-bar apni kavita gadhte hain jo unki kavita mein manviyta ka izafa karti hai aur uski prasangikta banaye rakhti hai. ”—ashok vajpeyi