BackBack

Dharti Ki Pukar

Rs. 263 Rs. 236

विकास बनाम पर्यावरण इस सदी की सबसे बड़ी बहसों में से एक है। आज जबकि पूरी दुनिया में पर्यावरण-चेतना फैल रही है और विकास की लगभग हर गतिविधि के लिए पर्यावरणीय मानदंड निर्धारित किए जा रहे हैं, फिर भी विकासवादी निरन्तर इस कोशिश में रहते हैं कि पर्यावरणीय ख़तरों की... Read More

readsample_tab

Coming Soon

Description

विकास बनाम पर्यावरण इस सदी की सबसे बड़ी बहसों में से एक है। आज जबकि पूरी दुनिया में पर्यावरण-चेतना फैल रही है और विकास की लगभग हर गतिविधि के लिए पर्यावरणीय मानदंड निर्धारित किए जा रहे हैं, फिर भी विकासवादी निरन्तर इस कोशिश में रहते हैं कि पर्यावरणीय ख़तरों की अनदेखी करके भी किस तरह कोई बड़ा बाँध, कोई बड़ी परियोजना शुरू की जाए। इसलिए जब सुन्दरलाल बहुगुणा दुनिया के अन्य पर्यावरणविदों के साथ सुर मिलाकर यह कहते हैं कि तीसरा विश्वयुद्ध छिड़ गया है और वह तथाकथित विकासवादियों द्वारा प्रकृति के विरुद्ध छेड़ा गया है, तो वे ग़लत नहीं होते।
वे कहते हैं, ‘‘प्रश्न केवल विकास के विरोध का नहीं है, ज़िन्दा रहने के अधिकार की रक्षा का है। जिन परियोजनाओं को सरकारी मीडिया और शासन व अर्थनीति पर हावी आभिजात्य वर्ग देश के त्वरित विकास के लिए अनिवार्य मानता है, उन परियोजनाओं के औचित्य को चुनौती देनेवालों को विदेशी एजेंट, देशद्रोही और विकास के दुश्मन के रूप में प्रचारित किया जाता है।’’
सुन्दरलाल बहुगुणा भी इस दृष्टि से बौद्धिक समाज में नायक और खलनायक दोनों हैं। लेकिन हिमालय, गंगा, जंगल और टिहरी बाँध को लेकर जो सवाल बहुगुणा ने खड़े किए हैं और सरकार की प्रकृति-विरोधी नीतियों का पर्दाफ़ाश किया है, उसमें शायद ही किसी को आपत्ति हो। साथ ही उन्होंने विकास की जो वैकल्पिक दृष्टि दी है, उससे भी किसी को परहेज़ नहीं होगा।
यह पुस्तक ‘धरती की पुकार’ बहुगुणा जी के चिन्तन का सार है। इसमें ‘चिपको आन्दोलन’ से लेकर टिहरी बाँध के विरोध में उनके लम्बे उपवासों तक की चिन्तनभूमि के दर्शन होते हैं। आशा है, यह पुस्तक विकास और पर्यावरण के रिश्तों को सही परिप्रेक्ष्य में देखने-समझने में मदद करेगी। Vikas banam paryavran is sadi ki sabse badi bahson mein se ek hai. Aaj jabaki puri duniya mein paryavran-chetna phail rahi hai aur vikas ki lagbhag har gatividhi ke liye paryavarniy mandand nirdharit kiye ja rahe hain, phir bhi vikasvadi nirantar is koshish mein rahte hain ki paryavarniy khatron ki andekhi karke bhi kis tarah koi bada bandh, koi badi pariyojna shuru ki jaye. Isaliye jab sundarlal bahuguna duniya ke anya paryavaranavidon ke saath sur milakar ye kahte hain ki tisra vishvyuddh chhid gaya hai aur vah tathakthit vikasvadiyon dvara prkriti ke viruddh chheda gaya hai, to ve galat nahin hote. Ve kahte hain, ‘‘prashn keval vikas ke virodh ka nahin hai, zinda rahne ke adhikar ki raksha ka hai. Jin pariyojnaon ko sarkari midiya aur shasan va arthniti par havi aabhijatya varg desh ke tvrit vikas ke liye anivarya manta hai, un pariyojnaon ke auchitya ko chunauti denevalon ko videshi ejent, deshadrohi aur vikas ke dushman ke rup mein prcharit kiya jata hai. ’’
Sundarlal bahuguna bhi is drishti se bauddhik samaj mein nayak aur khalnayak donon hain. Lekin himalay, ganga, jangal aur tihri bandh ko lekar jo saval bahuguna ne khade kiye hain aur sarkar ki prkriti-virodhi nitiyon ka pardafash kiya hai, usmen shayad hi kisi ko aapatti ho. Saath hi unhonne vikas ki jo vaikalpik drishti di hai, usse bhi kisi ko parhez nahin hoga.
Ye pustak ‘dharti ki pukar’ bahuguna ji ke chintan ka saar hai. Ismen ‘chipko aandolan’ se lekar tihri bandh ke virodh mein unke lambe upvason tak ki chintanbhumi ke darshan hote hain. Aasha hai, ye pustak vikas aur paryavran ke rishton ko sahi pariprekshya mein dekhne-samajhne mein madad karegi.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Dharti Ki Pukar

विकास बनाम पर्यावरण इस सदी की सबसे बड़ी बहसों में से एक है। आज जबकि पूरी दुनिया में पर्यावरण-चेतना फैल रही है और विकास की लगभग हर गतिविधि के लिए पर्यावरणीय मानदंड निर्धारित किए जा रहे हैं, फिर भी विकासवादी निरन्तर इस कोशिश में रहते हैं कि पर्यावरणीय ख़तरों की अनदेखी करके भी किस तरह कोई बड़ा बाँध, कोई बड़ी परियोजना शुरू की जाए। इसलिए जब सुन्दरलाल बहुगुणा दुनिया के अन्य पर्यावरणविदों के साथ सुर मिलाकर यह कहते हैं कि तीसरा विश्वयुद्ध छिड़ गया है और वह तथाकथित विकासवादियों द्वारा प्रकृति के विरुद्ध छेड़ा गया है, तो वे ग़लत नहीं होते।
वे कहते हैं, ‘‘प्रश्न केवल विकास के विरोध का नहीं है, ज़िन्दा रहने के अधिकार की रक्षा का है। जिन परियोजनाओं को सरकारी मीडिया और शासन व अर्थनीति पर हावी आभिजात्य वर्ग देश के त्वरित विकास के लिए अनिवार्य मानता है, उन परियोजनाओं के औचित्य को चुनौती देनेवालों को विदेशी एजेंट, देशद्रोही और विकास के दुश्मन के रूप में प्रचारित किया जाता है।’’
सुन्दरलाल बहुगुणा भी इस दृष्टि से बौद्धिक समाज में नायक और खलनायक दोनों हैं। लेकिन हिमालय, गंगा, जंगल और टिहरी बाँध को लेकर जो सवाल बहुगुणा ने खड़े किए हैं और सरकार की प्रकृति-विरोधी नीतियों का पर्दाफ़ाश किया है, उसमें शायद ही किसी को आपत्ति हो। साथ ही उन्होंने विकास की जो वैकल्पिक दृष्टि दी है, उससे भी किसी को परहेज़ नहीं होगा।
यह पुस्तक ‘धरती की पुकार’ बहुगुणा जी के चिन्तन का सार है। इसमें ‘चिपको आन्दोलन’ से लेकर टिहरी बाँध के विरोध में उनके लम्बे उपवासों तक की चिन्तनभूमि के दर्शन होते हैं। आशा है, यह पुस्तक विकास और पर्यावरण के रिश्तों को सही परिप्रेक्ष्य में देखने-समझने में मदद करेगी। Vikas banam paryavran is sadi ki sabse badi bahson mein se ek hai. Aaj jabaki puri duniya mein paryavran-chetna phail rahi hai aur vikas ki lagbhag har gatividhi ke liye paryavarniy mandand nirdharit kiye ja rahe hain, phir bhi vikasvadi nirantar is koshish mein rahte hain ki paryavarniy khatron ki andekhi karke bhi kis tarah koi bada bandh, koi badi pariyojna shuru ki jaye. Isaliye jab sundarlal bahuguna duniya ke anya paryavaranavidon ke saath sur milakar ye kahte hain ki tisra vishvyuddh chhid gaya hai aur vah tathakthit vikasvadiyon dvara prkriti ke viruddh chheda gaya hai, to ve galat nahin hote. Ve kahte hain, ‘‘prashn keval vikas ke virodh ka nahin hai, zinda rahne ke adhikar ki raksha ka hai. Jin pariyojnaon ko sarkari midiya aur shasan va arthniti par havi aabhijatya varg desh ke tvrit vikas ke liye anivarya manta hai, un pariyojnaon ke auchitya ko chunauti denevalon ko videshi ejent, deshadrohi aur vikas ke dushman ke rup mein prcharit kiya jata hai. ’’
Sundarlal bahuguna bhi is drishti se bauddhik samaj mein nayak aur khalnayak donon hain. Lekin himalay, ganga, jangal aur tihri bandh ko lekar jo saval bahuguna ne khade kiye hain aur sarkar ki prkriti-virodhi nitiyon ka pardafash kiya hai, usmen shayad hi kisi ko aapatti ho. Saath hi unhonne vikas ki jo vaikalpik drishti di hai, usse bhi kisi ko parhez nahin hoga.
Ye pustak ‘dharti ki pukar’ bahuguna ji ke chintan ka saar hai. Ismen ‘chipko aandolan’ se lekar tihri bandh ke virodh mein unke lambe upvason tak ki chintanbhumi ke darshan hote hain. Aasha hai, ye pustak vikas aur paryavran ke rishton ko sahi pariprekshya mein dekhne-samajhne mein madad karegi.