BackBack

Dhann Narbada Maiya Ho

Prabhash Joshi

Rs. 238 – Rs. 570

‘धन्न नरबदा मइया हो’ पुस्तक में प्रभाष जोशी के ज़्यादातर लेख व्यक्तिगत हैं। हालाँकि इस संकलन में परम्परा और संस्कृति, यात्राओं तथा पर्यावरण से सम्बन्धित आलेख भी संकलित हैं, लेकिन इन सबका रुझान व्यक्तिगत ही है। प्रभाष जोशी अपनी भूमिका में लिखते हैं : “इस पुस्तक का शीर्षक—‘धन्न नरबदा मइया... Read More

PaperbackPaperback
HardboundHardbound
Rs. 250 Rs. 238
readsample_tab

‘धन्न नरबदा मइया हो’ पुस्तक में प्रभाष जोशी के ज़्यादातर लेख व्यक्तिगत हैं। हालाँकि इस संकलन में परम्परा और संस्कृति, यात्राओं तथा पर्यावरण से सम्बन्धित आलेख भी संकलित हैं, लेकिन इन सबका रुझान व्यक्तिगत ही है।
प्रभाष जोशी अपनी भूमिका में लिखते हैं :
“इस पुस्तक का शीर्षक—‘धन्न नरबदा मइया हो’—दरअसल अपनी किशोर वय में जबलपुर के एक गीतकार से एक कवि सम्मेलन में सुने मछुआरों के एक गीत से लिया है—‘हैया हो हो हैया हो, धन्न नरबदा मइया हो’। पहले का दिया शीर्षक था—‘बार-बार लौटकर जाता हूँ नर्मदा’। इस शीर्षक की आत्मा को ज्यों-का-त्यों रखते हुए इन निबन्धों को पढ़ने के बाद मैंने शीर्षक ‘धन्न नरबदा मइया हो’ कर दिया। ये निबन्ध खड़ी बोली के औपचारिक गद्य में नहीं लिखे गए हैं। इनमें बोली की अनगढ़ता लेकिन अनुभूति की सघनता, आत्मीयता और भावुकता है। ये मेरी कोठरी के भीतर की कोठरी की ऐसी खिड़की है जो घर के आँगन और उस पर छाए आकाश में खुलती है। ये निहायत निजी कहे जानेवाले निबन्ध हैं लेकिन ऐसी निजता के जो बाहर के ब्रह्मांड से तदाकार हो गई है। सच, इनमें निजी कुछ नहीं है। हजारीप्रसाद द्विवेदी और कुबेरनाथ राय को पढ़ते हुए मैंने जो अपना मालव मानव-संसार बनाया है, ये निबन्ध उनमें आपको बुलाने के बुलव्वे हैं।
इनमें पर्यावरण और संस्कृति के मेरे सरोकार हैं और कुछ यात्रा विवरण हैं, जो यात्रा-वृत्तान्त की तरह नहीं, अपनी अन्तर्यात्रा में अपनी तलाश के क़िस्से हैं।” ‘dhann narabda maiya ho’ pustak mein prbhash joshi ke zyadatar lekh vyaktigat hain. Halanki is sanklan mein parampra aur sanskriti, yatraon tatha paryavran se sambandhit aalekh bhi sanklit hain, lekin in sabka rujhan vyaktigat hi hai. Prbhash joshi apni bhumika mein likhte hain :
“is pustak ka shirshak—‘dhann narabda maiya ho’—darasal apni kishor vay mein jabalpur ke ek gitkar se ek kavi sammelan mein sune machhuaron ke ek git se liya hai—‘haiya ho ho haiya ho, dhann narabda maiya ho’. Pahle ka diya shirshak tha—‘bar-bar lautkar jata hun narmda’. Is shirshak ki aatma ko jyon-ka-tyon rakhte hue in nibandhon ko padhne ke baad mainne shirshak ‘dhann narabda maiya ho’ kar diya. Ye nibandh khadi boli ke aupcharik gadya mein nahin likhe ge hain. Inmen boli ki anagadhta lekin anubhuti ki saghanta, aatmiyta aur bhavukta hai. Ye meri kothri ke bhitar ki kothri ki aisi khidki hai jo ghar ke aangan aur us par chhaye aakash mein khulti hai. Ye nihayat niji kahe janevale nibandh hain lekin aisi nijta ke jo bahar ke brahmand se tadakar ho gai hai. Sach, inmen niji kuchh nahin hai. Hajariprsad dvivedi aur kubernath raay ko padhte hue mainne jo apna malav manav-sansar banaya hai, ye nibandh unmen aapko bulane ke bulavve hain.
Inmen paryavran aur sanskriti ke mere sarokar hain aur kuchh yatra vivran hain, jo yatra-vrittant ki tarah nahin, apni antaryatra mein apni talash ke qisse hain. ”

Description

‘धन्न नरबदा मइया हो’ पुस्तक में प्रभाष जोशी के ज़्यादातर लेख व्यक्तिगत हैं। हालाँकि इस संकलन में परम्परा और संस्कृति, यात्राओं तथा पर्यावरण से सम्बन्धित आलेख भी संकलित हैं, लेकिन इन सबका रुझान व्यक्तिगत ही है।
प्रभाष जोशी अपनी भूमिका में लिखते हैं :
“इस पुस्तक का शीर्षक—‘धन्न नरबदा मइया हो’—दरअसल अपनी किशोर वय में जबलपुर के एक गीतकार से एक कवि सम्मेलन में सुने मछुआरों के एक गीत से लिया है—‘हैया हो हो हैया हो, धन्न नरबदा मइया हो’। पहले का दिया शीर्षक था—‘बार-बार लौटकर जाता हूँ नर्मदा’। इस शीर्षक की आत्मा को ज्यों-का-त्यों रखते हुए इन निबन्धों को पढ़ने के बाद मैंने शीर्षक ‘धन्न नरबदा मइया हो’ कर दिया। ये निबन्ध खड़ी बोली के औपचारिक गद्य में नहीं लिखे गए हैं। इनमें बोली की अनगढ़ता लेकिन अनुभूति की सघनता, आत्मीयता और भावुकता है। ये मेरी कोठरी के भीतर की कोठरी की ऐसी खिड़की है जो घर के आँगन और उस पर छाए आकाश में खुलती है। ये निहायत निजी कहे जानेवाले निबन्ध हैं लेकिन ऐसी निजता के जो बाहर के ब्रह्मांड से तदाकार हो गई है। सच, इनमें निजी कुछ नहीं है। हजारीप्रसाद द्विवेदी और कुबेरनाथ राय को पढ़ते हुए मैंने जो अपना मालव मानव-संसार बनाया है, ये निबन्ध उनमें आपको बुलाने के बुलव्वे हैं।
इनमें पर्यावरण और संस्कृति के मेरे सरोकार हैं और कुछ यात्रा विवरण हैं, जो यात्रा-वृत्तान्त की तरह नहीं, अपनी अन्तर्यात्रा में अपनी तलाश के क़िस्से हैं।” ‘dhann narabda maiya ho’ pustak mein prbhash joshi ke zyadatar lekh vyaktigat hain. Halanki is sanklan mein parampra aur sanskriti, yatraon tatha paryavran se sambandhit aalekh bhi sanklit hain, lekin in sabka rujhan vyaktigat hi hai. Prbhash joshi apni bhumika mein likhte hain :
“is pustak ka shirshak—‘dhann narabda maiya ho’—darasal apni kishor vay mein jabalpur ke ek gitkar se ek kavi sammelan mein sune machhuaron ke ek git se liya hai—‘haiya ho ho haiya ho, dhann narabda maiya ho’. Pahle ka diya shirshak tha—‘bar-bar lautkar jata hun narmda’. Is shirshak ki aatma ko jyon-ka-tyon rakhte hue in nibandhon ko padhne ke baad mainne shirshak ‘dhann narabda maiya ho’ kar diya. Ye nibandh khadi boli ke aupcharik gadya mein nahin likhe ge hain. Inmen boli ki anagadhta lekin anubhuti ki saghanta, aatmiyta aur bhavukta hai. Ye meri kothri ke bhitar ki kothri ki aisi khidki hai jo ghar ke aangan aur us par chhaye aakash mein khulti hai. Ye nihayat niji kahe janevale nibandh hain lekin aisi nijta ke jo bahar ke brahmand se tadakar ho gai hai. Sach, inmen niji kuchh nahin hai. Hajariprsad dvivedi aur kubernath raay ko padhte hue mainne jo apna malav manav-sansar banaya hai, ye nibandh unmen aapko bulane ke bulavve hain.
Inmen paryavran aur sanskriti ke mere sarokar hain aur kuchh yatra vivran hain, jo yatra-vrittant ki tarah nahin, apni antaryatra mein apni talash ke qisse hain. ”

Additional Information
Book Type

Paperback, Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126716074
Pages 576p
Publishing Year

Dhann Narbada Maiya Ho

‘धन्न नरबदा मइया हो’ पुस्तक में प्रभाष जोशी के ज़्यादातर लेख व्यक्तिगत हैं। हालाँकि इस संकलन में परम्परा और संस्कृति, यात्राओं तथा पर्यावरण से सम्बन्धित आलेख भी संकलित हैं, लेकिन इन सबका रुझान व्यक्तिगत ही है।
प्रभाष जोशी अपनी भूमिका में लिखते हैं :
“इस पुस्तक का शीर्षक—‘धन्न नरबदा मइया हो’—दरअसल अपनी किशोर वय में जबलपुर के एक गीतकार से एक कवि सम्मेलन में सुने मछुआरों के एक गीत से लिया है—‘हैया हो हो हैया हो, धन्न नरबदा मइया हो’। पहले का दिया शीर्षक था—‘बार-बार लौटकर जाता हूँ नर्मदा’। इस शीर्षक की आत्मा को ज्यों-का-त्यों रखते हुए इन निबन्धों को पढ़ने के बाद मैंने शीर्षक ‘धन्न नरबदा मइया हो’ कर दिया। ये निबन्ध खड़ी बोली के औपचारिक गद्य में नहीं लिखे गए हैं। इनमें बोली की अनगढ़ता लेकिन अनुभूति की सघनता, आत्मीयता और भावुकता है। ये मेरी कोठरी के भीतर की कोठरी की ऐसी खिड़की है जो घर के आँगन और उस पर छाए आकाश में खुलती है। ये निहायत निजी कहे जानेवाले निबन्ध हैं लेकिन ऐसी निजता के जो बाहर के ब्रह्मांड से तदाकार हो गई है। सच, इनमें निजी कुछ नहीं है। हजारीप्रसाद द्विवेदी और कुबेरनाथ राय को पढ़ते हुए मैंने जो अपना मालव मानव-संसार बनाया है, ये निबन्ध उनमें आपको बुलाने के बुलव्वे हैं।
इनमें पर्यावरण और संस्कृति के मेरे सरोकार हैं और कुछ यात्रा विवरण हैं, जो यात्रा-वृत्तान्त की तरह नहीं, अपनी अन्तर्यात्रा में अपनी तलाश के क़िस्से हैं।” ‘dhann narabda maiya ho’ pustak mein prbhash joshi ke zyadatar lekh vyaktigat hain. Halanki is sanklan mein parampra aur sanskriti, yatraon tatha paryavran se sambandhit aalekh bhi sanklit hain, lekin in sabka rujhan vyaktigat hi hai. Prbhash joshi apni bhumika mein likhte hain :
“is pustak ka shirshak—‘dhann narabda maiya ho’—darasal apni kishor vay mein jabalpur ke ek gitkar se ek kavi sammelan mein sune machhuaron ke ek git se liya hai—‘haiya ho ho haiya ho, dhann narabda maiya ho’. Pahle ka diya shirshak tha—‘bar-bar lautkar jata hun narmda’. Is shirshak ki aatma ko jyon-ka-tyon rakhte hue in nibandhon ko padhne ke baad mainne shirshak ‘dhann narabda maiya ho’ kar diya. Ye nibandh khadi boli ke aupcharik gadya mein nahin likhe ge hain. Inmen boli ki anagadhta lekin anubhuti ki saghanta, aatmiyta aur bhavukta hai. Ye meri kothri ke bhitar ki kothri ki aisi khidki hai jo ghar ke aangan aur us par chhaye aakash mein khulti hai. Ye nihayat niji kahe janevale nibandh hain lekin aisi nijta ke jo bahar ke brahmand se tadakar ho gai hai. Sach, inmen niji kuchh nahin hai. Hajariprsad dvivedi aur kubernath raay ko padhte hue mainne jo apna malav manav-sansar banaya hai, ye nibandh unmen aapko bulane ke bulavve hain.
Inmen paryavran aur sanskriti ke mere sarokar hain aur kuchh yatra vivran hain, jo yatra-vrittant ki tarah nahin, apni antaryatra mein apni talash ke qisse hain. ”