Look Inside
Devtulya Nastik
Devtulya Nastik
Devtulya Nastik
Devtulya Nastik
Devtulya Nastik
Devtulya Nastik

Devtulya Nastik

Regular price Rs. 290
Sale price Rs. 290 Regular price Rs. 312
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Devtulya Nastik

Devtulya Nastik

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

धर्म, दर्शन और विज्ञान अपने-अपने तरीक़े से सत्य और ज्ञान की खोज करते रहते हैं। स्थूल रूप से इनकी चेष्टाएँ विरोधी प्रतीत हो सकती हैं, लेकिन गहरे मन्तव्यों में लक्ष्य एक ही है। आस्तिक और नास्तिक केवल व्यावहारिक विभाजन हैं—प्रक्रिया की भिन्नता के कारण।
‘देवतुल्य नास्तिक’ पुस्तक में अरुण भोले कुछ विशिष्ट व्यक्तित्वों के माध्यम से जीवन के रहस्यों को जानने का प्रयास करते हैं। ‘ज्ञानपिपासु गौतम’, ‘अन्तर्मुखी विज्ञान’, ‘तटस्थ प्रकृति’, ‘वैज्ञानिक ज्ञान-मीमांसा’, ‘सन्देह और श्रद्धा के संगम’, ‘संवाद और सहयोग', 'जले दीप से दीप' तथा 'विज्ञान और नियति' शीर्षकों के अन्तर्गत लेखक ने सत्य और ज्ञान की खोज करनेवाले विश्वविख्यात व्यक्तित्वों का विश्लेषण किया है।
लेखक का उद्देश्य स्पष्ट है। वह चाहता है कि शक्तियों में समन्वय हो।
लेखक के शब्दों में : ‘अपने अन्वेषण और प्रयोगों से विज्ञान ने जो तथ्य बटोरे हैं, उन सबके आत्यन्तिक अर्थ क्या हैं तथा लोकमंगल की दृष्टि से उनका परम उपयोग क्या होगा, इसी का बोध ज्ञान माना जाएगा। वैसे ज्ञान के अभाव में अमर्यादित वैज्ञानिक जानकारियाँ हमें सर्वनाश की ओर ले जा सकती हैं। यही वह स्थल है जहाँ हमें धर्म और दर्शन की सहायता लेनी पड़ेगी; क्योंकि वैज्ञानिक भी मानते हैं कि जीवन को सँवारने और मानवीय भावनाओं को प्रभावित करने का अधिक अभ्यास और अनुभव दर्शन और धर्म को ही है।’
विश्व संस्कृति की अन्तर्धाराओं का प्रवाहपूर्ण, प्रामाणिक और सतर्क विश्लेषण। Dharm, darshan aur vigyan apne-apne tariqe se satya aur gyan ki khoj karte rahte hain. Sthul rup se inki cheshtayen virodhi prtit ho sakti hain, lekin gahre mantavyon mein lakshya ek hi hai. Aastik aur nastik keval vyavharik vibhajan hain—prakriya ki bhinnta ke karan. ‘devtulya nastik’ pustak mein arun bhole kuchh vishisht vyaktitvon ke madhyam se jivan ke rahasyon ko janne ka pryas karte hain. ‘gyanpipasu gautam’, ‘antarmukhi vigyan’, ‘tatasth prkriti’, ‘vaigyanik gyan-mimansa’, ‘sandeh aur shraddha ke sangam’, ‘sanvad aur sahyog, jale dip se dip tatha vigyan aur niyati shirshkon ke antargat lekhak ne satya aur gyan ki khoj karnevale vishvvikhyat vyaktitvon ka vishleshan kiya hai.
Lekhak ka uddeshya spasht hai. Vah chahta hai ki shaktiyon mein samanvay ho.
Lekhak ke shabdon mein : ‘apne anveshan aur pryogon se vigyan ne jo tathya batore hain, un sabke aatyantik arth kya hain tatha lokmangal ki drishti se unka param upyog kya hoga, isi ka bodh gyan mana jayega. Vaise gyan ke abhav mein amaryadit vaigyanik jankariyan hamein sarvnash ki or le ja sakti hain. Yahi vah sthal hai jahan hamein dharm aur darshan ki sahayta leni padegi; kyonki vaigyanik bhi mante hain ki jivan ko sanvarane aur manviy bhavnaon ko prbhavit karne ka adhik abhyas aur anubhav darshan aur dharm ko hi hai. ’
Vishv sanskriti ki antardharaon ka prvahpurn, pramanik aur satark vishleshan.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products