Democresiya

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Democresiya

Democresiya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘डेमोक्रेसिया’ प्रतिष्ठित कथाकार असग़र वजाहत की विशिष्ट कहानियों का संग्रह है। संग्रह की भूमिका में वे लिखते हैं : ‘जीवन इतना नंगा हो गया है कि अब लेखक उसकी परतें उखाड़ेगा? रोज़ अख़बारों में जो छपता है, वह पूरे समाज को नंगा करने के लिए काफ़ी है। मूल्यहीनता की जो स्थिति है, स्वार्थ साधने की जो पराकाष्ठा है, हिंसा और अपराध का जो बोलबाला है, सत्ता और धन के लिए कुछ भी कर देने की होड़, असहिष्णुता और दूसरे को अपमानित करने का भाव जो आज हमारे समाज में है, वह पहले नहीं था आज हम अजीब मोड़ पर खड़े हैं। रचनाकार के लिए यह चुनौतियों से भरा समय है। और इन हालात में लगता है, क्या लिखा जाए?’ लेखन, सम्प्रेषण, हस्तक्षेप और सार्थकता से जुड़े सवालों का सामना असग़र वजाहत ने अपनी कहानियों में बख़ूबी किया है। भाषा की व्यंजनाशक्ति का ऐसा विलक्षण प्रयोग बहुत कम रचनाकारों में दिखता है। ‘देखन में छोटे लगें घाव करें गम्भीर’ के अर्थ को इन कहानियों में सोदाहरण पढ़ा जा सकता है। प्रखर राजनीतिक-सामाजिक विवेक असग़र वजाहत की रचनाओं में प्राणशक्ति है। ‘demokresiya’ prtishthit kathakar asgar vajahat ki vishisht kahaniyon ka sangrah hai. Sangrah ki bhumika mein ve likhte hain : ‘jivan itna nanga ho gaya hai ki ab lekhak uski parten ukhadega? roz akhbaron mein jo chhapta hai, vah pure samaj ko nanga karne ke liye kafi hai. Mulyhinta ki jo sthiti hai, svarth sadhne ki jo parakashtha hai, hinsa aur apradh ka jo bolbala hai, satta aur dhan ke liye kuchh bhi kar dene ki hod, ashishnuta aur dusre ko apmanit karne ka bhav jo aaj hamare samaj mein hai, vah pahle nahin tha aaj hum ajib mod par khade hain. Rachnakar ke liye ye chunautiyon se bhara samay hai. Aur in halat mein lagta hai, kya likha jaye?’ lekhan, sampreshan, hastakshep aur sarthakta se jude savalon ka samna asgar vajahat ne apni kahaniyon mein bakhubi kiya hai. Bhasha ki vyanjnashakti ka aisa vilakshan pryog bahut kam rachnakaron mein dikhta hai. ‘dekhan mein chhote lagen ghav karen gambhir’ ke arth ko in kahaniyon mein sodahran padha ja sakta hai. Prkhar rajnitik-samajik vivek asgar vajahat ki rachnaon mein pranshakti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products