BackBack
-11%

Democresiya

Rs. 300 Rs. 267

‘डेमोक्रेसिया’ प्रतिष्ठित कथाकार असग़र वजाहत की विशिष्ट कहानियों का संग्रह है। संग्रह की भूमिका में वे लिखते हैं : ‘जीवन इतना नंगा हो गया है कि अब लेखक उसकी परतें उखाड़ेगा? रोज़ अख़बारों में जो छपता है, वह पूरे समाज को नंगा करने के लिए काफ़ी है। मूल्यहीनता की जो... Read More

BlackBlack
Description

‘डेमोक्रेसिया’ प्रतिष्ठित कथाकार असग़र वजाहत की विशिष्ट कहानियों का संग्रह है। संग्रह की भूमिका में वे लिखते हैं : ‘जीवन इतना नंगा हो गया है कि अब लेखक उसकी परतें उखाड़ेगा? रोज़ अख़बारों में जो छपता है, वह पूरे समाज को नंगा करने के लिए काफ़ी है। मूल्यहीनता की जो स्थिति है, स्वार्थ साधने की जो पराकाष्ठा है, हिंसा और अपराध का जो बोलबाला है, सत्ता और धन के लिए कुछ भी कर देने की होड़, असहिष्णुता और दूसरे को अपमानित करने का भाव जो आज हमारे समाज में है, वह पहले नहीं था आज हम अजीब मोड़ पर खड़े हैं। रचनाकार के लिए यह चुनौतियों से भरा समय है। और इन हालात में लगता है, क्या लिखा जाए?’ लेखन, सम्प्रेषण, हस्तक्षेप और सार्थकता से जुड़े सवालों का सामना असग़र वजाहत ने अपनी कहानियों में बख़ूबी किया है। भाषा की व्यंजनाशक्ति का ऐसा विलक्षण प्रयोग बहुत कम रचनाकारों में दिखता है। ‘देखन में छोटे लगें घाव करें गम्भीर’ के अर्थ को इन कहानियों में सोदाहरण पढ़ा जा सकता है। प्रखर राजनीतिक-सामाजिक विवेक असग़र वजाहत की रचनाओं में प्राणशक्ति है। ‘demokresiya’ prtishthit kathakar asgar vajahat ki vishisht kahaniyon ka sangrah hai. Sangrah ki bhumika mein ve likhte hain : ‘jivan itna nanga ho gaya hai ki ab lekhak uski parten ukhadega? roz akhbaron mein jo chhapta hai, vah pure samaj ko nanga karne ke liye kafi hai. Mulyhinta ki jo sthiti hai, svarth sadhne ki jo parakashtha hai, hinsa aur apradh ka jo bolbala hai, satta aur dhan ke liye kuchh bhi kar dene ki hod, ashishnuta aur dusre ko apmanit karne ka bhav jo aaj hamare samaj mein hai, vah pahle nahin tha aaj hum ajib mod par khade hain. Rachnakar ke liye ye chunautiyon se bhara samay hai. Aur in halat mein lagta hai, kya likha jaye?’ lekhan, sampreshan, hastakshep aur sarthakta se jude savalon ka samna asgar vajahat ne apni kahaniyon mein bakhubi kiya hai. Bhasha ki vyanjnashakti ka aisa vilakshan pryog bahut kam rachnakaron mein dikhta hai. ‘dekhan mein chhote lagen ghav karen gambhir’ ke arth ko in kahaniyon mein sodahran padha ja sakta hai. Prkhar rajnitik-samajik vivek asgar vajahat ki rachnaon mein pranshakti hai.