BackBack
-11%

Dekhani

Rs. 250 Rs. 223

इस संग्रह में एक वरदान माँगा गया है—‘ज़ि‍न्दगी का रमणीय सतरंगी बुलबुला व्यर्थ न हो, कि दरख़्तों से झाँकता रोशन सूर्य अस्त न हो, विनाश तत्त्व के झपट्टे में भी भूमि की उग्रगन्धी धूल गमकती रहे और जीने का समृद्ध कबाड़ पूरे घर-भर में जमा होता रहे।’ इन सभी सचेतन... Read More

BlackBlack
Description

इस संग्रह में एक वरदान माँगा गया है—‘ज़ि‍न्दगी का रमणीय सतरंगी बुलबुला व्यर्थ न हो, कि दरख़्तों से झाँकता रोशन सूर्य अस्त न हो, विनाश तत्त्व के झपट्टे में भी भूमि की उग्रगन्धी धूल गमकती रहे और जीने का समृद्ध कबाड़ पूरे घर-भर में जमा होता रहे।’ इन सभी सचेतन बिम्बों में जिजीविषा का स्रोत उफन-उफनकर बहता है।
यह प्रवृत्ति महानगरीय कविता की मृत्युग्रस्त प्रवृत्ति पर चोट है। मृत्यु के प्रति एक सचेत एहसास के कारण जीवन के प्रति इसकी निष्ठा खोखली नहीं है, उसमें एक दृढ़ता है। इस तरह हमेशा अच्छी ज़ि‍न्दगी पर मृत्यु का अंकुश तना होता है। इसलिए नेमाड़े जी की कविता मृत्यु के एहसास से ध्वनित विनाश तत्त्व को अनदेखा कर कोरे आशावाद की तरफ़ नहीं झुकती। वह महानगरीय कविता की तरह मृत्यु की प्रभुसत्ता को तटस्थता से स्वीकार नहीं करती, बल्कि इस प्रभुसत्ता को चुनौती देनेवाले जीवनदायी प्रेरणाओं के सन्‍दर्भ म़जबूती से खड़ी करती है। इस विनाश तत्त्व को मात देता जीवन के प्रति अदम्य उत्साह और उससे स्वभावत: प्राप्त जुझारूपन नेमाड़े जी का स्थायी भाव है। उनकी इसी विलक्षण जीवन-दृष्टि का दर्शन उनकी कविताओं में भी होता है।
—प्रकाश देशपांडे केजकर Is sangrah mein ek vardan manga gaya hai—‘zi‍ndgi ka ramniy satrangi bulabula vyarth na ho, ki darakhton se jhankata roshan surya ast na ho, vinash tattv ke jhapatte mein bhi bhumi ki ugrgandhi dhul gamakti rahe aur jine ka samriddh kabad pure ghar-bhar mein jama hota rahe. ’ in sabhi sachetan bimbon mein jijivisha ka srot uphan-uphankar bahta hai. Ye prvritti mahanagriy kavita ki mrityugrast prvritti par chot hai. Mrityu ke prati ek sachet ehsas ke karan jivan ke prati iski nishtha khokhli nahin hai, usmen ek dridhta hai. Is tarah hamesha achchhi zi‍ndgi par mrityu ka ankush tana hota hai. Isaliye nemade ji ki kavita mrityu ke ehsas se dhvnit vinash tattv ko andekha kar kore aashavad ki taraf nahin jhukti. Vah mahanagriy kavita ki tarah mrityu ki prabhusatta ko tatasthta se svikar nahin karti, balki is prabhusatta ko chunauti denevale jivandayi prernaon ke san‍darbh majbuti se khadi karti hai. Is vinash tattv ko maat deta jivan ke prati adamya utsah aur usse svbhavat: prapt jujharupan nemade ji ka sthayi bhav hai. Unki isi vilakshan jivan-drishti ka darshan unki kavitaon mein bhi hota hai.
—prkash deshpande kejkar