Look Inside
Deh Ki Bhasha
Deh Ki Bhasha
Deh Ki Bhasha
Deh Ki Bhasha

Deh Ki Bhasha

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Deh Ki Bhasha

Deh Ki Bhasha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘देह की भाषा’ सुरेश कुमार वशिष्ठ का महत्त्वपूर्ण कविता-संग्रह है। गाँव और माटी से जुड़े सुरेश सामाजिक अन्तःकरण रखनेवाले कवि हैं और इसी दायरे में रिश्तों की तलाश करते हैं। वे अपनी परिस्थिति और अपनी काव्यवस्तु से प्रगीतात्मक रिश्ता बनाकर जीवन के अनुभव की अखंडता और भाव-जगत की सच्चाई को शब्दों में समेट लेते हैं। वे प्रेम के चित्र उकेरते हुए जीवन से एक अपूर्व सांगीतिक लय बनाए रखने में सफल साबित होते हैं।
‘देह की भाषा’ में कवि का विनम्र मानववाद जीवन के राग-रंग और रति के अलावा समय से जुड़े संकट, व्यक्ति की पीड़ा, उसके रुदन-चिन्ता और आघात से रागात्मक लगाव रखने में सफल साबित होता है। रवीन्द्रनाथ टैगोर कहते हैं, ‘संसार की वास्तविकता मनुष्य की भावनात्मक और कल्पनात्मक पृष्ठभूमि में ही तो प्रकट होती है!’ प्रथमद्रष्ट्या सुरेश बेहद बेपरवाह नज़र आते हैं मगर कभी देह की परिधि में बँधकर प्रेम की सत्ता को स्वीकार करते हुए ख़ुद को उससे दूर नहीं जाने की ज़िद करते दीखते हैं और कभी दूर रहकर भी सहज नहीं रह पाते बल्कि उसके मंगल में अपना मंगल ढूँढ़ते हैं। उसके राग में ही जीवन के रंग ढूँढ़ते हैं...जिन रंगों में रिश्तों की ख़ुशबू है।
सुरेश की कविताओं में भाषाई सहजता है, जिनमें उनके स्वभाव का भोलापन है, जिसके बूते उन्होंने प्रेम के हर पक्ष को समझा है...पूर्णता के साथ, पूर्वग्रह से परे। प्रेम को वे इतना सघन मानते हैं कि पूछो मत...जैसे फ़र्श पर पसरे पानी से लकीरें खींची जाएँ....रेट पर कुछ लिखा जाए, थोड़े क्षणों के लिए ही सही। फिर जैसे सब कुछ धुल जाए, बिसर जाए और रह जाएँ मात्र स्मृतियाँ...हज़ारों स्मृतियाँ अतीत के दामन में। शान्त-स्थिर मगर निरन्तरता के साथ। ‘deh ki bhasha’ suresh kumar vashishth ka mahattvpurn kavita-sangrah hai. Ganv aur mati se jude suresh samajik antःkaran rakhnevale kavi hain aur isi dayre mein rishton ki talash karte hain. Ve apni paristhiti aur apni kavyvastu se prgitatmak rishta banakar jivan ke anubhav ki akhandta aur bhav-jagat ki sachchai ko shabdon mein samet lete hain. Ve prem ke chitr ukerte hue jivan se ek apurv sangitik lay banaye rakhne mein saphal sabit hote hain. ‘deh ki bhasha’ mein kavi ka vinamr manavvad jivan ke rag-rang aur rati ke alava samay se jude sankat, vyakti ki pida, uske rudan-chinta aur aaghat se ragatmak lagav rakhne mein saphal sabit hota hai. Ravindrnath taigor kahte hain, ‘sansar ki vastavikta manushya ki bhavnatmak aur kalpnatmak prishthbhumi mein hi to prkat hoti hai!’ prathmadrashtya suresh behad beparvah nazar aate hain magar kabhi deh ki paridhi mein bandhakar prem ki satta ko svikar karte hue khud ko usse dur nahin jane ki zid karte dikhte hain aur kabhi dur rahkar bhi sahaj nahin rah pate balki uske mangal mein apna mangal dhundhate hain. Uske raag mein hi jivan ke rang dhundhate hain. . . Jin rangon mein rishton ki khushbu hai.
Suresh ki kavitaon mein bhashai sahajta hai, jinmen unke svbhav ka bholapan hai, jiske bute unhonne prem ke har paksh ko samjha hai. . . Purnta ke saath, purvagrah se pare. Prem ko ve itna saghan mante hain ki puchho mat. . . Jaise farsh par pasre pani se lakiren khinchi jayen. . . . Ret par kuchh likha jaye, thode kshnon ke liye hi sahi. Phir jaise sab kuchh dhul jaye, bisar jaye aur rah jayen matr smritiyan. . . Hazaron smritiyan atit ke daman mein. Shant-sthir magar nirantarta ke saath.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products