BackBack

Dawain Aur Hum

Rs. 75

मानव ने अपनी सुरक्षा के लिए दवाओं की एक बहुत बडी दुनिया रच ली है। यह उनका ही चमत्कार है कि जहाँ सौ साल पहले धरती पर आदमी की औसत उम्र 25 से भी कम थी, आज वह दुगुनी-तिगुनी हो गई है। कठिन से कठिन, दु:साध्य से दु:साध्य रोग जीत... Read More

BlackBlack
Description

मानव ने अपनी सुरक्षा के लिए दवाओं की एक बहुत बडी दुनिया रच ली है। यह उनका ही चमत्कार है कि जहाँ सौ साल पहले धरती पर आदमी की औसत उम्र 25 से भी कम थी, आज वह दुगुनी-तिगुनी हो गई है। कठिन से कठिन, दु:साध्य से दु:साध्य रोग जीत लिए गए हैं। यह सच है कि जीवन के तार दवाओं से जितने मुक्त
रहें, यह जीवन उतना ही सुखमय रहता है, किन्तु कठिन घड़‍ियों में दवाओं का सहारा न लेने में भी जीवन की जीत नहीं, हार है।
दवाओं की दुनिया पर प्रकाश डालती या कृति एक छोटी हैंडबुक है, जिसमें दवाओं से जुडी कुछ बहुत बुनियादी बातें और व्यावहारिक पहलू उकेरे गए हैं—डॉक्टर के पर्चे में बने संकेत क्या इंगित करते हैं, दवाओं के सुरक्षित प्रयोग के सच्चे मायने क्या हैं, दवाओं के साथ भोजन सम्‍बन्‍धी क्या-क्या परहेज़ ज़रूरी हैं, प्रमुख दवाओं के साथ अनिवार्य सावधानियाँ क्या हैं, कब कोई दवा दूसरी दवा को पटकी दे सकती है, कब किसे बढ़ावा देकर जीवन मुश्किल कर सकती है, इसका एक संक्षिप्त विवरण इस रचना में प्रस्तुत है।
यह विज्ञान इतना विशद और विशाल है कि इसका अंश-भर ही इस पुस्तक में आ सका है। यूँ भी इस लघु रचना की सफलता इसी में है कि वह पाठक में जागरूकता का दीया प्रज्वलित कर सके, उसे नीमहकीमी की काली छाया से मुक्त होने की ओर प्रेरित कर सके। कृति में उपलब्ध सभी जानकारियाँ आयुर्विज्ञान के आधिकारिक ग्रन्‍थों पर आधारित हैं जिसमें लेखक के चिकित्सकीय जीवन के तीन दशकों का अनुभव अभिन्न रूप से समाविष्ट है । Manav ne apni suraksha ke liye davaon ki ek bahut badi duniya rach li hai. Ye unka hi chamatkar hai ki jahan sau saal pahle dharti par aadmi ki ausat umr 25 se bhi kam thi, aaj vah duguni-tiguni ho gai hai. Kathin se kathin, du:sadhya se du:sadhya rog jit liye ge hain. Ye sach hai ki jivan ke taar davaon se jitne muktRahen, ye jivan utna hi sukhmay rahta hai, kintu kathin ghad‍iyon mein davaon ka sahara na lene mein bhi jivan ki jit nahin, haar hai.
Davaon ki duniya par prkash dalti ya kriti ek chhoti haindbuk hai, jismen davaon se judi kuchh bahut buniyadi baten aur vyavharik pahlu ukere ge hain—dauktar ke parche mein bane sanket kya ingit karte hain, davaon ke surakshit pryog ke sachche mayne kya hain, davaon ke saath bhojan sam‍ban‍dhi kya-kya parhez zaruri hain, prmukh davaon ke saath anivarya savdhaniyan kya hain, kab koi dava dusri dava ko patki de sakti hai, kab kise badhava dekar jivan mushkil kar sakti hai, iska ek sankshipt vivran is rachna mein prastut hai.
Ye vigyan itna vishad aur vishal hai ki iska ansh-bhar hi is pustak mein aa saka hai. Yun bhi is laghu rachna ki saphalta isi mein hai ki vah pathak mein jagrukta ka diya prajvlit kar sake, use nimahkimi ki kali chhaya se mukt hone ki or prerit kar sake. Kriti mein uplabdh sabhi jankariyan aayurvigyan ke aadhikarik gran‍thon par aadharit hain jismen lekhak ke chikitskiy jivan ke tin dashkon ka anubhav abhinn rup se samavisht hai.