Dastangoi - 1

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Dastangoi - 1

Dastangoi - 1

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

दास्तान ज़बानी बयानिया है जिसे पेश करनेवाले दास्तानगो ज़बान, बयान, शायरी और क़िस्त के माहिर होते थे। दास्तानें बहुत-सी सुनाई गईं पर इनमें सबसे मशहूर हुई दास्ताने अमीर हमज़ा जिसमें हजरत मोहम्मद सः के चचा अमीर हमज़ा की ज़िन्दगी और उनके शानदार कारनामों को बयान किया जाता है।
18वीं और 19वीं सदी में जब ये दास्तान उर्दू में मक़बूल हुई तो इससे अदब और पेशकश का बेहतरीन मेल पैदा हुआ और इसमें कई ऐसी बातों का इज़ाफ़ा हुआ जो ख़ालिस हिन्दुस्तानी मिज़ाज की थीं। मसलन, तिलिस्म और अय्यारी जो बाद में दास्तानगोई का सबसे अहम हिस्सा साबित हुईं। बेशुमार क़िस्म के जानदार, सय्यारे सल्तनतें, तिलिस्म, जादूगर, देव, अय्यार, और अय्याराएँ जैसे किरदारों पर ‘मुश्तमिल दास्ताने-अमीर हमज़ा’ आख़िरकार 46 जख़ीम जिल्दों में पूरी होकर छपी और उर्दू अदब और हिन्दुस्तानी फनूने लतीफ़ा का मेराज साबित हुई।
दास्तानगोई का फ़न ज़बानी और तहरीरी दोनों शक़्लों में जिस वक़्त अपने उरूज पर पहुँचा तक़रीबन उसी वक़्त नए मिज़ाज और नए मीडिया की आमद के साथ बड़ी तेज़ी से इसका जवाल भी हुआ। आख़िरी दास्तानगो मीर बाक़र अली का इन्तकाल 1928 में हुआ और इसके साथ ही ये अजमी रवायत नापैद हो गई। Dastan zabani bayaniya hai jise pesh karnevale dastango zaban, bayan, shayri aur qist ke mahir hote the. Dastanen bahut-si sunai gain par inmen sabse mashhur hui dastane amir hamza jismen hajrat mohammad saः ke chacha amir hamza ki zindagi aur unke shandar karnamon ko bayan kiya jata hai. 18vin aur 19vin sadi mein jab ye dastan urdu mein maqbul hui to isse adab aur peshkash ka behatrin mel paida hua aur ismen kai aisi baton ka izafa hua jo khalis hindustani mizaj ki thin. Maslan, tilism aur ayyari jo baad mein dastangoi ka sabse aham hissa sabit huin. Beshumar qism ke jandar, sayyare saltanten, tilism, jadugar, dev, ayyar, aur ayyarayen jaise kirdaron par ‘mushtmil dastane-amir hamza’ aakhirkar 46 jakhim jildon mein puri hokar chhapi aur urdu adab aur hindustani phanune latifa ka meraj sabit hui.
Dastangoi ka fan zabani aur tahriri donon shaklon mein jis vaqt apne uruj par pahuncha taqriban usi vaqt ne mizaj aur ne midiya ki aamad ke saath badi tezi se iska javal bhi hua. Aakhiri dastango mir baqar ali ka intkal 1928 mein hua aur iske saath hi ye ajmi ravayat napaid ho gai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products