BackBack

Dastan Mughal Badshahon Ki

Rs. 300 – Rs. 400

इतिहास के समकालीन पन्ने भी सामान्य पाठक और हिन्दी माध्यम वाले छात्रों के लिए खुलें तो इतिहास के अवसान की घोषणा करनेवालों की आवाज़ मन्द ही नहीं पड़ेगी, अपितु बन्द ही हो जाएगी। इतिहास नई ताज़गी के साथ जीवित रहे, उसके लिए भी वापस उसी विषय की निगाह से उसे... Read More

PaperbackPaperback
HardboundHardbound
Rs. 300
readsample_tab

इतिहास के समकालीन पन्ने भी सामान्य पाठक और हिन्दी माध्यम वाले छात्रों के लिए खुलें तो इतिहास के अवसान की घोषणा करनेवालों की आवाज़ मन्द ही नहीं पड़ेगी, अपितु बन्द ही हो जाएगी। इतिहास नई ताज़गी के साथ जीवित रहे, उसके लिए भी वापस उसी विषय की निगाह से उसे फिर देखा जाए, जिसके साथ वह 19वीं सदी तक चलता रहा था, जब तक इसका वर्गीकरण इस प्रकार से नहीं हुआ था। मॉमसेन के विषय में हम सब जानते हैं जिस इतिहासकार को उसकी कृति रोम के इतिहास पर 20वीं सदी के पहले दशक के अन्त में साहित्य का ‘नोबेल पुरस्कार’ मिला था, उसी तरह का इतिहास दिलचस्प भी होगा और अपने तथ्यों के साथ ईमानदार भी होगा। Itihas ke samkalin panne bhi samanya pathak aur hindi madhyam vale chhatron ke liye khulen to itihas ke avsan ki ghoshna karnevalon ki aavaz mand hi nahin padegi, apitu band hi ho jayegi. Itihas nai tazgi ke saath jivit rahe, uske liye bhi vapas usi vishay ki nigah se use phir dekha jaye, jiske saath vah 19vin sadi tak chalta raha tha, jab tak iska vargikran is prkar se nahin hua tha. Maumsen ke vishay mein hum sab jante hain jis itihaskar ko uski kriti rom ke itihas par 20vin sadi ke pahle dashak ke ant mein sahitya ka ‘nobel puraskar’ mila tha, usi tarah ka itihas dilchasp bhi hoga aur apne tathyon ke saath iimandar bhi hoga.

Description

इतिहास के समकालीन पन्ने भी सामान्य पाठक और हिन्दी माध्यम वाले छात्रों के लिए खुलें तो इतिहास के अवसान की घोषणा करनेवालों की आवाज़ मन्द ही नहीं पड़ेगी, अपितु बन्द ही हो जाएगी। इतिहास नई ताज़गी के साथ जीवित रहे, उसके लिए भी वापस उसी विषय की निगाह से उसे फिर देखा जाए, जिसके साथ वह 19वीं सदी तक चलता रहा था, जब तक इसका वर्गीकरण इस प्रकार से नहीं हुआ था। मॉमसेन के विषय में हम सब जानते हैं जिस इतिहासकार को उसकी कृति रोम के इतिहास पर 20वीं सदी के पहले दशक के अन्त में साहित्य का ‘नोबेल पुरस्कार’ मिला था, उसी तरह का इतिहास दिलचस्प भी होगा और अपने तथ्यों के साथ ईमानदार भी होगा। Itihas ke samkalin panne bhi samanya pathak aur hindi madhyam vale chhatron ke liye khulen to itihas ke avsan ki ghoshna karnevalon ki aavaz mand hi nahin padegi, apitu band hi ho jayegi. Itihas nai tazgi ke saath jivit rahe, uske liye bhi vapas usi vishay ki nigah se use phir dekha jaye, jiske saath vah 19vin sadi tak chalta raha tha, jab tak iska vargikran is prkar se nahin hua tha. Maumsen ke vishay mein hum sab jante hain jis itihaskar ko uski kriti rom ke itihas par 20vin sadi ke pahle dashak ke ant mein sahitya ka ‘nobel puraskar’ mila tha, usi tarah ka itihas dilchasp bhi hoga aur apne tathyon ke saath iimandar bhi hoga.

Additional Information
Book Type

Paperback, Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Dastan Mughal Badshahon Ki

इतिहास के समकालीन पन्ने भी सामान्य पाठक और हिन्दी माध्यम वाले छात्रों के लिए खुलें तो इतिहास के अवसान की घोषणा करनेवालों की आवाज़ मन्द ही नहीं पड़ेगी, अपितु बन्द ही हो जाएगी। इतिहास नई ताज़गी के साथ जीवित रहे, उसके लिए भी वापस उसी विषय की निगाह से उसे फिर देखा जाए, जिसके साथ वह 19वीं सदी तक चलता रहा था, जब तक इसका वर्गीकरण इस प्रकार से नहीं हुआ था। मॉमसेन के विषय में हम सब जानते हैं जिस इतिहासकार को उसकी कृति रोम के इतिहास पर 20वीं सदी के पहले दशक के अन्त में साहित्य का ‘नोबेल पुरस्कार’ मिला था, उसी तरह का इतिहास दिलचस्प भी होगा और अपने तथ्यों के साथ ईमानदार भी होगा। Itihas ke samkalin panne bhi samanya pathak aur hindi madhyam vale chhatron ke liye khulen to itihas ke avsan ki ghoshna karnevalon ki aavaz mand hi nahin padegi, apitu band hi ho jayegi. Itihas nai tazgi ke saath jivit rahe, uske liye bhi vapas usi vishay ki nigah se use phir dekha jaye, jiske saath vah 19vin sadi tak chalta raha tha, jab tak iska vargikran is prkar se nahin hua tha. Maumsen ke vishay mein hum sab jante hain jis itihaskar ko uski kriti rom ke itihas par 20vin sadi ke pahle dashak ke ant mein sahitya ka ‘nobel puraskar’ mila tha, usi tarah ka itihas dilchasp bhi hoga aur apne tathyon ke saath iimandar bhi hoga.