BackBack
-11%

Das Chakra Raja

Rs. 250 Rs. 223

‘दस चक्र राजा’ कवि के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुके हरीश चन्द्र पाण्डे का पहला कहानी-संग्रह है। इन कहानियों को पढ़ते हुए स्पष्ट प्रतीत होता है कि कवि-दृष्टि के साथ जीवन के गद्यात्मक यथार्थ को चित्रित करने में लेखक को पूर्ण सफलता प्राप्त हुई है। इन कहानियों के केन्द्र... Read More

BlackBlack
Description

‘दस चक्र राजा’ कवि के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुके हरीश चन्द्र पाण्डे का पहला कहानी-संग्रह है। इन कहानियों को पढ़ते हुए स्पष्ट प्रतीत होता है कि कवि-दृष्टि के साथ जीवन के गद्यात्मक यथार्थ को चित्रित करने में लेखक को पूर्ण सफलता प्राप्त हुई है।
इन कहानियों के केन्द्र में सामान्य मनुष्य हैं। लगभग निम्न-मध्यमवर्ग के व्यक्ति। संग्रह की कहानियाँ इन व्यक्तियों के छोटे-छोटे सुखों और दु:खों को व्यक्त करती हैं। लेखक ने सूक्ष्म पर्यवेक्षण का परिचय देते हुए जैसे इस जीवन को शब्दों में पुनरुज्जीवित किया है।
बहुतेरी कहानियाँ स्त्रियों के अन्तरंग की झलक हैं। लेखक ने ‘स्त्री-विमर्श’ के ‘मार्मिक मुहावरे’ का लोभ त्यागकर यथार्थ को इसके सम्यक् स्वरूप में प्रस्तुत किया है। यही कारण है कि ‘वह फूल छूना चाहती है’, ‘प्रतीक्षा’, ‘कुन्ता’, ‘ढाल’ जैसी कहानियाँ मन में बस जाती हैं।
हरीश चन्द्र पाण्डे की अभिव्यक्ति में अनुभवों का वैविध्य है। ‘बोहनी’, ‘साथी’ व ‘प्रोत्साहन’ कहानियों से इसे परखा जा सकता है। अपनी सरलता और सहजता में ये रचनाएँ बेजोड़ हैं। शब्द-स्फीति के संक्रामक समय में लेखक का संयम और सन्तुलन सराहने योग्य है। भाषा में अद्‌भुत लय है, जैसे—‘अरे भई, शब्द की अपनी एक सुगन्ध होती है? व्याप्ति होती है?...बुरूंश कहते ही चारों ओर उजाला-सा फैल जाता है। फूलों से लदी पहाड़ियों और घरों की देहरियाँ कौंधने लगती हैं?’
इन कहानियों को पढ़ना सहज दिखते जटिल यथार्थ से गुज़रना है। ‘das chakr raja’ kavi ke rup mein prsiddhi prapt kar chuke harish chandr pande ka pahla kahani-sangrah hai. In kahaniyon ko padhte hue spasht prtit hota hai ki kavi-drishti ke saath jivan ke gadyatmak yatharth ko chitrit karne mein lekhak ko purn saphalta prapt hui hai. In kahaniyon ke kendr mein samanya manushya hain. Lagbhag nimn-madhyamvarg ke vyakti. Sangrah ki kahaniyan in vyaktiyon ke chhote-chhote sukhon aur du:khon ko vyakt karti hain. Lekhak ne sukshm paryvekshan ka parichay dete hue jaise is jivan ko shabdon mein punrujjivit kiya hai.
Bahuteri kahaniyan striyon ke antrang ki jhalak hain. Lekhak ne ‘stri-vimarsh’ ke ‘marmik muhavre’ ka lobh tyagkar yatharth ko iske samyak svrup mein prastut kiya hai. Yahi karan hai ki ‘vah phul chhuna chahti hai’, ‘prtiksha’, ‘kunta’, ‘dhal’ jaisi kahaniyan man mein bas jati hain.
Harish chandr pande ki abhivyakti mein anubhvon ka vaividhya hai. ‘bohni’, ‘sathi’ va ‘protsahan’ kahaniyon se ise parkha ja sakta hai. Apni saralta aur sahajta mein ye rachnayen bejod hain. Shabd-sphiti ke sankramak samay mein lekhak ka sanyam aur santulan sarahne yogya hai. Bhasha mein ad‌bhut lay hai, jaise—‘are bhai, shabd ki apni ek sugandh hoti hai? vyapti hoti hai?. . . Burunsh kahte hi charon or ujala-sa phail jata hai. Phulon se ladi pahadiyon aur gharon ki dehariyan kaundhne lagti hain?’
In kahaniyon ko padhna sahaj dikhte jatil yatharth se guzarna hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year