BackBack
-11%

Darshan Pradarshan

Rs. 350 Rs. 312

भरत के नाट्यशास्त्र से लेकर ‘आषाढ़ का एक दिन’ तक फैले दो-ढाई हज़ार वर्षों के बीच भारतीय रंगमंच में जो चिन्तन और दर्शन विकसित हुआ है, उसे समकालीन रंगकर्म के साथ जोड़कर विवेचित-विश्लेषित करनेवाली कृति है : ‘दर्शन प्रदर्शन’। इसमें जहाँ एक ओर शास्त्र, सिद्धान्त, अभिनय, आलेख और शैली को... Read More

BlackBlack
Description

भरत के नाट्यशास्त्र से लेकर ‘आषाढ़ का एक दिन’ तक फैले दो-ढाई हज़ार वर्षों के बीच भारतीय रंगमंच में जो चिन्तन और दर्शन विकसित हुआ है, उसे समकालीन रंगकर्म के साथ जोड़कर विवेचित-विश्लेषित करनेवाली कृति है : ‘दर्शन प्रदर्शन’।
इसमें जहाँ एक ओर शास्त्र, सिद्धान्त, अभिनय, आलेख और शैली को आधार बनाकर एक नए रंगदर्शन को रचने की कोशिश है, तो दूसरी ओर अलग-अलग समय पर लिखे और मंचित तीन प्रतिनिधि नाटकों के बहाने से उस नए रंगदर्शन की व्यावहारिकता को भी जाँचने-परखने का प्रयास किया गया है। इसी के साथ बीसवीं शताब्दी के हिन्दी रंगमंच, नाट्यालोचना और इन दोनों के भीतर से उभरते इक्कीसवीं शताब्दी के रंगमंच की भावी दिशाओं और सम्भावनाओं पर भी गम्भीर विमर्श किया गया है। अपने समय के सबसे ज़्यादा चर्चित और विवादास्पद दो रंग-निर्देशकों के साथ लम्बी बातचीत इस पुस्तक को एक सार्थक परिणति प्रदान करती है।
रंगमंच के पाठकों, दर्शकों, समीक्षकों और अध्येताओं के लिए समान रूप से अनिवार्य और अपरिहार्य रचना है : ‘दर्शन प्रदर्शन’। Bharat ke natyshastr se lekar ‘ashadh ka ek din’ tak phaile do-dhai hazar varshon ke bich bhartiy rangmanch mein jo chintan aur darshan viksit hua hai, use samkalin rangkarm ke saath jodkar vivechit-vishleshit karnevali kriti hai : ‘darshan prdarshan’. Ismen jahan ek or shastr, siddhant, abhinay, aalekh aur shaili ko aadhar banakar ek ne rangdarshan ko rachne ki koshish hai, to dusri or alag-alag samay par likhe aur manchit tin pratinidhi natkon ke bahane se us ne rangdarshan ki vyavharikta ko bhi janchane-parakhne ka pryas kiya gaya hai. Isi ke saath bisvin shatabdi ke hindi rangmanch, natyalochna aur in donon ke bhitar se ubharte ikkisvin shatabdi ke rangmanch ki bhavi dishaon aur sambhavnaon par bhi gambhir vimarsh kiya gaya hai. Apne samay ke sabse zyada charchit aur vivadaspad do rang-nirdeshkon ke saath lambi batchit is pustak ko ek sarthak parinati prdan karti hai.
Rangmanch ke pathkon, darshkon, samikshkon aur adhyetaon ke liye saman rup se anivarya aur apariharya rachna hai : ‘darshan prdarshan’.