BackBack
-11%

Darakte Himalaya Par Dar-Ba-Dar

Rs. 600 Rs. 534

अजय सोडानी की किताब 'दरकते हिमालय पर दर-ब-दर’ इस अर्थ में अनूठी है कि यह दुर्गम हिमालय का सिर्फ़ एक यात्रा-वृत्तान्त भर नहीं है, बल्कि यह जीवन-मृत्यु के बड़े सवालों से जूझते हुए वाचिक और पौराणिक इतिहास की भी एक यात्रा है। इस पुस्तक को पढ़ते हुए बार-बार लेखक और... Read More

Description

अजय सोडानी की किताब 'दरकते हिमालय पर दर-ब-दर’ इस अर्थ में अनूठी है कि यह दुर्गम हिमालय का सिर्फ़ एक यात्रा-वृत्तान्त भर नहीं है, बल्कि यह जीवन-मृत्यु के बड़े सवालों से जूझते हुए वाचिक और पौराणिक इतिहास की भी एक यात्रा है। इस पुस्तक को पढ़ते हुए बार-बार लेखक और उनकी सहधर्मिणी अपर्णा के जीवट और साहस पर आश्चर्य होता है। अव्वल तो मानसून के मौसम में कोई सामान्य पर्यटक इस दुर्गम इलाक़े की यात्रा करता नहीं, करता भी है तो उसके बचने की सम्भावना कम ही होती है। ऐसे मौसम में ख़ुद पहाड़ी लोग भी इन स्थानों को प्रायः छोड़ देते हैं। लेकिन किसी ठेठ यायावर की वह यात्रा भी क्या जिसमें जोखिम न हो। इस लिहाज़ से देखें तो यह यात्रा-वृत्तान्त दाँतों तले उँगली दबाने पर मजबूर करनेवाला है। यात्रा में संकट कम नहीं है। भूकम्प आता है, ग्लेशियर दरक उठते हैं। कई बार तो स्थानीय सहयोगी भी हताश हो जाते हैं और इसके लिए लेखक की नास्तिकता को दोष देते हैं। फिर भी यह यात्रा न केवल स्थानीय जन-जीवन के कई दुर्लभ चित्र सामने लाती है, बल्कि हज़ारों फीट ऊँचाई पर खिलनेवाले ब्रह्मकमल, नीलकमल और फेनकमल जैसे दुर्लभ फूलों के भी साक्षात् दर्शन करा देती है। लेखक बार-बार पौराणिक इतिहास में जाता है और पांडवों के स्वर्गारोहण के मार्ग के चिह्न खोजता फिरता है। श्रुति-इतिहास से मेल बिठाते हुए पांडवों का ही नहीं, कौरवों का भी इतिहास जोड़ता चलता है। इस बारे में लेखक का अपना अलग ही दृष्टिकोण है। वह ‘महाभारत’ को इतिहास नहीं मानता, लेकिन यह भी नहीं मान पाता कि उसमें सब कुछ कपोल कल्पना है। इस अर्थ में देखें तो यह किताब इतिहास का भी यात्रा-वृत्तान्त है। आश्चर्य नहीं कि रवानी और मौज सिर्फ़ लेखक के योजना-निर्माण में ही नहीं, बल्कि इस वृत्तान्त की भाषा में भी है जिसे पढ़ने का सुख किसी औपन्यासिक रोमांच से भर देता है। Ajay sodani ki kitab darakte himalay par dar-ba-dar’ is arth mein anuthi hai ki ye durgam himalay ka sirf ek yatra-vrittant bhar nahin hai, balki ye jivan-mrityu ke bade savalon se jujhte hue vachik aur pauranik itihas ki bhi ek yatra hai. Is pustak ko padhte hue bar-bar lekhak aur unki sahdharmini aparna ke jivat aur sahas par aashcharya hota hai. Avval to mansun ke mausam mein koi samanya parytak is durgam ilaqe ki yatra karta nahin, karta bhi hai to uske bachne ki sambhavna kam hi hoti hai. Aise mausam mein khud pahadi log bhi in sthanon ko prayः chhod dete hain. Lekin kisi theth yayavar ki vah yatra bhi kya jismen jokhim na ho. Is lihaz se dekhen to ye yatra-vrittant danton tale ungali dabane par majbur karnevala hai. Yatra mein sankat kam nahin hai. Bhukamp aata hai, gleshiyar darak uthte hain. Kai baar to sthaniy sahyogi bhi hatash ho jate hain aur iske liye lekhak ki nastikta ko dosh dete hain. Phir bhi ye yatra na keval sthaniy jan-jivan ke kai durlabh chitr samne lati hai, balki hazaron phit uunchai par khilnevale brahmakmal, nilakmal aur phenakmal jaise durlabh phulon ke bhi sakshat darshan kara deti hai. Lekhak bar-bar pauranik itihas mein jata hai aur pandvon ke svargarohan ke marg ke chihn khojta phirta hai. Shruti-itihas se mel bithate hue pandvon ka hi nahin, kaurvon ka bhi itihas jodta chalta hai. Is bare mein lekhak ka apna alag hi drishtikon hai. Vah ‘mahabharat’ ko itihas nahin manta, lekin ye bhi nahin maan pata ki usmen sab kuchh kapol kalpna hai. Is arth mein dekhen to ye kitab itihas ka bhi yatra-vrittant hai. Aashcharya nahin ki ravani aur mauj sirf lekhak ke yojna-nirman mein hi nahin, balki is vrittant ki bhasha mein bhi hai jise padhne ka sukh kisi aupanyasik romanch se bhar deta hai.