Look Inside
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah

Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah

Regular price Rs. 186
Sale price Rs. 186 Regular price Rs. 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah

Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत में सांस्कृतिक अभ्युदय की गवेषणा करनेवाली यह पुस्तक उत्तर भारत में दलित-राजनीति के प्रस्फुटन का अवलोकन करती है और बताती है कि 1857 की विद्रोही दलित वीरांगनाएँ, उत्तर प्रदेश में दलित-स्वाभिमान की प्रतीक कैसे बनीं और उनका उपयोग बहुजन समाजवादी पार्टी की नेत्री मायावती की छवि निखारने के लिए कैसे किया गया। यह पुस्तक रेखांकित करती है कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में दलितों की भूमिका से सम्बन्धित मिथकों और स्मृतियों का उपयोग इधर राजनीतिक गोलबन्‍दी के लिए किस तरह किया जा रहा है। इसमें वे कहानियाँ भी निहित हैं जो दलितों के बीच तृणमूल स्तर पर राजनीतिक जागरूकता फैलाने के लिए कही जा रही हैं।
व्यपार-शोध और अन्वेषण पर आधारित इस पुस्तक में इस बात का भी उल्लेख है कि किस तरह लोगों के बीच प्रचलित क़‍िस्सों को अपने मनमुताबिक़ मौखिक रूप से या पम्फ़लेट के रूप में फिर से रखा जा रहा है और किस प्रकार अपने राजनीतिक हित-साधन के लिए प्रत्येक जाति के देवताओं, वीरों एवं अन्य सांस्कृतिक उपादानों को दिखाकर प्रतिमाओं, कैलेंडरों, पोस्टरों और स्मारकों के रूप में तब्दील कर दिया गया है। इस पुस्तक में यह भी दर्शाया गया है कि कैसे बी.एस.पी. अपना जनाधार बढ़ाने के लिए ऐतिहासिक सामग्रियों का निर्माण एवं पुनर्निर्माण करती है। यह पुस्तक ज़मीनी सच्चाइयों एवं परोक्ष जानकारियों पर आधारित है, जिसमें लेखक राजनीतिक गोलबन्‍दी के लिए ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक संसाधनों के इस्तेमाल का विरोध करता है। Bharat mein sanskritik abhyuday ki gaveshna karnevali ye pustak uttar bharat mein dalit-rajniti ke prasphutan ka avlokan karti hai aur batati hai ki 1857 ki vidrohi dalit virangnayen, uttar prdesh mein dalit-svabhiman ki prtik kaise banin aur unka upyog bahujan samajvadi parti ki netri mayavti ki chhavi nikharne ke liye kaise kiya gaya. Ye pustak rekhankit karti hai ki bhartiy svtantrta sangram mein daliton ki bhumika se sambandhit mithkon aur smritiyon ka upyog idhar rajnitik golban‍di ke liye kis tarah kiya ja raha hai. Ismen ve kahaniyan bhi nihit hain jo daliton ke bich trinmul star par rajnitik jagrukta phailane ke liye kahi ja rahi hain. Vypar-shodh aur anveshan par aadharit is pustak mein is baat ka bhi ullekh hai ki kis tarah logon ke bich prachlit qa‍isson ko apne manamutabiq maukhik rup se ya pamflet ke rup mein phir se rakha ja raha hai aur kis prkar apne rajnitik hit-sadhan ke liye pratyek jati ke devtaon, viron evan anya sanskritik upadanon ko dikhakar pratimaon, kailendron, postron aur smarkon ke rup mein tabdil kar diya gaya hai. Is pustak mein ye bhi darshaya gaya hai ki kaise bi. Es. Pi. Apna janadhar badhane ke liye aitihasik samagriyon ka nirman evan punarnirman karti hai. Ye pustak zamini sachchaiyon evan paroksh jankariyon par aadharit hai, jismen lekhak rajnitik golban‍di ke liye aitihasik evan sanskritik sansadhnon ke istemal ka virodh karta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products