BackBack
-11%

Daalia

Rs. 150 Rs. 134

हृषीकेश सुलभ का नया नाटक ‘दालिया’ एक प्रेमकथा है। युद्ध, हिंसा-प्रतिहिंसा, सत्ता के मद, राजनीति के घातों-प्रतिघातों के बीच यहाँ प्रेम अंकुरित होता है। इस प्रेम की निष्कलुषता और पवित्रता में तपकर मनुष्य का अहं पिघलता है और मानवीय संवेदनाओं में ढलकर जीवन को नए अर्थ देता है। जो नैसर्गिक... Read More

BlackBlack
Description

हृषीकेश सुलभ का नया नाटक ‘दालिया’ एक प्रेमकथा है। युद्ध, हिंसा-प्रतिहिंसा, सत्ता के मद, राजनीति के घातों-प्रतिघातों के बीच यहाँ प्रेम अंकुरित होता है। इस प्रेम की निष्कलुषता और पवित्रता में तपकर मनुष्य का अहं पिघलता है और मानवीय संवेदनाओं में ढलकर जीवन को नए अर्थ देता है। जो नैसर्गिक भावनाएँ और संवेदनाएँ जीवन की यात्रा में छूट जाती हैं या नष्ट हो जाती हैं, वे हमारे भावी जीवन के गर्भ में अपना बीज छोड़ जाती हैं। रवीन्द्रनाथ टैगोर की कथा ‘दालिया’ के माध्यम से इस नाटक में ऐसे ही बीजों के अंकुरण का दृश्य-काव्य रचने का प्रयास किया गया है। यहाँ प्रकृति है, और है प्रकृति से मनुष्य के गहन और आत्मीय सम्बन्ध की रूप-छवियाँ। यह नाटक गहन एकान्त के बीच भीड़ के कलरव और भीड़ के बीच एकान्त की नीरवता की तलाश है। यहाँ इतिहास पारम्परिक रूप में उपस्थित नहीं है। यहाँ इतिहास के पगचिह्न हैं और इन्हीं पगचिह्नों के सहारे नाटक के चरित्र अपनी यात्रा पर निकलते हैं। कहानी में जो प्रकट है, उससे इतर जो प्रच्छन्न है, वही इस नाटक का केन्द्रीय कथ्य बनता है।
इसकी भाषिक संरचना इसके कथ्य को काव्यात्मक विस्तार देती है और साथ ही इसकी संरचना में ऐसी लोच-लचक है जिससे निर्देशक और अभिनेता को पर्याप्त स्पेस मिलता है, ताकि वे अपने समय और समाज की प्रतिध्वनियाँ रच सकें और जीवन की नई अर्थछवियाँ उकेर सकें। हृषीकेश सुलभ का यह नया नाटक भारतीय रंगमंच को नई रंगभाषा और नए मुहावरे देता है और भारतीय रंग परम्परा का पुनराविष्कार करते हुए निर्देशक को रंगचर्या तथा अभिनेताओं को अभिनटन के लिए पर्याप्त अवसर देता है। Hrishikesh sulabh ka naya natak ‘daliya’ ek premaktha hai. Yuddh, hinsa-pratihinsa, satta ke mad, rajniti ke ghaton-pratighaton ke bich yahan prem ankurit hota hai. Is prem ki nishkalushta aur pavitrta mein tapkar manushya ka ahan pighalta hai aur manviy sanvednaon mein dhalkar jivan ko ne arth deta hai. Jo naisargik bhavnayen aur sanvednayen jivan ki yatra mein chhut jati hain ya nasht ho jati hain, ve hamare bhavi jivan ke garbh mein apna bij chhod jati hain. Ravindrnath taigor ki katha ‘daliya’ ke madhyam se is natak mein aise hi bijon ke ankuran ka drishya-kavya rachne ka pryas kiya gaya hai. Yahan prkriti hai, aur hai prkriti se manushya ke gahan aur aatmiy sambandh ki rup-chhaviyan. Ye natak gahan ekant ke bich bhid ke kalrav aur bhid ke bich ekant ki niravta ki talash hai. Yahan itihas paramprik rup mein upasthit nahin hai. Yahan itihas ke pagchihn hain aur inhin pagchihnon ke sahare natak ke charitr apni yatra par nikalte hain. Kahani mein jo prkat hai, usse itar jo prachchhann hai, vahi is natak ka kendriy kathya banta hai. Iski bhashik sanrachna iske kathya ko kavyatmak vistar deti hai aur saath hi iski sanrachna mein aisi loch-lachak hai jisse nirdeshak aur abhineta ko paryapt spes milta hai, taki ve apne samay aur samaj ki prtidhvaniyan rach saken aur jivan ki nai arthachhaviyan uker saken. Hrishikesh sulabh ka ye naya natak bhartiy rangmanch ko nai rangbhasha aur ne muhavre deta hai aur bhartiy rang parampra ka punravishkar karte hue nirdeshak ko rangcharya tatha abhinetaon ko abhintan ke liye paryapt avsar deta hai.