Look Inside
Cruser Sonata
Cruser Sonata
Cruser Sonata
Cruser Sonata
Cruser Sonata
Cruser Sonata

Cruser Sonata

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Cruser Sonata

Cruser Sonata

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
‘दो हुस्सार’ तोल्स्तोय की पहली गल्प रचना थी जो उनके निजी अनुभवों से इतर विषयवस्तु पर थी। पिता और पुत्र के नितान्त भिन्न व्यक्तित्वों और कारनामों के रूप में तोल्स्तोय ने दो पीढ़ियों को आमने–सामने खड़ा किया है। ‘सुखी दम्पती’ (1859) में तोल्स्तोय ने अपने निजी जीवन की घटनाओं को बड़ी ख़ूबसूरती से कला में ढाला है। कहानी के पहले भाग में एक संवेदनशील सत्रह वर्षीय युवती के मन में अपने से दूनी उम्र के व्यक्ति के लिए उपजते प्रेम का अद्भुत, काव्यात्मक वृत्तान्त है, पर पहले भाग का उल्लासमय, काव्यात्मक माहौल दूसरे भाग में वैवाहिक जीवन के तनावों और खिंचावों से छिन्न–भिन्न हो जाता है।
‘इवान इलिच की मौत’ एक सामान्य आदमी की कहानी है जिसे मौत की दहलीज़ पर अपने व्यतीत जीवन की निरर्थकता का अहसास होता है। इवान इलिच के जीवन के अन्तिम क्षणों की अनुभूति धार्मिक मुक्ति विषयक तोल्स्तोय की अवधारणा को प्रस्तुत करती है, लेकिन इन मिथ्याभासों के ऊपर रचना का गम्भीर मनोवैज्ञानिक यथार्थवाद हावी है। ‘क्रूज़र सोनाटा’ में ऐन्द्रिक प्यार और वासना के विरुद्ध संघर्ष को विषय बनाया गया है और नि:स्वार्थ प्यार के ईसाई सिद्धान्त की वकालत की गई है, लेकिन यहाँ भी तोल्स्तोय के धर्मोपदेशक के पहलू पर वस्तुस्थिति का आलोचनात्मक यथार्थवादी चित्रण हावी है। ‘इंसान और हैवान’ कहानी का मुख्य ‘नैरेटर’ एक घोड़ा है। तोल्स्तोय की अन्य प्रारम्भिक रचनाओं की तरह इस कहानी में भी मानव समाज की कृत्रिमता और परम्पराबद्धता पर, ख़ासकर सम्पत्ति की संस्था पर व्यंग्य किया गया है। ‘नाच के बाद’ (1903) में पचहत्तर वर्षीय तोल्स्तोय ने एक बार फिर कज़ान विश्वविद्यालय में युवा छात्र के रूप में अपने एक प्रेम सम्बन्ध से प्रेरणा ली है। अपने गहरे यथार्थवाद और मनोवैज्ञानिक पड़ताल के उपकरणों से वह अतीत के वातावरण को बेहद जीवन्त और ताज़गी-भरे ढंग से पाठकों के सामने सजीव करते हैं। लेकिन कहानी के अन्त में तोल्स्तोय पाठकों के मन पर राज्य के प्रति नफ़रत का भाव छोड़ने में सफल रहते हैं जिसे वह न केवल नागरिकों का शोषण करने बल्कि उनके मनोबल को तोड़ डालने की एक साज़िश मानते हैं। ‘do hussar’ tolstoy ki pahli galp rachna thi jo unke niji anubhvon se itar vishayvastu par thi. Pita aur putr ke nitant bhinn vyaktitvon aur karnamon ke rup mein tolstoy ne do pidhiyon ko aamne–samne khada kiya hai. ‘sukhi dampti’ (1859) mein tolstoy ne apne niji jivan ki ghatnaon ko badi khubsurti se kala mein dhala hai. Kahani ke pahle bhag mein ek sanvedanshil satrah varshiy yuvti ke man mein apne se duni umr ke vyakti ke liye upajte prem ka adbhut, kavyatmak vrittant hai, par pahle bhag ka ullasmay, kavyatmak mahaul dusre bhag mein vaivahik jivan ke tanavon aur khinchavon se chhinn–bhinn ho jata hai. ‘ivan ilich ki maut’ ek samanya aadmi ki kahani hai jise maut ki dahliz par apne vytit jivan ki nirarthakta ka ahsas hota hai. Ivan ilich ke jivan ke antim kshnon ki anubhuti dharmik mukti vishyak tolstoy ki avdharna ko prastut karti hai, lekin in mithyabhason ke uupar rachna ka gambhir manovaigyanik yatharthvad havi hai. ‘kruzar sonata’ mein aindrik pyar aur vasna ke viruddh sangharsh ko vishay banaya gaya hai aur ni:svarth pyar ke iisai siddhant ki vakalat ki gai hai, lekin yahan bhi tolstoy ke dharmopdeshak ke pahlu par vastusthiti ka aalochnatmak yatharthvadi chitran havi hai. ‘insan aur haivan’ kahani ka mukhya ‘nairetar’ ek ghoda hai. Tolstoy ki anya prarambhik rachnaon ki tarah is kahani mein bhi manav samaj ki kritrimta aur paramprabaddhta par, khaskar sampatti ki sanstha par vyangya kiya gaya hai. ‘nach ke bad’ (1903) mein pachhattar varshiy tolstoy ne ek baar phir kazan vishvvidyalay mein yuva chhatr ke rup mein apne ek prem sambandh se prerna li hai. Apne gahre yatharthvad aur manovaigyanik padtal ke upakarnon se vah atit ke vatavran ko behad jivant aur tazgi-bhare dhang se pathkon ke samne sajiv karte hain. Lekin kahani ke ant mein tolstoy pathkon ke man par rajya ke prati nafrat ka bhav chhodne mein saphal rahte hain jise vah na keval nagarikon ka shoshan karne balki unke manobal ko tod dalne ki ek sazish mante hain.
Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Pradip Rekhta Books

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products