Look Inside
Copyright
Copyright
Copyright
Copyright

Copyright

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Copyright

Copyright

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कॉपीराइट यानी प्रतिलिपि अधिकार का जन्म मौलिक सृजन और उसके व्यावसायिक हितों की रक्षा के लिए हुआ था। लेकिन कॉपीराइट के मामले छापाख़ाने के आविष्कार के बाद उठना शुरू हुए। इंग्लैंड के चार्ल्स द्वितीय ने पुस्तकों की नक़ल पर रोक लगाने के लिए 1662 में लाइसेंसिंग एक्ट पास किया। लेकिन पहला कॉपीराइट क़ानून 1709 में पास किए गए क़ानून को ही माना जाता है।
कॉपीराइट पुस्तकों का ही नहीं संगीत, गीत, फ़िल्म, फ़ोटोग्राफ़ी, कला, वास्तुकला से लेकर सॉफ़्टवेयर तक हर क्षेत्र में सम्भव है और यह केवल एक देश का मसला नहीं है। 1886 में बर्न सम्मेलन में इसके अन्तरराष्ट्रीय रूप का निर्धारण हुआ। 1995 में विश्व व्यापार संगठन बनने के बाद से इसका और विस्तार हो रहा है।
प्रस्तुत पुस्तक में भारतीय प्रतिलिपि अधिकार अधिनियम—1957 एवं प्रतिलिपि अधिकार नियमावली—1958 दोनों के उल्लेख हैं। इस अधिनियम की सम्पूर्ण जानकारी होने से रचनाकार यानी कलाकार, संगीतकार, लेखक आदि अपनी बौद्धिक सम्पदा की रक्षा कर सकते हैं। इस अर्थ में इस पुस्तक को सम्पूर्ण मार्गदर्शिका कहा जा सकता है जो लेखक, रचनाकार और प्रकाशक, सभी के लिए उपयोगी साबित होगी। Kaupirait yani pratilipi adhikar ka janm maulik srijan aur uske vyavsayik hiton ki raksha ke liye hua tha. Lekin kaupirait ke mamle chhapakhane ke aavishkar ke baad uthna shuru hue. Inglaind ke charls dvitiy ne pustkon ki naqal par rok lagane ke liye 1662 mein laisensing ekt paas kiya. Lekin pahla kaupirait qanun 1709 mein paas kiye ge qanun ko hi mana jata hai. Kaupirait pustkon ka hi nahin sangit, git, film, fotografi, kala, vastukla se lekar sauftveyar tak har kshetr mein sambhav hai aur ye keval ek desh ka masla nahin hai. 1886 mein barn sammelan mein iske antarrashtriy rup ka nirdharan hua. 1995 mein vishv vyapar sangthan banne ke baad se iska aur vistar ho raha hai.
Prastut pustak mein bhartiy pratilipi adhikar adhiniyam—1957 evan pratilipi adhikar niymavli—1958 donon ke ullekh hain. Is adhiniyam ki sampurn jankari hone se rachnakar yani kalakar, sangitkar, lekhak aadi apni bauddhik sampda ki raksha kar sakte hain. Is arth mein is pustak ko sampurn margdarshika kaha ja sakta hai jo lekhak, rachnakar aur prkashak, sabhi ke liye upyogi sabit hogi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products