Look Inside
Circus
Circus
Circus
Circus

Circus

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Circus

Circus

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सर्कस आज एक ख़त्म होती हुई कला है। सरकारी संरक्षण और प्रोत्साहन के अभाव, आधुनिक टेक्नोलॉजी-आधारित मनोरंजन के प्रभुत्व और उसकी अपनी आन्तरिक समस्याओं के चलते वह अपनी पारम्परिक जगह को खोता जा रहा है। लेकिन आज भी वह न सिर्फ़ एक बड़े दर्शक वर्ग को आकर्षित करता है, बल्कि एक कौतूहल की रचना भी करता है।
उस विशाल तम्बू के भीतर जहाँ शो शुरू होते ही जैसे ज़िन्दगी और ख़ुशी नाचने लगती है, सुख-दु:ख, आशा-निराशा, यातना और उत्पीड़न का एक भरा-पूरा संसार भी रहता है। ख़ास तौर से भारतीय सर्कस अपने अभावों और भविष्यहीनता के चलते एक बहुस्तरीय यंत्रणा का परकोटा है।
हमारे समय के वरिष्ठ कथाकार संजीव का यह उपन्यास उस दुनिया के भीतर उतरता है; और सर्कस के उन पहलुओं को हमें दिखाता है, जिनकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। वह चाहे वहाँ काम करनेवाले लोगों की पीड़ा हो, या जानवरों की, हमें ऐसे अनुभव से रूबरू कराती है जो दर्शक के रूप में हमारे लिए अलभ्य रहे आए हैं।
सर्कस सिर्फ़ शामियाने के भीतर चलनेवाला तमाशा ही नहीं, देश का विराट रूपक भी है जहाँ अभिनेता अपनी-अपनी आकांक्षाओं, द्वन्द्वों और छद्म में साँस लेते हुए दर्शक का मनोरंजन करते हैं। Sarkas aaj ek khatm hoti hui kala hai. Sarkari sanrakshan aur protsahan ke abhav, aadhunik teknolauji-adharit manoranjan ke prbhutv aur uski apni aantrik samasyaon ke chalte vah apni paramprik jagah ko khota ja raha hai. Lekin aaj bhi vah na sirf ek bade darshak varg ko aakarshit karta hai, balki ek kautuhal ki rachna bhi karta hai. Us vishal tambu ke bhitar jahan sho shuru hote hi jaise zindagi aur khushi nachne lagti hai, sukh-du:kha, aasha-nirasha, yatna aur utpidan ka ek bhara-pura sansar bhi rahta hai. Khas taur se bhartiy sarkas apne abhavon aur bhavishyhinta ke chalte ek bahustriy yantrna ka parkota hai.
Hamare samay ke varishth kathakar sanjiv ka ye upanyas us duniya ke bhitar utarta hai; aur sarkas ke un pahaluon ko hamein dikhata hai, jinki hum kalpna bhi nahin kar sakte. Vah chahe vahan kaam karnevale logon ki pida ho, ya janavron ki, hamein aise anubhav se rubru karati hai jo darshak ke rup mein hamare liye alabhya rahe aae hain.
Sarkas sirf shamiyane ke bhitar chalnevala tamasha hi nahin, desh ka virat rupak bhi hai jahan abhineta apni-apni aakankshaon, dvandvon aur chhadm mein sans lete hue darshak ka manoranjan karte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products