Look Inside
Cinema Aur Sahitya Nazi Yatna Shiviron Ki Trasad Gatha
Cinema Aur Sahitya Nazi Yatna Shiviron Ki Trasad Gatha

Cinema Aur Sahitya Nazi Yatna Shiviron Ki Trasad Gatha

Regular price Rs. 695
Sale price Rs. 695 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Cinema Aur Sahitya Nazi Yatna Shiviron Ki Trasad Gatha

Cinema Aur Sahitya Nazi Yatna Shiviron Ki Trasad Gatha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मनुष्य एक स्वतन्त्रचेता प्राणी है। अनुशासन के नाम पर उसकी स्वतन्त्रता का हनन उसे गुलाम बनाता है। तानाशाह के लिए गुलामी बहुत मुफ़ीद होती है। ऐसे लोग, ऐसे संगठन कभी नहीं चाहते हैं कि लोग प्रश्न पूछे। प्रश्न, ऐसे लोगों को असुविधा में डालते हैं। प्रश्न, उनके छद्म को उघाड़ते हैं। प्रश्न सिद्ध करते हैं कि दूसरे भी सोच रहे हैं, सोच सकते हैं। इससे तानाशाहों का वर्चस्व टूटता है। इसीलिए तानाशाह अपने लोगों और अधिकांश शिक्षक और माता-पिता अपने छात्रों और बच्चों से कहते हैं तुम मत सोचो, हम हैं न तुम्हारे लिए सोचने वाले। और कहते हैं, हम सदैव तुम्हारा भला सोचते हैं। बचपन से गुलामी के बीज पड़ जाते हैं। माता-पिता के पास बच्चों के प्रश्न सुनने का समय नहीं होता है, उत्तर तो दूर की बात है। अकसर उत्तर कैसे दें, वे नहीं जानते हैं। कई बार उन्हें सही उत्तर मालूम नहीं होते हैं। गलत उत्तर और अधिक नुक़सान पहुँचाता है। प्रश्न सुनने का धैर्य उनके पास नहीं होता है। इसलिए वे कहते हैं, “यह बहुत प्रश्न पूछता है/पूछती है। या फिर कहते हैं, ‘दिमाग मत चाटो।' ‘जाओ जा कर खेलो।' ‘मेरे पास समय नहीं है, तुम्हारी फालतू बातों का उत्तर देने के लिए।' ‘मुझे और बहुत ज़रूरी काम करने हैं।' मनोविज्ञान कहता है जिस दिन मन में प्रश्न उठने बन्द हो जाते हैं, व्यक्ति की प्रगति उसी दिन रुक जाती है, असल में, उसी दिन उस मनुष्य की मृत्यु हो जाती है। जानने के लिए सवाल पूछना और असहमति में सवाल उठाना दोनों आवश्यक है। अन्धकार युग में किताबें जलायी जाती हैं। क्योंकि किताबें प्रश्न पूछने को उकसाती हैं, जागरूक करती हैं और प्रश्न पूछने को प्रेरित करती हैं। ये प्रश्न कुछ लोगों के लिए असुविधा उत्पन्न करते हैं। manushya ek svtantrcheta prani hai. anushasan ke naam par uski svtantrta ka hanan use gulam banata hai. tanashah ke liye gulami bahut mufid hoti hai. aise log, aise sangthan kabhi nahin chahte hain ki log prashn puchhe. prashn, aise logon ko asuvidha mein Dalte hain. prashn, unke chhadm ko ughaDte hain. prashn siddh karte hain ki dusre bhi soch rahe hain, soch sakte hain. isse tanashahon ka varchasv tutta hai. isiliye tanashah apne logon aur adhikansh shikshak aur mata pita apne chhatron aur bachchon se kahte hain tum mat socho, hum hain na tumhare liye sochne vale. aur kahte hain, hum sadaiv tumhara bhala sochte hain. bachpan se gulami ke beej paD jate hain. mata pita ke paas bachchon ke prashn sunne ka samay nahin hota hai, uttar to door ki baat hai. aksar uttar kaise den, ve nahin jante hain. kai baar unhen sahi uttar malum nahin hote hain. galat uttar aur adhik nuqsan pahunchata hai. prashn sunne ka dhairya unke paas nahin hota hai. isaliye ve kahte hain, “yah bahut prashn puchhta hai/puchhti hai. ya phir kahte hain, ‘dimag mat chato. ‘jao ja kar khelo. ‘mere paas samay nahin hai, tumhari phaltu baton ka uttar dene ke liye. ‘mujhe aur bahut zaruri kaam karne hain. manovigyan kahta hai jis din man mein prashn uthne band ho jate hain, vyakti ki pragati usi din ruk jati hai, asal mein, usi din us manushya ki mrityu ho jati hai. janne ke liye saval puchhna aur asahamati mein saval uthana donon avashyak hai. andhkar yug mein kitaben jalayi jati hain. kyonki kitaben prashn puchhne ko uksati hain, jagruk karti hain aur prashn puchhne ko prerit karti hain. ye prashn kuchh logon ke liye asuvidha utpann karte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products