Look Inside
Chuka Bhi Hun Main Nahin !
Chuka Bhi Hun Main Nahin !

Chuka Bhi Hun Main Nahin !

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chuka Bhi Hun Main Nahin !

Chuka Bhi Hun Main Nahin !

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शमशेर बहादुर सिंह की कविता एक विलक्षण संसार की रचना करती है जिसमें आपको अपनी नहीं उसकी शर्तों पर जाना होता है। इस कविता को आप चलते-जाते ऐसे ही नहीं पढ़ सकते, यह कविता अपने काठिन्य से नहीं, जैसा कि कुछ लोग आरोप लगाते हैं, बल्कि अपनी अद्वितीयता से आपको पढ़ने की आपकी कंडीशंड आदतों से छूटकर वापस नए सिरे से सावधान होने को कहती है।
यह शमशेर का उस दौर में आया संग्रह है जब कवि के रूप में उनका स्थान बहुत महत्त्वपूर्ण हो चुका था। इससे पहले उनकी ‘कुछ कविताएँ’, ‘कुछ और कविताएँ’, और ‘इतने पास अपने’ जैसे संकलन आ चुके थे और हिन्दी कविता की दुनिया में उन्हें लेकर पक्ष-विपक्ष बन चुका था। इसलिए यह संग्रह और भी महत्त्वपूर्ण है, हालाँकि जिस तरह उनके पहले कविता-संग्रह के लिए कविताओं का चयन जगत् शङ्खधर ने किया था, इस किताब में भी चयन उन्हीं का रहा, अर्थात् अब तक अपनी कविता को लेकर उनका संकोच जस का तस था। इस संग्रह की भूमिका में भी वे कहते हैं—‘अपनी काव्य-कृतियाँ मुझे दरअसल सामाजिक दृष्टि से कुछ बहुत मूल्यवान नहीं लगतीं। उनकी वास्तविक सामाजिक उपयोगिता मेरे लिए एक प्रश्नचिह्न-सा ही रही है, कितना ही धुँधला सही।’ अपने काव्य-कर्म को लेकर उनके इसी संशय ने शायद उन्हें भाषा और शिल्प के उस मानक तक पहुँचाया जिसे उनके जीते-जी ही ‘शमशेरियत’ कहा जाने लगा था, और उन्हें ‘कवियों का कवि’। बकौल नामवर सिंह, ‘शमशेर की आत्मा ने अपनी अभिव्यक्ति का जो एक प्रभावशाली भवन अपने हाथों तैयार किया है, उसमें जाने से मुक्तिबोध को भी डर लगता था—उसकी गम्भीर प्रयत्नसाध्य पवित्रता के कारण।’ और बकौल मलयज, ‘एक नितान्त निजी मुहावरा अपने पवित्र दर्प में तना हुआ।’
बहरहाल ‘चुका भी हूँ नहीं मैं’ का यह संस्करण हिन्दी की नई पीढ़ी को एक आमंत्रण के रूप में प्रस्तुत है कि वह भी अपने इस पूर्वज, और कविता-परम्परा के श्रेष्ठतम पैमानों में से एक, कवि की कविताओं को जाने। Shamsher bahadur sinh ki kavita ek vilakshan sansar ki rachna karti hai jismen aapko apni nahin uski sharton par jana hota hai. Is kavita ko aap chalte-jate aise hi nahin padh sakte, ye kavita apne kathinya se nahin, jaisa ki kuchh log aarop lagate hain, balki apni advitiyta se aapko padhne ki aapki kandishand aadton se chhutkar vapas ne sire se savdhan hone ko kahti hai. Ye shamsher ka us daur mein aaya sangrah hai jab kavi ke rup mein unka sthan bahut mahattvpurn ho chuka tha. Isse pahle unki ‘kuchh kavitayen’, ‘kuchh aur kavitayen’, aur ‘itne paas apne’ jaise sanklan aa chuke the aur hindi kavita ki duniya mein unhen lekar paksh-vipaksh ban chuka tha. Isaliye ye sangrah aur bhi mahattvpurn hai, halanki jis tarah unke pahle kavita-sangrah ke liye kavitaon ka chayan jagat shankhdhar ne kiya tha, is kitab mein bhi chayan unhin ka raha, arthat ab tak apni kavita ko lekar unka sankoch jas ka tas tha. Is sangrah ki bhumika mein bhi ve kahte hain—‘apni kavya-kritiyan mujhe darasal samajik drishti se kuchh bahut mulyvan nahin lagtin. Unki vastvik samajik upyogita mere liye ek prashnchihn-sa hi rahi hai, kitna hi dhundhala sahi. ’ apne kavya-karm ko lekar unke isi sanshay ne shayad unhen bhasha aur shilp ke us manak tak pahunchaya jise unke jite-ji hi ‘shamsheriyat’ kaha jane laga tha, aur unhen ‘kaviyon ka kavi’. Bakaul namvar sinh, ‘shamsher ki aatma ne apni abhivyakti ka jo ek prbhavshali bhavan apne hathon taiyar kiya hai, usmen jane se muktibodh ko bhi dar lagta tha—uski gambhir pryatnsadhya pavitrta ke karan. ’ aur bakaul malyaj, ‘ek nitant niji muhavra apne pavitr darp mein tana hua. ’
Baharhal ‘chuka bhi hun nahin main’ ka ye sanskran hindi ki nai pidhi ko ek aamantran ke rup mein prastut hai ki vah bhi apne is purvaj, aur kavita-parampra ke shreshthtam paimanon mein se ek, kavi ki kavitaon ko jane.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products