Look Inside
Chidiya Bahnon Ka Bhai
Chidiya Bahnon Ka Bhai
Chidiya Bahnon Ka Bhai
Chidiya Bahnon Ka Bhai
Chidiya Bahnon Ka Bhai
Chidiya Bahnon Ka Bhai

Chidiya Bahnon Ka Bhai

Regular price ₹ 419
Sale price ₹ 419 Regular price ₹ 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chidiya Bahnon Ka Bhai

Chidiya Bahnon Ka Bhai

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

चिड़ि‍या बहनों का भाई’ के जिस कथा-संसार में आप दाख़‍िल होने जा रहे हैं, वह आनन्द हर्षुल का रचा हुआ एक ‘अनिर्वचनीय’ ऐन्द्रिय लोक है। यह कथानायक भुलवा का घर-संसार है। इस दुनिया की प्रकृति में पशु, वनस्पति और मनुष्य का अनिवार्य मेल है। एक से दूसरे के अस्तित्व में आवाजाही इस दुनिया में ज़‍िन्दगी का सहज सामान्य दैनंदिन तरीक़ा है। नवजात बेटियाँ पैदा होते ही अपने कन्धों पर पंख उगाकर खिड़की से उड़ जाती हैं—आँखों में अथाह करुणा-भरे, अपनी माँ और घर को अपने जन्म के अतिशय दु:ख से बचाने के लिए। उनके इकलौते भाई भुलवा की पकड़ी हुई मछलियाँ स्वयं उड़कर उसके घर जा पहुँचती हैं, उनकी ठठरी नदी में फिंककर फिर ज़ि‍न्दा मछलियों में तब्दील हो जाती हैं...और भी वे सारी घटनाएँ और चरित्र जिनकी चर्चा यहाँ अनावश्यक है, क्योंकि आगामी पृष्ठों में आप उनको स्वयं इस यथार्थ को रचते और उस यथार्थ से प्रसूत होते देखेंगे।
यह भाषा के मिथकीय स्वभाव में जन्म लेने और व्यक्त होनेवाली दुनिया है। संवेदनाओं का समग्र संश्लिष्ट बोध इस दुनिया की जीवन-प्रणाली है, जैसी कि वह आदिम मनुष्य की रही होगी। आनन्द हर्षुल ने वैसी ही संश्लिष्ट सघन भाषा रचकर उस दुर्लभ अनिर्वचनीय समग्रता को वचनीय बनाया है और निस्सन्देह, यह स्वयं किसी चमत्कार से कम नहीं।
आनन्द हर्षुल के हाथों में मिथकीय भाषा केवल दर्ज करने का उपकरण नहीं रह जाती। वह वस्तुत: आँख है, अनुभव को देखती और यथातथ्य भाव से उसकी उद्दामता को पकड़ती। यह तो अनुभव की उद्दामता है जो उसको यथातथ्य नहीं रहने देती। इस भाषा के हाथों में मिथक वह रूप ले लेता है जिसे कभी कोलरिज ने प्राथमिक कल्पना की तरह पहचाना था और उसे समस्त मानवीय बोध की जीवनी शक्ति और पुरोधा माना था जो सीमित आबद्ध चेतना में अनादि अनन्त 'अस्मि' की सृजनाकांक्षा की पुनरावृत्ति कही जा सकती है।
यह संस्कृति की सुसंस्कारित प्रकृति की विकासगाथा है जो विकृति के प्रतिपक्ष की तरह स्थापित हो जाती है। प्रकृति को लौटा लाने का निर्विकल्प आह्वान अब एकमात्र बच रहा विकल्प है। 'चिडिय़ा बहनों का भाई' में आनन्द हर्षुल इसी आह्वान को साकार उपस्थित करते दिखाई देते हैं।
—अर्चना वर्मा Chidi‍ya bahnon ka bhai’ ke jis katha-sansar mein aap dakh‍il hone ja rahe hain, vah aanand harshul ka racha hua ek ‘anirvachniy’ aindriy lok hai. Ye kathanayak bhulva ka ghar-sansar hai. Is duniya ki prkriti mein pashu, vanaspati aur manushya ka anivarya mel hai. Ek se dusre ke astitv mein aavajahi is duniya mein za‍indagi ka sahaj samanya dainandin tariqa hai. Navjat betiyan paida hote hi apne kandhon par pankh ugakar khidki se ud jati hain—ankhon mein athah karuna-bhare, apni man aur ghar ko apne janm ke atishay du:kha se bachane ke liye. Unke iklaute bhai bhulva ki pakdi hui machhaliyan svayan udkar uske ghar ja pahunchati hain, unki thathri nadi mein phinkkar phir zi‍nda machhaliyon mein tabdil ho jati hain. . . Aur bhi ve sari ghatnayen aur charitr jinki charcha yahan anavashyak hai, kyonki aagami prishthon mein aap unko svayan is yatharth ko rachte aur us yatharth se prsut hote dekhenge. Ye bhasha ke mithkiy svbhav mein janm lene aur vyakt honevali duniya hai. Sanvednaon ka samagr sanshlisht bodh is duniya ki jivan-prnali hai, jaisi ki vah aadim manushya ki rahi hogi. Aanand harshul ne vaisi hi sanshlisht saghan bhasha rachkar us durlabh anirvachniy samagrta ko vachniy banaya hai aur nissandeh, ye svayan kisi chamatkar se kam nahin.
Aanand harshul ke hathon mein mithkiy bhasha keval darj karne ka upakran nahin rah jati. Vah vastut: aankh hai, anubhav ko dekhti aur yathatathya bhav se uski uddamta ko pakadti. Ye to anubhav ki uddamta hai jo usko yathatathya nahin rahne deti. Is bhasha ke hathon mein mithak vah rup le leta hai jise kabhi kolrij ne prathmik kalpna ki tarah pahchana tha aur use samast manviy bodh ki jivni shakti aur purodha mana tha jo simit aabaddh chetna mein anadi anant asmi ki srijnakanksha ki punravritti kahi ja sakti hai.
Ye sanskriti ki susanskarit prkriti ki vikasgatha hai jo vikriti ke pratipaksh ki tarah sthapit ho jati hai. Prkriti ko lauta lane ka nirvikalp aahvan ab ekmatr bach raha vikalp hai. Chidiya bahnon ka bhai mein aanand harshul isi aahvan ko sakar upasthit karte dikhai dete hain.
—archna varma

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products