Chhinnmasta

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Chhinnmasta

Chhinnmasta

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नारी-विमर्श की प्रखर चिन्तक और उपन्यासकार प्रभा खेतान का यह चर्चित उपन्यास स्त्री के शोषण, उत्पीड़न और संघर्ष का जीवन्त दस्तावेज है। सम्पन्न मारवाड़ी समाज की पृष्ठभूमि में रची गई इस औपन्यासिक कृति की नायिका प्रिया परत-दर-परत स्त्री-जीवन के उन पक्षों को उघाड़ती चलती है जिनको पुरुष समाज औरत की स्वाभाविक नियति मानता रहा है और इस प्रक्रिया में वह हमें स्त्री की युगों-युगों से संचित पीड़ा से रू-ब-रू कराती है।
बचपन से ही भेदभाव और उपेक्षा की शिकार साधारण शक्ल-सूरत और सामान्य बुद्धि की प्रिया परिवार की ‘सुरक्षित’ चौहद्दी के भीतर ही यौन शोषण की शिकार भी होती है और तदुपरान्त प्रेम और भावनात्मक सुरक्षा की तलाश में उन तमाम आघातों से दो-चार होती है जिनसे सम्भवतः हर स्त्री को गुजरना होता है। अपने जड़ संस्कारों में जकड़ा पति भी उसे मानवोचित सम्मान नहीं दे पाता।
इस सबके बावजूद प्रिया अपनी एक पहचान अर्जित करती है। मनुष्य के रूप में अपनी जिजीविषा और स्त्री के रूप में अपनी संवेदनशीलता को जीती हुई वह अपना स्वतंत्र तथा सफल व्यवसाय स्थापित करती है। घर के सीमित दायरे से मुक्त करके अपने सपनों को सुदूर क्षितिज तक विस्तृत करती है। Nari-vimarsh ki prkhar chintak aur upanyaskar prbha khetan ka ye charchit upanyas stri ke shoshan, utpidan aur sangharsh ka jivant dastavej hai. Sampann marvadi samaj ki prishthbhumi mein rachi gai is aupanyasik kriti ki nayika priya parat-dar-parat stri-jivan ke un pakshon ko ughadti chalti hai jinko purush samaj aurat ki svabhavik niyati manta raha hai aur is prakriya mein vah hamein stri ki yugon-yugon se sanchit pida se ru-ba-ru karati hai. Bachpan se hi bhedbhav aur upeksha ki shikar sadharan shakl-surat aur samanya buddhi ki priya parivar ki ‘surakshit’ chauhaddi ke bhitar hi yaun shoshan ki shikar bhi hoti hai aur taduprant prem aur bhavnatmak suraksha ki talash mein un tamam aaghaton se do-char hoti hai jinse sambhvatः har stri ko gujarna hota hai. Apne jad sanskaron mein jakda pati bhi use manvochit samman nahin de pata.
Is sabke bavjud priya apni ek pahchan arjit karti hai. Manushya ke rup mein apni jijivisha aur stri ke rup mein apni sanvedanshilta ko jiti hui vah apna svtantr tatha saphal vyavsay sthapit karti hai. Ghar ke simit dayre se mukt karke apne sapnon ko sudur kshitij tak vistrit karti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products