BackBack
-11%

Chhattisgarh Mein Muktibodh

Rs. 550 Rs. 490

छत्तीसगढ़ मुक्तिबोध की परिपक्व सर्जनात्मकता का अन्तरंग है। सिर्फ़ इस अर्थ में नहीं कि यहाँ आकर उन्हें रचने और जीने की अपेक्षाकृत शान्त अवकाश मिला, बल्कि इस गहरे अर्थ में कि यहाँ आकर उन्हें आत्मसंघर्ष की वह दिशा मिली, जिस पर चलकर वे अपनी रचना में उन लोगों के संघर्ष... Read More

BlackBlack
Description

छत्तीसगढ़ मुक्तिबोध की परिपक्व सर्जनात्मकता का अन्तरंग है। सिर्फ़ इस अर्थ में नहीं कि यहाँ आकर उन्हें रचने और जीने की अपेक्षाकृत शान्त अवकाश मिला, बल्कि इस गहरे अर्थ में कि यहाँ आकर उन्हें आत्मसंघर्ष की वह दिशा मिली, जिस पर चलकर वे अपनी रचना में उन लोगों के संघर्ष का भी सृजनात्मक आत्मसातीकरण सम्भव कर सके, जिनका जीवन सहज-सरल अर्थ में संघर्ष का ही जीवन था। उनके संवेदनात्मक ज्ञान और ज्ञानात्मक संवेदना की रचना के लिए यहाँ का परिवेश, यहाँ के लोग, यहाँ के तालाब, यहाँ के वृक्ष, यहाँ का समूचा साँवला समय उन्हें अँधेरे की आत्मीय आवाज़ में पुकारते थे, और बहुवाचकता से भरे इन स्वरों और पुकारों को, वे अपने सृजन क्षणों में इस तरह सुनते थे, जैसे वे उनकी अपनी धड़कनों में बसी आवाज़ें हैं, जैसे वे अँधेरे में कहीं हमेशा के लिए खो गई अनजानी ज्योति को जगाने के लिए ही उनके क़रीब आ रही हैं।
बिम्बात्मकता के स्तर पर राजनांदगाँव के परिवेश के अनेक दृश्यों को उनकी कविता की बहुविध भावनाओं, विचारों की विविधरंगी भाषा में सहज ही पढ़ा जा सकता है, लेकिन इसके भीतर हर कहीं आत्मीयता और प्रेम की जो अन्त:सलिला है, उसमें मानो यहाँ की वह पूरी बिरादरी ही समाई हुई है, जिसके साथ उन्होंने रात-रात भर बातें की थीं। इसी गहरे प्रेम के अर्थ में ही उन्होंने इस भयावह संसार की मानवीय और मानवेतर उपस्थितियों के साथ एक अटूट रिश्ता बनाया था। इसी रिश्ते ने उन्हें अपने आत्मसंघर्ष की एक सर्वथा नई पहचान का वह रास्ता सुझाया था, जिस पर अनथक चलते हुए वे अनुभव कर पाए थे, कि नहीं होती, कहीं भी कविता ख़तम नहीं होती। Chhattisgadh muktibodh ki paripakv sarjnatmakta ka antrang hai. Sirf is arth mein nahin ki yahan aakar unhen rachne aur jine ki apekshakrit shant avkash mila, balki is gahre arth mein ki yahan aakar unhen aatmsangharsh ki vah disha mili, jis par chalkar ve apni rachna mein un logon ke sangharsh ka bhi srijnatmak aatmsatikran sambhav kar sake, jinka jivan sahaj-saral arth mein sangharsh ka hi jivan tha. Unke sanvednatmak gyan aur gyanatmak sanvedna ki rachna ke liye yahan ka parivesh, yahan ke log, yahan ke talab, yahan ke vriksh, yahan ka samucha sanvala samay unhen andhere ki aatmiy aavaz mein pukarte the, aur bahuvachakta se bhare in svron aur pukaron ko, ve apne srijan kshnon mein is tarah sunte the, jaise ve unki apni dhadaknon mein basi aavazen hain, jaise ve andhere mein kahin hamesha ke liye kho gai anjani jyoti ko jagane ke liye hi unke qarib aa rahi hain. Bimbatmakta ke star par rajnandganv ke parivesh ke anek drishyon ko unki kavita ki bahuvidh bhavnaon, vicharon ki vividhrangi bhasha mein sahaj hi padha ja sakta hai, lekin iske bhitar har kahin aatmiyta aur prem ki jo ant:salila hai, usmen mano yahan ki vah puri biradri hi samai hui hai, jiske saath unhonne rat-rat bhar baten ki thin. Isi gahre prem ke arth mein hi unhonne is bhayavah sansar ki manviy aur manvetar upasthitiyon ke saath ek atut rishta banaya tha. Isi rishte ne unhen apne aatmsangharsh ki ek sarvtha nai pahchan ka vah rasta sujhaya tha, jis par anthak chalte hue ve anubhav kar paye the, ki nahin hoti, kahin bhi kavita khatam nahin hoti.