Look Inside
Chhappar
Chhappar
Chhappar
Chhappar

Chhappar

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chhappar

Chhappar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
सामाजिक विचार के व्यावहारिक चिन्तक एवं रचनाकार जयप्रकाश कर्दम का यह उपन्यास दलित साहित्य का क्रान्तिधर्मी दस्तावेज़ है। उपन्यास की कथा से गुज़रते हुए महसूस होता है कि आज़ादी के इतने वर्षों बाद भी संवैधानिक मूल्यों के परिप्रेक्ष्य में सामाजिक संरचना के सर्जनात्मक साहित्य की ज़मीन की तलाश ज़रूरी है, ताकि आत्मीय और भावनात्मक प्रसंगों की पृष्ठभूमि में अपनी समझ के तीखे से तीखे सामाजिक-सांस्कृतिक सवालों के समाधान खोजने का उपक्रम किया जा सके। जयप्रकाश कर्दम ने डॉ. अम्बेडकर के जीवन-दर्शन और विचारों को क्रियान्वित करने के लिए कथानायक चन्दन की सृष्टि की है, जो सदियों से अज्ञान और पिछड़ेपन की गति में पड़े हुए दलित समाज को जगाना चाहता है। वह कॉलेज में पढ़ते हुए भी स्कूल चलाता है और बच्चों को स्वयं पढ़ाता है; क्योंकि वह जानता है कि जीवन और समाज में व्याप्त विसंगतियों के ख़िलाफ़ लड़ाई जीतने के लिए शिक्षा सबसे ज़्यादा मारक और शक्तिशाली शस्त्र है।
‘छप्पर’ की सबसे महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है—दलित समाज का वैचारिक आधार पर संगठित होना तथा सामन्ती-ब्राह्मणी शोषण-उत्पीड़न और जातिगत भेदभाव से मुक्ति के लिए अनथक संघर्ष की प्रेरणा। साथ ही सामाजिक सम्मान की भावना जाग्रत कर स्वाभिमान से जीने की ललक पैदा करना।
उपन्यासकार ने शिक्षा के महत्त्व को समझते हुए सामाजिक क्रान्ति पर ज़ोर दिया है, क्योंकि सांस्कृतिक क्रान्ति के बिना सामाजिक क्रान्ति अधूरी है और इसके बिना दलित समाज का उत्थान और विकास सम्भव नहीं। Samajik vichar ke vyavharik chintak evan rachnakar jayaprkash kardam ka ye upanyas dalit sahitya ka krantidharmi dastavez hai. Upanyas ki katha se guzarte hue mahsus hota hai ki aazadi ke itne varshon baad bhi sanvaidhanik mulyon ke pariprekshya mein samajik sanrachna ke sarjnatmak sahitya ki zamin ki talash zaruri hai, taki aatmiy aur bhavnatmak prsangon ki prishthbhumi mein apni samajh ke tikhe se tikhe samajik-sanskritik savalon ke samadhan khojne ka upakram kiya ja sake. Jayaprkash kardam ne dau. Ambedkar ke jivan-darshan aur vicharon ko kriyanvit karne ke liye kathanayak chandan ki srishti ki hai, jo sadiyon se agyan aur pichhdepan ki gati mein pade hue dalit samaj ko jagana chahta hai. Vah kaulej mein padhte hue bhi skul chalata hai aur bachchon ko svayan padhata hai; kyonki vah janta hai ki jivan aur samaj mein vyapt visangatiyon ke khilaf ladai jitne ke liye shiksha sabse zyada marak aur shaktishali shastr hai. ‘chhappar’ ki sabse mahattvpurn uplabdhi hai—dalit samaj ka vaicharik aadhar par sangthit hona tatha samanti-brahmni shoshan-utpidan aur jatigat bhedbhav se mukti ke liye anthak sangharsh ki prerna. Saath hi samajik samman ki bhavna jagrat kar svabhiman se jine ki lalak paida karna.
Upanyaskar ne shiksha ke mahattv ko samajhte hue samajik kranti par zor diya hai, kyonki sanskritik kranti ke bina samajik kranti adhuri hai aur iske bina dalit samaj ka utthan aur vikas sambhav nahin.
Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products