BackBack
-11%

Cheri Ka Bageecha

Anton Chekhav

Rs. 295 Rs. 263

Radhakrishna Prakashan

एंतोन चेख़व ने इस एक नाटक में जिस विराट ऐतिहासिक सचाई को पकड़ा है, वह शायद बहुत बड़े उपन्यास का विषय था। इसी सचाई के रेशों से बुना चेरी का बगीचा समूचे देश का प्रतीक बन उठा है। चेरी के बगीचे की मालकिन ‘श्रीमती रैनिकव्स्काया अपने आप में ही डूबी... Read More

BlackBlack
Description

एंतोन चेख़व ने इस एक नाटक में जिस विराट ऐतिहासिक सचाई को पकड़ा है, वह शायद बहुत बड़े उपन्यास का विषय था। इसी सचाई के रेशों से बुना चेरी का बगीचा समूचे देश का प्रतीक बन उठा है। चेरी के बगीचे की मालकिन ‘श्रीमती रैनिकव्स्काया अपने आप में ही डूबी है। आशा, निराशा, सुख-दु:ख की यह निजी दुनिया बाहरी दबावों में और भी सिकुड़ती चली जाती है, लेकिन इस क़ैद से छूटकर बाहर आया एक छोटे-से दुकानदार का बेटा लोपाखिन समय को पहचानता है। औद्योगिक संस्कृति के उदय का यह नया-नया सम्पन्न व्यवसायी व्यक्ति, क्रूर और सख़्त हाथों से नया समाज बना रहा है। इस सन्दर्भ में अनुवादक राजेन्द्र यादव का कथन है : ‘चेख़व की रचनाओं की आत्मीयता, करुणा और ख़ास क़िस्म की निराश उदासी (लगभग आत्मदया जैसी) मुझे बहुत छूती है। मैं उसके प्रभाव से लगभग मोहाच्छन्न था। उसी श्रद्धा से मैंने इन नाटकों को हाथ लगाया था। रूसी भाषा नहीं जानता था, मगर अधिक से अधिक ईमानदारी से उसके नाटकों की मौलिक शक्ति तक पहुँचाना चाहता था। इसलिए तीन अंग्रेज़ी अनुवादों को सामने रखकर एक-एक वाक्य पढ़ता और मूल को पकड़ने की कोशिश करता। आधार बनाया मॉस्को के अनुवाद को। बाद में सुना, अनुवादों को पाठकों ने पसन्द किया, अनेक रंग-संस्थानों और रेडियो इत्यादि ने इन्हें अपनाया, पाठ्यक्रम में भी लिया गया। Enton chekhav ne is ek natak mein jis virat aitihasik sachai ko pakda hai, vah shayad bahut bade upanyas ka vishay tha. Isi sachai ke reshon se buna cheri ka bagicha samuche desh ka prtik ban utha hai. Cheri ke bagiche ki malkin ‘shrimti rainikavskaya apne aap mein hi dubi hai. Aasha, nirasha, sukh-du:kha ki ye niji duniya bahri dabavon mein aur bhi sikudti chali jati hai, lekin is qaid se chhutkar bahar aaya ek chhote-se dukandar ka beta lopakhin samay ko pahchanta hai. Audyogik sanskriti ke uday ka ye naya-naya sampann vyavsayi vyakti, krur aur sakht hathon se naya samaj bana raha hai. Is sandarbh mein anuvadak rajendr yadav ka kathan hai : ‘chekhav ki rachnaon ki aatmiyta, karuna aur khas qism ki nirash udasi (lagbhag aatmadya jaisi) mujhe bahut chhuti hai. Main uske prbhav se lagbhag mohachchhann tha. Usi shraddha se mainne in natkon ko hath lagaya tha. Rusi bhasha nahin janta tha, magar adhik se adhik iimandari se uske natkon ki maulik shakti tak pahunchana chahta tha. Isaliye tin angrezi anuvadon ko samne rakhkar ek-ek vakya padhta aur mul ko pakadne ki koshish karta. Aadhar banaya mausko ke anuvad ko. Baad mein suna, anuvadon ko pathkon ne pasand kiya, anek rang-sansthanon aur rediyo ityadi ne inhen apnaya, pathyakram mein bhi liya gaya.