Chaunsath Sutra Solah Abhiman : Kamsutra Se Prerit

Regular price Rs. 116
Sale price Rs. 116 Regular price Rs. 125
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Chaunsath Sutra Solah Abhiman : Kamsutra Se Prerit

Chaunsath Sutra Solah Abhiman : Kamsutra Se Prerit

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अविनाश मिश्र कविता के अति विशिष्ट युवा हस्ताक्षर हैं। इस संग्रह में शामिल कविताएँ एक लम्बी कविता के दो खंडों के अलग-अलग चरणों के रूप में प्रस्तुत की गई हैं। कवि प्रेम में आता है और साथ लेकर आता है—‘कामसूत्र’। ‘वात्स्यायन’ कृत कामसूत्र। इसी संयोग से इन कविताओं का जन्म होता है। कवि प्रेम और कामरत प्रेमी भी रहता है और दृष्टाकवि भी। वात्स्यायन की शास्त्रीय शैली उसे शायद अपने विराम, और अल्पविराम पाने, वहाँ रुकने और अपने आप को, अपनी प्रिया को, और अपने प्रेम को देखने की मुहलत पाना आसान कर देती है, जहाँ ये कविताएँ आती हैं और होती हैं। यह शैली न होती तो वह प्रेम में डूबने, उसमें रहने, उसे जीने-भोगने की प्रक्रिया को शायद इस संलग्नता और इस तटस्थता से एक साथ नहीं देख पाता।
कोई इन कविताओं को सायास रचा गया कौतुक भी कह सकता है, लेकिन इनका आना और होना इन कविताओं के शब्दों और शब्दान्तरालों में इतना मुखर है कि आप इनकी अनायासता और प्रामाणिकता से निगाह नहीं बचा सकते। ये उतनी ही प्राकृतिक कविताएँ हैं, जितना प्राकृतिक प्रेम होता है, जितना प्राकृतिक काम होता है।
काम की चौंसठ कलाएँ और स्त्री के सोलह शृंगार– इस संग्रह की 80 कविताओं के आलम्बन यही हैं।
इन कविताओं को पढ़ना प्रेम में होने, उसे जीने, अनुभूत करने की प्रक्रिया से गुज़रने या स्मृति-आस्वाद को दुहराने जैसा है। कवि का अनुभव-सत्य पाठक के जीवनानुभव के आस्वाद को नया अर्थ देने जैसा है।
किताब संग्रहणीय भी है, सुन्‍दर प्रेम-उपहार भी। Avinash mishr kavita ke ati vishisht yuva hastakshar hain. Is sangrah mein shamil kavitayen ek lambi kavita ke do khandon ke alag-alag charnon ke rup mein prastut ki gai hain. Kavi prem mein aata hai aur saath lekar aata hai—‘kamsutr’. ‘vatsyayan’ krit kamsutr. Isi sanyog se in kavitaon ka janm hota hai. Kavi prem aur kamrat premi bhi rahta hai aur drishtakavi bhi. Vatsyayan ki shastriy shaili use shayad apne viram, aur alpaviram pane, vahan rukne aur apne aap ko, apni priya ko, aur apne prem ko dekhne ki muhlat pana aasan kar deti hai, jahan ye kavitayen aati hain aur hoti hain. Ye shaili na hoti to vah prem mein dubne, usmen rahne, use jine-bhogne ki prakriya ko shayad is sanlagnta aur is tatasthta se ek saath nahin dekh pata. Koi in kavitaon ko sayas racha gaya kautuk bhi kah sakta hai, lekin inka aana aur hona in kavitaon ke shabdon aur shabdantralon mein itna mukhar hai ki aap inki anayasta aur pramanikta se nigah nahin bacha sakte. Ye utni hi prakritik kavitayen hain, jitna prakritik prem hota hai, jitna prakritik kaam hota hai.
Kaam ki chaunsath kalayen aur stri ke solah shringar– is sangrah ki 80 kavitaon ke aalamban yahi hain.
In kavitaon ko padhna prem mein hone, use jine, anubhut karne ki prakriya se guzarne ya smriti-asvad ko duhrane jaisa hai. Kavi ka anubhav-satya pathak ke jivnanubhav ke aasvad ko naya arth dene jaisa hai.
Kitab sangrahniy bhi hai, sun‍dar prem-uphar bhi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products