Look Inside
Charitraheen
Charitraheen
Charitraheen
Charitraheen

Charitraheen

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Charitraheen

Charitraheen

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नारी का शोषण, समर्पण और भाव-जगत तथा पुरुष समाज में उसका चारित्रिक मूल्यांकन—और इससे उभरनेवाला अन्तर्विरोध ही इस उपन्यास का केन्द्रबिन्दु है। शरतचन्द्र ने नारी-मन के साथ-साथ इस उपन्यास में मानव-मन की सूक्ष्म प्रवृत्तियों का भी मनोवैज्ञानिक विश्लेषण किया है, साथ ही यह उपन्यास नारी की परम्परावादी छवि को तोडऩे का भी सफल प्रयास करता है। उपन्यास सवाल उठाता है कि देवी की तरह पूजनीय और दासी की तरह पितृसत्ता के अधीन घुट-घुटकर जीनेवाली स्त्री के साथ यह अन्तर्विरोध और विडम्बना क्यों है? उपन्यास ‘चरित्र’ की अवधारणा को भी पुन: परिभाषित करता है। चरित्र को स्त्री के साथ ही अनिवार्य गुण की तरह क्यों जोड़ा जाता है? वह कैसे चरित्रहीन हो जाती है? उसे चरित्रहीन कहनेवाला कौन होता है? यह प्रसिद्ध उपन्यास बार-बार हमें इन सवालों के सामने ला खड़ा करता है। नारी-भावनाओं को अभिव्यक्त करने में दक्ष शरत् बाबू इस उपन्यास में उस परिवर्तन को भी रेखांकित करते हैं जो समाज में आया है। इसलिए दशकों पहले लिखा गया यह उपन्यास आज भी उतना ही प्रासंगिक है। उल्लेखनीय है कि इस उपन्यास का अनुवाद नए सिरे से किया गया है, उन तमाम अंशों को साथ रखते हुए जो अभी तक उपलब्ध अनुवादों में छोड़ दिए गए थे। एक सम्पूर्ण उत्कृष्ट उपन्यास। Nari ka shoshan, samarpan aur bhav-jagat tatha purush samaj mein uska charitrik mulyankan—aur isse ubharnevala antarvirodh hi is upanyas ka kendrbindu hai. Sharatchandr ne nari-man ke sath-sath is upanyas mein manav-man ki sukshm prvrittiyon ka bhi manovaigyanik vishleshan kiya hai, saath hi ye upanyas nari ki parampravadi chhavi ko todne ka bhi saphal pryas karta hai. Upanyas saval uthata hai ki devi ki tarah pujniy aur dasi ki tarah pitrisatta ke adhin ghut-ghutkar jinevali stri ke saath ye antarvirodh aur vidambna kyon hai? upanyas ‘charitr’ ki avdharna ko bhi pun: paribhashit karta hai. Charitr ko stri ke saath hi anivarya gun ki tarah kyon joda jata hai? vah kaise charitrhin ho jati hai? use charitrhin kahnevala kaun hota hai? ye prsiddh upanyas bar-bar hamein in savalon ke samne la khada karta hai. Nari-bhavnaon ko abhivyakt karne mein daksh sharat babu is upanyas mein us parivartan ko bhi rekhankit karte hain jo samaj mein aaya hai. Isaliye dashkon pahle likha gaya ye upanyas aaj bhi utna hi prasangik hai. Ullekhniy hai ki is upanyas ka anuvad ne sire se kiya gaya hai, un tamam anshon ko saath rakhte hue jo abhi tak uplabdh anuvadon mein chhod diye ge the. Ek sampurn utkrisht upanyas.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products