Look Inside
Char Din Ki Jawani Teri
Char Din Ki Jawani Teri
Char Din Ki Jawani Teri
Char Din Ki Jawani Teri

Char Din Ki Jawani Teri

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Char Din Ki Jawani Teri

Char Din Ki Jawani Teri

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

तेजी से सिकुड़ती इस दुनिया में पिछड़ा भारत ‘नएपन’ के ओले सह रहा है। नयापन का दायरा तकनीक, पद्धति, वस्तु से लेकर विचार तक फैला है। नए वाद के आगमन के साथ पुराने वादों के अन्त की घोषणाओं में कथा के अन्त की घोषणा शामिल है। साहित्य अकबकाया दीखता है।
लेकिन इस संकलन की कहानियाँ अपनी ज़मीन में जड़ों को पसारती, तने को ठसके से खड़ा रखे हुए दीखती हैं क्योंकि उन्हें भरोसा है अपनी कथा में सिक्त पूर्वी तर्ज का। उनमें पहाड़ का दरकता जीवन अपने रूढ़ विश्वासों और गतिशीलता, दोनों के साथ दीखता है। कहानियों में जीवन की स्थितियाँ और चरित्र दोनों महत्त्व पाते हैं। इनमें हिर्दा मेयो जैसा अनूठा चरित्र भी है। उसकी हँसी में ऐसा रुदन छिपा है जो सीधे पहाड़ की दरकती छाती से फूटता रहता है, फिर भी अपनी अस्मिता पहाड़ में ही तलाशता है। मंत्र से बवासीर ठीक कर लेने का भ्रम पालने वाले हरूचा के साथ विदेश में जा बसे मुन्‍नू चा जैसे चरित्र भी हैं। विकास के नाम पर पहाड़ की संजीवनी सोख लेनेवाली शक्तियाँ हैं। प्रकृति के आदिम प्रजनन कृषि पर पड़ती परायी छाया की दारुण कथा ‘बीज’ में है। जहाँ हिर्दा मेयो में पहाड़ का धीरज है, वहीं उसके मंझले बेटे में पहाड़ का ग़ुस्सा भी है।
इन कहानियों में आत्मविश्वास से भरा खुलापन है जो परम्परा की मिट्टी पर प्रयोग करता चलता है।
कथा-रस से भरपूर इन कहानियों में विवरण की भव्यता के साथ-साथ चरित्र-चित्रण की विरल कुशलता भी लक्षित होती है। भाषा में लचीलापन के साथ कविता-सी ख़ुशबू भी है। परम्परा के संग चलती प्रयोगशीलता भी है। देशज मिट्टी से फूटी आधुनिकता प्रयोग के लिए परायों का मुँह नहीं जोहती, बल्कि स्वयं नया रूप रचती है।
यह मृणाल पाण्डे का चौथा संकलन है जो नया तो है ही, प्रौढ़ भी है। इसीलिए इसकी रचनात्मकता की प्रतिध्वनियाँ भविष्य में भी सुनी जाएँगी।
— अरुण प्रकाश Teji se sikudti is duniya mein pichhda bharat ‘nepan’ ke ole sah raha hai. Nayapan ka dayra taknik, paddhati, vastu se lekar vichar tak phaila hai. Ne vaad ke aagman ke saath purane vadon ke ant ki ghoshnaon mein katha ke ant ki ghoshna shamil hai. Sahitya akabkaya dikhta hai. Lekin is sanklan ki kahaniyan apni zamin mein jadon ko pasarti, tane ko thaske se khada rakhe hue dikhti hain kyonki unhen bharosa hai apni katha mein sikt purvi tarj ka. Unmen pahad ka darakta jivan apne rudh vishvason aur gatishilta, donon ke saath dikhta hai. Kahaniyon mein jivan ki sthitiyan aur charitr donon mahattv pate hain. Inmen hirda meyo jaisa anutha charitr bhi hai. Uski hansi mein aisa rudan chhipa hai jo sidhe pahad ki darakti chhati se phutta rahta hai, phir bhi apni asmita pahad mein hi talashta hai. Mantr se bavasir thik kar lene ka bhram palne vale harucha ke saath videsh mein ja base mun‍nu cha jaise charitr bhi hain. Vikas ke naam par pahad ki sanjivni sokh lenevali shaktiyan hain. Prkriti ke aadim prajnan krishi par padti parayi chhaya ki darun katha ‘bij’ mein hai. Jahan hirda meyo mein pahad ka dhiraj hai, vahin uske manjhle bete mein pahad ka gussa bhi hai.
In kahaniyon mein aatmvishvas se bhara khulapan hai jo parampra ki mitti par pryog karta chalta hai.
Katha-ras se bharpur in kahaniyon mein vivran ki bhavyta ke sath-sath charitr-chitran ki viral kushalta bhi lakshit hoti hai. Bhasha mein lachilapan ke saath kavita-si khushbu bhi hai. Parampra ke sang chalti pryogshilta bhi hai. Deshaj mitti se phuti aadhunikta pryog ke liye parayon ka munh nahin johti, balki svayan naya rup rachti hai.
Ye mrinal pande ka chautha sanklan hai jo naya to hai hi, praudh bhi hai. Isiliye iski rachnatmakta ki prtidhvaniyan bhavishya mein bhi suni jayengi.
— arun prkash

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products