BackBack
-11%

Chandrakanta (Santati) Ka Tilism

Rs. 150 Rs. 134

कई बार क्लैसिक कृतियाँ भी आलोचनात्मक ध्यान में गहनता से नहीं आतीं, भले उनकी लोकप्रियता व्यापक और असंदिग्ध हो। 'चन्द्रकान्ता’ और 'चन्द्रकान्ता सन्तति’ ऐसे ही क्लैसिक हैं जिन पर आलोचना और अनुसन्धान का ध्यान ख़ासी देर से, लगभग बीसवीं शताब्दी के अन्त पर, गया। गहरे विद्वान् और अनूठे आलोचक वागीश... Read More

Description

कई बार क्लैसिक कृतियाँ भी आलोचनात्मक ध्यान में गहनता से नहीं आतीं, भले उनकी लोकप्रियता व्यापक और असंदिग्ध हो। 'चन्द्रकान्ता’ और 'चन्द्रकान्ता सन्तति’ ऐसे ही क्लैसिक हैं जिन पर आलोचना और अनुसन्धान का ध्यान ख़ासी देर से, लगभग बीसवीं शताब्दी के अन्त पर, गया। गहरे विद्वान् और अनूठे आलोचक वागीश शुक्ल ने इस छोटी-सी पुस्तक में अध्यवसाय और सूक्ष्मता से इन दो कृतियों का विश्लेषण और आकलन किया है। रज़ा फ़ाउंडेशन उनकी 'मनमानी बातों’ को पुस्तकाकार प्रस्तुत करते हुए आश्वस्त है कि अब योग्य विचार और विश्लेषण की शुरुआत हो रही है।
—अशोक वाजपेयी Kai baar klaisik kritiyan bhi aalochnatmak dhyan mein gahanta se nahin aatin, bhale unki lokapriyta vyapak aur asandigdh ho. Chandrkanta’ aur chandrkanta santati’ aise hi klaisik hain jin par aalochna aur anusandhan ka dhyan khasi der se, lagbhag bisvin shatabdi ke ant par, gaya. Gahre vidvan aur anuthe aalochak vagish shukl ne is chhoti-si pustak mein adhyavsay aur sukshmta se in do kritiyon ka vishleshan aur aaklan kiya hai. Raza faundeshan unki manmani baton’ ko pustkakar prastut karte hue aashvast hai ki ab yogya vichar aur vishleshan ki shuruat ho rahi hai. —ashok vajpeyi