BackBack

Chandragupt

Rs. 99

हिन्दी के कालजयी रचनाकार जयशंकर प्रसाद का यह नाटक भारत के पहले साम्राज्य-निर्माता चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मार्गदर्शक तथा महान कूटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य को केन्द्र में रखकर लिखा गया है। भारत के इतिहास में यह वह कालखंड है जब एक तरफ़ तो लगातार विदेशी आक्रमण हो रहे थे और दूसरी... Read More

BlackBlack
Description

हिन्दी के कालजयी रचनाकार जयशंकर प्रसाद का यह नाटक भारत के पहले साम्राज्य-निर्माता चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मार्गदर्शक तथा महान कूटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य को केन्द्र में रखकर लिखा गया है। भारत के इतिहास में यह वह कालखंड है जब एक तरफ़ तो लगातार विदेशी आक्रमण हो रहे थे और दूसरी तरफ़ देशी राजा अपने झूठे अभिमान और क्षुद्र स्वार्थों के लिए आपस में ही लड़ रहे थे। देश की सबसे बड़ी राजशक्ति मगध के सम्राट भोग-विलास में डूबे हुए थे। उन्हें न अपने राज्य की सुरक्षा की चिन्ता थी और न अपनी प्रजा के हितों की। ऐसे समय में आचार्य चाणक्य ने चन्द्रगुप्त को साथ लेकर सीमावर्ती राज्यों को संगठित किया और यूनानी आक्रमणकारी सिकन्दर को मुँहतोड़ जवाब दिया। साथ ही, उन्होंने लोगों में ऐसी भावना का संचार किया कि वे मालव और मागध होने के प्रान्तीय अभिमान को भूलकर भारतवासी कहलाने में गौरव का अनुभव करें। इस प्रकार आचार्य चाणक्य और चन्द्रगुप्त ने पहली बार, खंड-खंड विभाजित भारत को एक सूत्र में पिरोकर, एक विशाल साम्राज्य का निर्माण किया।
‘चन्द्रगुप्त' नाटक में चित्रित स्थितियों की प्रासंगिकता भारत के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में स्पष्ट देखी जा सकती है। Hindi ke kalajyi rachnakar jayshankar prsad ka ye natak bharat ke pahle samrajya-nirmata chandrgupt maurya aur uske margdarshak tatha mahan kutnitigya aacharya chanakya ko kendr mein rakhkar likha gaya hai. Bharat ke itihas mein ye vah kalkhand hai jab ek taraf to lagatar videshi aakrman ho rahe the aur dusri taraf deshi raja apne jhuthe abhiman aur kshudr svarthon ke liye aapas mein hi lad rahe the. Desh ki sabse badi rajshakti magadh ke samrat bhog-vilas mein dube hue the. Unhen na apne rajya ki suraksha ki chinta thi aur na apni prja ke hiton ki. Aise samay mein aacharya chanakya ne chandrgupt ko saath lekar simavarti rajyon ko sangthit kiya aur yunani aakramankari sikandar ko munhatod javab diya. Saath hi, unhonne logon mein aisi bhavna ka sanchar kiya ki ve malav aur magadh hone ke prantiy abhiman ko bhulkar bharatvasi kahlane mein gaurav ka anubhav karen. Is prkar aacharya chanakya aur chandrgupt ne pahli baar, khand-khand vibhajit bharat ko ek sutr mein pirokar, ek vishal samrajya ka nirman kiya. ‘chandrgupt natak mein chitrit sthitiyon ki prasangikta bharat ke vartman rajnitik paridrishya mein spasht dekhi ja sakti hai.