Look Inside
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya
Chanda Ka Gond Rajya

Chanda Ka Gond Rajya

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chanda Ka Gond Rajya

Chanda Ka Gond Rajya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत के हृदय में स्थित विंध्याचल और सतपुड़ा की उपत्यकाएँ सघन वनों और पर्वत श्रेणियों के कारण प्राचीनकाल से ही दुर्गम रही हैं और भारत के इतिहास में इस क्षेत्र का उपयुक्त ऐतिहासिक विवरण मुश्किल से मिलता है। इसकी भौगोलिक स्थिति के कारण इस पर उत्तर और दक्षिण की राजनीति का कम ही प्रभाव पड़ा। प्राचीनकाल में यहाँ मौर्यों, सातवाहनों, वाकाटकों, राष्ट्रकूटों, यादवों का आधिपत्य रहा। एक लम्बे अन्तराल के बाद खलजी और तुगलकों ने यादव सत्ता की चूलें हिला दीं। इसके बाद इस क्षेत्र में करीब दो सदियों तक कोई प्रबल सत्ता नहीं रही। दो सदियों के इस अंधकार युग के बाद चाँदा राज्य का उदय हुआ।
इस कृति में चाँदा राज्य के उत्थान और पतन का वर्णन करने हेतु नवीनतम सामग्री का उपयोग किया गया है। इस सामग्री में समकालीन और लगभग समकालीन फारसी अखबारात और मराठी पत्रों का स्थान महत्त्वपूर्ण है। इस कृति की विशेषता यह भी है कि चाँदा के गोंड राज्य की वंशावली तथा जल-आपूर्ति व्यवस्था पर इसमें विशेष चर्चा की गयी है, जो विभिन्न दृष्टिकोणों से इन विषयों पर प्रकाश डालने का प्रयास करती है। चूँकि मूल फारसी, मराठी स्रोतों में तथा सनदों में इसे चाँदा राज्य कहा गया है, अतः इस कृति में इसे चाँदा राज्य ही कहा गया है। Bharat ke hriday mein sthit vindhyachal aur satapuda ki upatykayen saghan vanon aur parvat shreniyon ke karan prachinkal se hi durgam rahi hain aur bharat ke itihas mein is kshetr ka upyukt aitihasik vivran mushkil se milta hai. Iski bhaugolik sthiti ke karan is par uttar aur dakshin ki rajniti ka kam hi prbhav pada. Prachinkal mein yahan mauryon, satvahnon, vakatkon, rashtrkuton, yadvon ka aadhipatya raha. Ek lambe antral ke baad khalji aur tugalkon ne yadav satta ki chulen hila din. Iske baad is kshetr mein karib do sadiyon tak koi prbal satta nahin rahi. Do sadiyon ke is andhkar yug ke baad chanda rajya ka uday hua. Is kriti mein chanda rajya ke utthan aur patan ka varnan karne hetu navintam samagri ka upyog kiya gaya hai. Is samagri mein samkalin aur lagbhag samkalin pharsi akhbarat aur marathi patron ka sthan mahattvpurn hai. Is kriti ki visheshta ye bhi hai ki chanda ke gond rajya ki vanshavli tatha jal-apurti vyvastha par ismen vishesh charcha ki gayi hai, jo vibhinn drishtikonon se in vishyon par prkash dalne ka pryas karti hai. Chunki mul pharsi, marathi sroton mein tatha sandon mein ise chanda rajya kaha gaya hai, atः is kriti mein ise chanda rajya hi kaha gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products