BackBack
-11%

Chand Ki Vartani

Rs. 299 Rs. 266

राजेश जोशी का यह कविता-संग्रह हिन्दी कविता का एक नया शिखर है। तीन दशकों से भी अधिक की काव्य-साधना एवं जीवन के लगभग साठ वसन्तों की हरीतिमा से दीप्त यह संग्रह अनेक स्वरों का विलक्षण पुंज है। राजेश ने न केवल अपने को बदला है, बल्कि अपने को बदलते हुए... Read More

BlackBlack
Description

राजेश जोशी का यह कविता-संग्रह हिन्दी कविता का एक नया शिखर है। तीन दशकों से भी अधिक की काव्य-साधना एवं जीवन के लगभग साठ वसन्तों की हरीतिमा से दीप्त यह संग्रह अनेक स्वरों का विलक्षण पुंज है। राजेश ने न केवल अपने को बदला है, बल्कि अपने को बदलते हुए समस्त समकालीन काव्य में सर्वथा नए घूर्ण उत्पन्न कर दिए हैं। वे सारे गुण और स्वाद जिनके लिए राजेश जोशी जाने और माने जाते हैं, यहाँ अपनी पूर्णता एवं सौष्ठव के साथ उपस्थित हैं, साथ ही बहुत कुछ ऐसा भी है जो नितान्त अप्रत्याशित पर आह्लादकारी है और वह है जीवन को उसकी जटिलता में जाकर देखने का उपक्रम, सभी तहों-परतों को उलट-पुलट अनुभव के नामिक तक उत्खनन का धैर्य—‘दिखने में जो अक्सर आसान से दिखते हैं एक कवि को करने होते हैं ऐसे कई पेचीदा काम’। और इसके लिए राजेश तदनुरूप भाषा की खोज भी करते हैं, बनी-बनाई भाषिक आदतों को छोड़ते हुए वह अभिव्यक्ति के ख़तरे उठाते हैं—‘ताप से भरे शब्दों’ को ढूँढ़ते दूर बीहड़ में जाते हैं और ‘आँसुओं के लिए’ भी ढूँढ़ लाते हैं वैसे ही ‘पारदर्शी शब्द’।
राजेश की कविता हमारे समय का ऐसा संघनित दस्तावेज़ है कि केवल उसके आधार पर हम समकालीन भारत का एक दृश्य-लेख बना सकते हैं। इतने तात्कालिक ब्योरे हैं यहाँ, इतने प्रसंग, पात्र और राजनीतिक-सामाजिक उद्वेलन। साथ ही उनकी कविता जीवन के उन तन्तुओं की खोज करती है जहाँ उन उद्वेलनों का कम्प सबसे तीव्र है, और उन लोगों का यशोगान करती है जो निरन्तर संघर्ष करते हुए जीवन को बदलने का ताब रखते हैं। उनकी कविता साहस के साथ सत्ता के सभी पायदानों पर वार करती है, एक विराट सत्ता जो अर्थव्यवस्था से लेकर हमारी रसोई तक व्याप्त है। नागार्जुन और धूमिल के बाद सत्ता के तिलिस्म को उघाड़नेवाले सर्वाधिक सशक्त कवि राजेशी जोशी हैं।
आख्यान, कथोपकथन, लोक-कथाओं के स्वप्न-वृत्तान्त, जातीय मिथक, अतियथार्थ के खम, सपाटबयानी, शब्दों के खेल और कल्पना-क्रीड़ा, फंतासी सब कुछ मिलकर एक नया रसायन बनाते हैं जो अन्यत्र दुलर्भ है। राजेश की कविता अब भाषा के नए उपकरणों एवं आयुधों का व्यवहार करती है तथा कविता को वहाँ ले जाती है जहाँ भाषा ‘अर्थ से अधिक अभिप्रायों में निवास करती है’। यह ठोस जगत् की, ठोस जीवन की कविता है उर्फ़ चाँद की वर्तनी नीले नभ पर।
— अरुण कमल Rajesh joshi ka ye kavita-sangrah hindi kavita ka ek naya shikhar hai. Tin dashkon se bhi adhik ki kavya-sadhna evan jivan ke lagbhag saath vasanton ki haritima se dipt ye sangrah anek svron ka vilakshan punj hai. Rajesh ne na keval apne ko badla hai, balki apne ko badalte hue samast samkalin kavya mein sarvtha ne ghurn utpann kar diye hain. Ve sare gun aur svad jinke liye rajesh joshi jane aur mane jate hain, yahan apni purnta evan saushthav ke saath upasthit hain, saath hi bahut kuchh aisa bhi hai jo nitant apratyashit par aahladkari hai aur vah hai jivan ko uski jatilta mein jakar dekhne ka upakram, sabhi tahon-parton ko ulat-pulat anubhav ke namik tak utkhnan ka dhairya—‘dikhne mein jo aksar aasan se dikhte hain ek kavi ko karne hote hain aise kai pechida kam’. Aur iske liye rajesh tadanurup bhasha ki khoj bhi karte hain, bani-banai bhashik aadton ko chhodte hue vah abhivyakti ke khatre uthate hain—‘tap se bhare shabdon’ ko dhundhate dur bihad mein jate hain aur ‘ansuon ke liye’ bhi dhundh late hain vaise hi ‘pardarshi shabd’. Rajesh ki kavita hamare samay ka aisa sanghnit dastavez hai ki keval uske aadhar par hum samkalin bharat ka ek drishya-lekh bana sakte hain. Itne tatkalik byore hain yahan, itne prsang, patr aur rajnitik-samajik udvelan. Saath hi unki kavita jivan ke un tantuon ki khoj karti hai jahan un udvelnon ka kamp sabse tivr hai, aur un logon ka yashogan karti hai jo nirantar sangharsh karte hue jivan ko badalne ka taab rakhte hain. Unki kavita sahas ke saath satta ke sabhi paydanon par vaar karti hai, ek virat satta jo arthavyvastha se lekar hamari rasoi tak vyapt hai. Nagarjun aur dhumil ke baad satta ke tilism ko ughadnevale sarvadhik sashakt kavi rajeshi joshi hain.
Aakhyan, kathopakthan, lok-kathaon ke svapn-vrittant, jatiy mithak, atiytharth ke kham, sapatabyani, shabdon ke khel aur kalpna-krida, phantasi sab kuchh milkar ek naya rasayan banate hain jo anyatr dularbh hai. Rajesh ki kavita ab bhasha ke ne upakarnon evan aayudhon ka vyavhar karti hai tatha kavita ko vahan le jati hai jahan bhasha ‘arth se adhik abhiprayon mein nivas karti hai’. Ye thos jagat ki, thos jivan ki kavita hai urf chand ki vartni nile nabh par.
— arun kamal