Look Inside
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi
Chand Ke Paar Ek Chabhi

Chand Ke Paar Ek Chabhi

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chand Ke Paar Ek Chabhi

Chand Ke Paar Ek Chabhi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कोई भी विधा जितना कथ्य होती है, उससे कुछ ज़्यादा फ़ॉर्म होती है। फ़ॉर्म से ही पता चलता है कि रचनाकार ने सामाजिक के रूप में अपने समय में ख़ुद को कहाँ स्थित किया है। अवधेश प्रीत का कहानीकार अपने कथ्य को एक सन्तुलित दूरी से देखता और उसका अंकन करता है जिसके बल ही शायद उनकी कहानी भी पाठक को अपने आनन्द में डुबो लेने के बजाय एक ख़ास दूरी पर खड़ा रखकर अपने कथ्य को वस्तुगत ढंग से देखने को बाध्य करती है। इसी संग्रह में शामिल शीर्षक कहानी 'चाँद के पार एक चाभी' जाति की जड़ और विकट संरचना, उसके सम्मुख प्रेम की असहायता और असम्भवता, और साथ ही आधुनिकता के साथ जगती उम्मीदों के नए अंकुरों की कहानी है। यह कहानी आँसुओं की बाढ़ ला सकती थी, लेकिन अगर नहीं लाती और पढ़ने के बाद डूबने के बजाय चिन्ता में डाल देती तो यह उसके शिल्प के चलते है।
शिल्प का यह जादू वे भाषा के प्रयोग में ख़ास तौर पर साधते हैं। उनका क़िस्सागो दृश्य को बखानने की प्रक्रिया में चीज़ों को देखने का एक नज़रिया पाठक को देता चलता है जो गुदगुदाता भी है और कहानी के साथ-साथ पात्रों के चरित्र की रेखाओं को भी उभारना चलता है।
अवधेश प्रीत जाने-माने कथाकार हैं। लगातार पढ़े जाते रहे हैं। मनुष्यता के हामी किसी भी लेखक को समाज में जिन चीज़ों से विचलित होना चाहिए, उन सबको ईमानदारी से देखने के साक्ष्य इन कहानियों में भरे पड़े हैं। Koi bhi vidha jitna kathya hoti hai, usse kuchh zyada faurm hoti hai. Faurm se hi pata chalta hai ki rachnakar ne samajik ke rup mein apne samay mein khud ko kahan sthit kiya hai. Avdhesh prit ka kahanikar apne kathya ko ek santulit duri se dekhta aur uska ankan karta hai jiske bal hi shayad unki kahani bhi pathak ko apne aanand mein dubo lene ke bajay ek khas duri par khada rakhkar apne kathya ko vastugat dhang se dekhne ko badhya karti hai. Isi sangrah mein shamil shirshak kahani chand ke paar ek chabhi jati ki jad aur vikat sanrachna, uske sammukh prem ki ashayta aur asambhavta, aur saath hi aadhunikta ke saath jagti ummidon ke ne ankuron ki kahani hai. Ye kahani aansuon ki badh la sakti thi, lekin agar nahin lati aur padhne ke baad dubne ke bajay chinta mein daal deti to ye uske shilp ke chalte hai. Shilp ka ye jadu ve bhasha ke pryog mein khas taur par sadhte hain. Unka qissago drishya ko bakhanne ki prakriya mein chizon ko dekhne ka ek nazariya pathak ko deta chalta hai jo gudagudata bhi hai aur kahani ke sath-sath patron ke charitr ki rekhaon ko bhi ubharna chalta hai.
Avdhesh prit jane-mane kathakar hain. Lagatar padhe jate rahe hain. Manushyta ke hami kisi bhi lekhak ko samaj mein jin chizon se vichlit hona chahiye, un sabko iimandari se dekhne ke sakshya in kahaniyon mein bhare pade hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products