BackBack
-11%

Chanakya Ke Jasoos

Rs. 350 Rs. 312

‘चाणक्य के जासूस’ अनेक अर्थों में एक महत्त्वपूर्ण कृति है। यह न केवल इतिहास को एक नई दृष्टि से देखती है बल्कि जासूसी की तमाम पुरातन-ऐतिहासिक तकनीकों का विशद विवेचन भी करती है। चाणक्य के बारे में प्रचलित अनगिनत मिथकों से इतर इसमें हमें उनका वह रूप दिखलाई पड़ता है,... Read More

Description

‘चाणक्य के जासूस’ अनेक अर्थों में एक महत्त्वपूर्ण कृति है। यह न केवल इतिहास को एक नई दृष्टि से देखती है बल्कि जासूसी की तमाम पुरातन-ऐतिहासिक तकनीकों का विशद विवेचन भी करती है। चाणक्य के बारे में प्रचलित अनगिनत मिथकों से इतर इसमें हमें उनका वह रूप दिखलाई पड़ता है, जो जासूसी का शास्त्र विकसित करता है और उसे राजनीतिशास्त्र का अपरिहार्य अंग बनाकर मगध साम्राज्य के शक्तिशाली किंतु अहंकारी शासक धननन्द का अन्त सम्भव करता है। बेशक धननन्द का महामात्य कात्यायन जो इतिहास में राक्षस के रूप में प्रसिद्ध है, भी जासूसी में कम प्रवीण न था, लेकिन उसके पास केवल सत्ता-बल था। उसकी जासूसी विद्या नैतिकता की बजाय निजी स्वार्थपरता से संचालित थी। लेकिन चाणक्य ने अपनी जासूसी में व्यावहारिकता और नैतिकता का सामंजस्य हमेशा बनाए रखा और मगध साम्राज्य की जनता के कल्याण के उद्देश्य को कभी नहीं भूला। यह उपन्यास दिखलाता है कि चाणक्य ने सम्राट धननन्द को खून की एक भी बूँद बहाए बिना अपने बुद्धिबल से मगध साम्राज्य के सिंहासन से अपदस्थ किया और चंद्रगुप्त को उस पर बिठाकर राष्ट्र के सुदृढ़ भविष्य का मार्ग प्रशस्त किया। इसमें इतिहास का निर्माण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला वह जासूसी तंत्र अपने पूरे विस्तार में दिखलाई पड़ता है, जो हमेशा से नेपथ्य में रहकर ही अपना काम करता है। इतिहास का एक महत्वपूर्ण कालखंड इस उपन्यास का आधार है। लेकिन यह एक साहित्यिक कृति है। इसलिए इतिहास को दुहराने की बजाय इसमें उस कालखंड के ऐतिहासिक मर्म को तथ्यसंगत ढंग से प्रस्तुत किया गया है, जिसकी प्रासंगिकता आज भी क़ायम है। उपन्यास में लेखक ने जासूसी की आधुनिक विधियों का भी पर्याप्त उल्लेख किया है और तमाम ऐतिहासिक और आधुनिक सन्दर्भों से उसे विश्सनीय बनाया है। इस लिहाज से यह खासा शोधपूर्ण उपन्यास है, ख़ासकर इसलिए भी कि ख़ुद लेखक भी लम्बे समय तक जासूसी सेवा में रहा है। बेहद पठनीय और रोमांचक कृति!
—शशिभूषण द्विवेदी ‘chanakya ke jasus’ anek arthon mein ek mahattvpurn kriti hai. Ye na keval itihas ko ek nai drishti se dekhti hai balki jasusi ki tamam puratan-aitihasik taknikon ka vishad vivechan bhi karti hai. Chanakya ke bare mein prachlit anaginat mithkon se itar ismen hamein unka vah rup dikhlai padta hai, jo jasusi ka shastr viksit karta hai aur use rajnitishastr ka apariharya ang banakar magadh samrajya ke shaktishali kintu ahankari shasak dhannand ka ant sambhav karta hai. Beshak dhannand ka mahamatya katyayan jo itihas mein rakshas ke rup mein prsiddh hai, bhi jasusi mein kam prvin na tha, lekin uske paas keval satta-bal tha. Uski jasusi vidya naitikta ki bajay niji svarthaparta se sanchalit thi. Lekin chanakya ne apni jasusi mein vyavharikta aur naitikta ka samanjasya hamesha banaye rakha aur magadh samrajya ki janta ke kalyan ke uddeshya ko kabhi nahin bhula. Ye upanyas dikhlata hai ki chanakya ne samrat dhannand ko khun ki ek bhi bund bahaye bina apne buddhibal se magadh samrajya ke sinhasan se apdasth kiya aur chandrgupt ko us par bithakar rashtr ke sudridh bhavishya ka marg prshast kiya. Ismen itihas ka nirman karne mein mahatvpurn bhumika nibhane vala vah jasusi tantr apne pure vistar mein dikhlai padta hai, jo hamesha se nepathya mein rahkar hi apna kaam karta hai. Itihas ka ek mahatvpurn kalkhand is upanyas ka aadhar hai. Lekin ye ek sahityik kriti hai. Isaliye itihas ko duhrane ki bajay ismen us kalkhand ke aitihasik marm ko tathysangat dhang se prastut kiya gaya hai, jiski prasangikta aaj bhi qayam hai. Upanyas mein lekhak ne jasusi ki aadhunik vidhiyon ka bhi paryapt ullekh kiya hai aur tamam aitihasik aur aadhunik sandarbhon se use vishsniy banaya hai. Is lihaj se ye khasa shodhpurn upanyas hai, khaskar isaliye bhi ki khud lekhak bhi lambe samay tak jasusi seva mein raha hai. Behad pathniy aur romanchak kriti!—shashibhushan dvivedi