Look Inside
Chakravayuh
Chakravayuh

Chakravayuh

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Chakravayuh

Chakravayuh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

समकालीन हिन्दी कविता में जब भी नई कविता दौर की चर्चा होती है, कुँवर नारायण कुछ-कुछ अलग खड़ा नज़र आते हैं। इसका कारण है उनकी काव्य-संवेदना का निर्बन्ध होना। अपने दौर के कविता-आग्रहों को अपनी कविता में उन्होंने अपनी ही तरह स्वीकार किया; अपने कवि-स्वभाव और भारतीय काव्य-परम्परा को अस्वीकार कर कविता करना उन्होंने कभी नहीं ‘सीखा’।
‘चक्रव्यूह’ की कविताएँ इस नाते आज दस्तावेज़ी महत्त्व रखती हैं। उनमें एक अलग ही तरह का ‘कवि समय’ मौजूद है।
कुँवर नारायण के इस संग्रह का पहला संस्करण 1956 में प्रकाशित हुआ था। आकस्मिक नहीं कि ये कविताएँ आज भी हमारे संवेदन को गहरे तक छूती हैं। संगृहीत कविताओं में जो एक व्यवस्था है, चार खंडों में उन्हें जिन उपशीर्षकों (‘लिपटी परछाइयाँ’, ‘चिटके स्वप्न’, ‘शीशे का कवच’ और ‘चक्रव्यूह’) के अन्तर्गत रखा गया है; उसका वैयक्तिक नहीं, वैश्विक सन्दर्भ है लेकिन जिसे समझने के लिए स्वाधीनोत्तर भारतीय मन को ही नहीं, भारतीय राज्य-व्यवस्था के चरित्र को भी ध्यान में रखना होगा। कुँवर यदि यह जानते हैं कि कल का (या आज का) अभिमन्यु ‘ज़िन्दगी के नाम पर/हारा हुआ तर्क’ है तो यह कहने का साहस भी रखते हैं कि ‘छल के लिए उद्यत/व्यूह-रक्षक वीर कायर हैं’। अनुष्ठानपूर्वक, पूजकर मारे जानेवाले जीव की पीड़ा कवि-संवेदना से एकमेक होकर समष्टि की पीड़ा बन जाती है; और ऐसे में ईश्वर उसका अन्तिम भय।
संक्षेप में कहा जाए तो कुँवर नारायण की समग्र काव्य-चेतना और उसकी विकास-यात्रा में उनके इस कविता-संग्रह का मूल्य-महत्त्व बार-बार उल्लेखनीय है। Samkalin hindi kavita mein jab bhi nai kavita daur ki charcha hoti hai, kunvar narayan kuchh-kuchh alag khada nazar aate hain. Iska karan hai unki kavya-sanvedna ka nirbandh hona. Apne daur ke kavita-agrhon ko apni kavita mein unhonne apni hi tarah svikar kiya; apne kavi-svbhav aur bhartiy kavya-parampra ko asvikar kar kavita karna unhonne kabhi nahin ‘sikha’. ‘chakravyuh’ ki kavitayen is nate aaj dastavezi mahattv rakhti hain. Unmen ek alag hi tarah ka ‘kavi samay’ maujud hai.
Kunvar narayan ke is sangrah ka pahla sanskran 1956 mein prkashit hua tha. Aakasmik nahin ki ye kavitayen aaj bhi hamare sanvedan ko gahre tak chhuti hain. Sangrihit kavitaon mein jo ek vyvastha hai, char khandon mein unhen jin upshirshkon (‘lipti parchhaiyan’, ‘chitke svapn’, ‘shishe ka kavach’ aur ‘chakravyuh’) ke antargat rakha gaya hai; uska vaiyaktik nahin, vaishvik sandarbh hai lekin jise samajhne ke liye svadhinottar bhartiy man ko hi nahin, bhartiy rajya-vyvastha ke charitr ko bhi dhyan mein rakhna hoga. Kunvar yadi ye jante hain ki kal ka (ya aaj kaa) abhimanyu ‘zindgi ke naam par/hara hua tark’ hai to ye kahne ka sahas bhi rakhte hain ki ‘chhal ke liye udyat/vyuh-rakshak vir kayar hain’. Anushthanpurvak, pujkar mare janevale jiv ki pida kavi-sanvedna se ekmek hokar samashti ki pida ban jati hai; aur aise mein iishvar uska antim bhay.
Sankshep mein kaha jaye to kunvar narayan ki samagr kavya-chetna aur uski vikas-yatra mein unke is kavita-sangrah ka mulya-mahattv bar-bar ullekhniy hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products